Connect with us

गोवा

गोवा : निर्वाचन आयोग के फरमान की हिटलर से तुलना

Published

on

पणजी। गोवा सरकार के कर्मचारी संघ ने रविवार को एक हालिया निर्देश की तुलना हिटलर के नेतृत्व में जर्मनी में लागू किए जाने वाले फरमानों से की। इस निर्देश के तहत बूथ स्तर के निर्वाचन अधिकारियों को 30 सितंबर को दशहरा के अवकाश के दौरान काम करने के लिए बाध्य किया गया। संघ के अध्यक्ष जॉन नाजारेथ ने सहायक निर्वाचन अधिकारी (एईआरओ) के निर्देशों की निंदा करते हुए एक बयान में कहा, ‘‘काम के अनियोजित घंटों में काम करने के इस प्रकार के निर्देश केवल जर्मनी में एडोल्फ हिटलर द्वारा ही दिए जाते थे। भारत एक लोकतांत्रिक देश है। हम मानवाधिकारों और मूल्यों को काफी महत्व देते हैं।’’

बयान के मुताबिक, ‘‘चुनाव प्रशासन द्वारा ऐसे निर्देश जारी किया जाना साबित करता है कि उन्हें लगने लगा है कि वे कानून से बढक़र हैं। यह एक सुनियोजित कानून है कि कर्मचारियों के साप्ताहिक काम के घंटे 40 घंटे से ज्यादा नहीं हो सकते। कामगार वर्ग के कल्याण के लिए संयुक्त राष्ट्र भी इस पर बल देता है।’’ नाजारेथ ने कहा कि शुक्रवार रात को एईआर के अधिकारियों द्वारा अचानक एक फरमान जारी किया गया, जिसके तहत बूथ स्तर के निर्वाचन अधिकारियों को 30 सितंबर को सुबह 9.30 बजे से लेकर शाम 5.30 बजे तक अपने चुनाव बूथों में विशेष शिविर आयोजित करने को कहा गया। ये आदेश एईआरओ द्वारा जारी किए गए, जो राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी के आदेश के तहत काम करते हैं।

नाजारेथ ने सरकार के आदेश को मानवाधिकारों का उल्लंघन बताते हुए कहा, ‘‘उन्हें शाम पांच बजे कॉल करके रिपोर्ट देने का निर्देश भी दिया गया। एईआरओ द्वारा हाल ही में जारी निर्देश बीएलओ (बूथ स्तर के अधिकारियों) को अपने कार्यालय के समय के बाद, शनिवार, रविवार और सार्वजनिक अवकाश पर भी काम करने का जनादेश देता है।’’ नाजारेथ ने कहा, ‘‘संगठन निर्वाचन अधिकारियों से ऐसे तानाशाही रवैये पर तत्काल लगाम लगाने का आग्रह करता है। अन्यथा जीजीईए सभी उप जिला मुख्यालयों में प्रतीकात्मक मार्च आयोजित करने और इस मुद्दे को उठाने में तनिक भी नहीं हिचकिचाएगा।’’ राज्य सरकार के 50,000 नौकरशाहों में से अधिकांश गोवा सरकारी कर्मचारी संगठन के सदस्य हैं।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Top News

गोवा में मिग -29के विमान दुर्घटनाग्रस्त, दोनों पायलट सुरक्षित

—दोनों पायलट सुरक्षित बाहर निकालने में कामयाब रहे
—दुर्घटना में शामिल विमान फाइटर जेट का ट्रेनर संस्करण था

Published

पणजी,(नसीब सैनी)।

गोवा में शनिवार को आईएनएस हंसा से प्रशिक्षण मिशन के तहत उड़ान भरने के तुरंत बाद भारतीय नौसेना का एक मिग-29के ट्रेनर विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। यह दुर्घटना डाबोलिम में हुई। हालांकि दोनों पायलट सुरक्षित बाहर निकलने में कामयाब रहे। दुर्घटना में शामिल विमान फाइटर जेट का ट्रेनर संस्करण था।

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि ट्रेनर विमान के इंजन में आग लग गई। डाबोलिम में एक प्रशिक्षण मिशन के दौरान आईएनएस हंसा से उड़ान भरने के तुरंत बाद इस मिग 29के ट्रेनर विमान के इंजन में आग लग गई। विमान के दोनों पायलट कैप्टन एम. श्योखंड और लेफ्टिनेंट कमांडर दीपक यादव सुरक्षित बाहर निकलने में कामयाब रहे।

विमान का मलबा जिस इलाके में फैला हुआ है, वह पठारी और खुला इलाका है। फिलहाल प्रशासन ने इलाके को खाली करा लिया है। विस्तृत व्योरे की प्रतीक्षा है।

नसीब सैनी

Continue Reading

Top News

सुप्रीम कोर्ट ने तरुण तेजपाल की अर्जी खारिज की, चलेगा यौन उत्पीड़न का केस

तरुण तेजपाल के खिलाफ गोवा में एक कार्यक्रम के दौरान लिफ्ट में अपने एक महिला सहकर्मी का यौन शोषण करने का केस चल रहा है

नई दिल्ली,(नसीब सैनी)।

सुप्रीम कोर्ट ने यौन उत्पीड़न के आरोपित पत्रकार तरुण तेजपाल की अपने खिलाफ चल रहे मामलों को निरस्त करने की मांग करनेवाली याचिका खारिज कर दिया है। कोर्ट ने गोवा के ट्रायल कोर्ट को निर्देश दिया है कि वह छह महीने के अंदर ट्रायल पूरा करें। पिछले 6 अगस्त को कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया था।

तरुण तेजपाल ने अपने खिलाफ गोवा में चल रहे मुकदमे को निरस्त करने की मांग की थी। तेजपाल ने बांबे हाईकोर्ट के उस फैसले को चुनौती दी थी जिसमें हाईकोर्ट ने रेप के आरोपों को निरस्त करने की याचिका खारिज कर दी थी। याचिका में तेजपाल ने कहा था कि पीड़िता के बयानों और वीडियो रिकार्डिंग में एकरुपता नहीं है।

तरुण तेजपाल के खिलाफ गोवा में एक कार्यक्रम के दौरान लिफ्ट में अपने एक महिला सहकर्मी का यौन शोषण करने का केस चल रहा है।

नसीब सैनी

Continue Reading

NEWS

गोवा में नए मुख्यमंत्री को लेकर सियासत तेज, भाजपा और कांग्रेस ने पेश किया सरकार बनाने का दावा

गौरतलब है कि गोवा में विधानसभा की कुल 40 सीटें हैं। भाजपा विधायक फ्रांसिस डिसूजा के निधन, कांग्रेस से सुभाष शिरोडकर और दयानंद सोप्ते के इस्तीफा देने के चलते सूबे में अब 36 विधायक ही बचे हैं

नई दिल्ली,गोवा के मुख्यमंत्री और पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के नबाद सूबे में नए मुख्यमंत्री को लेकर सियासत तेज हो गई है। कांग्रेस और भाजपा ने देर रात अपने विधायक दल की बैठक बुलाई ताकि नए मुख्यमंत्री उम्मीदवार का चयन हो सके लेकिन दोनों ही पार्टियों में आम सहमति नहीं बन पाई है।

इस बीच आज भाजपा और कांग्रेस ने राज्यपाल के समक्ष अपनी- अपनी सरकार बनाने का दावा पेश किया है। तेजी से बदल रहे घटनाक्रम के बीच गोवा भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष ने कहा है कि आज अगले कुछ घंटे के भीतर ही मुख्यमंत्री के नाम पर हम फैसला कर लेंगे।

मनोहर पर्रिकर का आज शाम पांच बजे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा। आज पर्रिकर की पार्थिव देह को भाजपा कार्यालय से लगभग तीन किमी दूर कला अकादमी लाया गया, जहाँ आम जनता उनको श्रद्धांजलि अर्पित करेगी। प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा प्रमुख अमित शाह के भी जल्द ही गोवा पहुंचने की उम्मीद है।

पर्रिकर के निधन के घंटों बाद गोवा में राजनीतिक अनिश्चितता जारी है, क्योंकि भाजपा के नेतृत्व वाला गठबंधन अगले मुख्यमंत्री के नाम पर आम सहमति नहीं बना सका है। केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता नितिन गडकरी, जो रविवार रात पणजी पहुंचे, ने सभी गठबंधन सहयोगियों और भाजपा विधायकों से गतिरोध को हल करने के लिए बात की। हालांकि बैठक के विवरण को सार्वजनिक नहीं किया गया है। डिप्टी स्पीकर माइकल लोबो ने इंतजार कर रहे मीडियाकर्मियों को बताया कि महाराष्ट्र गोमांतक पार्टी के नेता सुदीन धवलीकर ने गोवा के अगले मुख्यमंत्री बनने की इच्छा व्यक्त की थी।

इस बीच गोवा विधानसभा के अध्यक्ष प्रमोद सावंत का नाम भी मुख्यमंत्री पद के लिए आज दोपहर बाद तेजी से चर्चा में आया है।
उधर, कांग्रेस ने राज्यपाल मृदुला सिन्हा को आज एक ताजा पत्र लिखकर सूबे में सरकार बनाने का दावा किया है। पत्र में तर्क दिया गया है कि भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार में गठबंधन के सहयोगियों ने केवल उस गठबंधन के लिए सहमति व्यक्त की थी जिस सरकार का नेतृत्व पर्रिकर कर रहे थे। कांग्रेस ने लिखा है कि इसलिए मौजूदा समय में अब भाजपा के साथ कोई और सहयोगी नहीं है। इसलिए अब कांग्रेस को सरकार बनाने का मौका मिलना चाहिए।

गौरतलब है कि गोवा में विधानसभा की कुल 40 सीटें हैं। भाजपा विधायक फ्रांसिस डिसूजा के निधन, कांग्रेस से सुभाष शिरोडकर और दयानंद सोप्ते के इस्तीफा देने के चलते सूबे में अब 36 विधायक ही बचे हैं। सोप्ते और शिरोडकर भाजपा में शामिल हो चुके हैं। इसके चलते कांग्रेस पर अब 16 की बजाय 14 विधायक ही बचे हैं, जबकि भाजपा के पास 12 विधायक हैं। हालांकि भाजपा को गोवा फॉरवर्ड पार्टी के तीन, महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी के तीन और एनसीपी के एक विधायक के अलावा एक निर्दलीय का भी समर्थन हासिल है। इस तरह भाजपा के पास कुल 20 विधायकों का समर्थन है।

नसीब सैनी/अभिषेक मेहरा

Continue Reading

Featured Post

Top News11 महीना पूर्व

रॉबर्ट वाड्रा की गिरफ्तारी पर 5 फरवरी तक जारी रहेगी रोक

---हाईकोर्ट जस्टिस मनोज कुमार गर्ग की कोर्ट ने अधिवक्ता भंवरसिंह मेड़तिया के निधन के बाद कोर्ट में 3.45 बजे रेफरेंस...

Top News11 महीना पूर्व

बिजनौर कोर्ट शूटकांड : हाईकोर्ट ने डीजीपी और अपर मुख्य सचिव (गृह) को किया तलब

---दरअसल, बिजनौर में 28 मई को नजीबाबाद में हुई बसपा नेता हाजी अहसान व उनके भांजे शादाब की हत्या के...

Top News11 महीना पूर्व

निर्भया केस: दोषी अक्षय की पुनर्विचार याचिका खारिज, फांसी की सजा बरकरार

---सुप्रीम कोर्ट ने कहा-पुनर्विचार याचिका में कोई नए तथ्य नहीं, इसलिए ख़ारिज होने योग्य

Top News11 महीना पूर्व

कतर टी-10 लीग पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की आईसीसी ने शुरु की जांच

--उल्लेखनीय है कि कतर टी-10 लीग का आयोजन सात से 16 दिसम्बर तक कतर क्रिकेट संघ ने किया था

Top News11 महीना पूर्व

बिजनौर कोर्ट रूम में हुई हत्या मामले में चौकी प्रभारी समेत 18 पुलिसकर्मी सस्पेंड

---एसपी ने बताया कि कोर्ट में दिनदहाड़े कुख्यात बदमाश शाहनवाज की हत्या के बाद जजी परिसर में सुरक्षा की पोल...

Recent Post

Trending

Copyright © 2018 Chautha Khambha News.

Web Design BangladeshBangladesh online Market