Connect with us

Top News

तमिलनाडु : तूतीकोरिन में वेदांता के प्लांट के खिलाफ उग्र हुआ प्रदर्शन, 11 की मौत, शहर में धारा 144 लागू

तमिलनाडु 23 मई…

तूतीकोरिन में वेदांता के प्लांट के खिलाफ उग्र हुआ प्रदर्शन, 11 की मौत, शहर में धारा 144 लागू

तमिलनाडु के तूतीकोरिन जिले में वेदांता समूह की कंपनी इकाई स्टरलाइट इंडस्ट्रीज इंडिया लिमिटेड के खिलाफ महीनों से चल रहा प्रदर्शन मंगलवार को उस दौरान और हिंसक हो गया जब पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर गोलीबारी कर दी। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक इस फायरिंग में 11 लोगों की मौत हो गई जब्कि 60 लोग घायल बताए जा रहे हैं। मदरास हाईकोर्ट में आज इस मामले पर सुनावई भी होनी है। वहीं मंगलवार को हई गोलीबारी के चलते जिले में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है और धारा 144 लगा दी गई है।  तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के.पलानीस्वामी ने इस घटना के जांच के आदेश दे दिए हैं। मंगलवार को पलानीस्वामी ने कहा कि तूतीकोरिन में वेदांता समूह की इकाई स्टरलाइट इंडस्ट्रीज इंडिया लिमिटेड के विरोध में प्रदर्शन कर रहे लोगों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई में नौ प्रदर्शनकारी मारे गए हैं। इसके साथ ही उन्होंने घटना की न्यायिक जांच कराने की घोषणा की।

उन्होंने कहा कि प्रदर्शनकारी क्षेत्र में निषेधाज्ञा का उल्लंघन कर कलेक्ट्रेट की तरफ जुलूस निकाल रहे थे। मुख्यमंत्री ने एक बयान में कहा कि प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव ही नहीं किया, बल्कि उनके वाहनों और कलेक्ट्रेट में खड़े वाहनों को भी आग लगा दी। पुलिस को लोगों के जानमाल की रक्षा के लिए जरूरी कार्रवाई करनी पड़ी क्योंकि प्रदर्शनकारी बार-बार हिंसा कर रहे थे और पुलिस को इस हिंसा को रोकना था। मुख्यमंत्री ने कहा कि मुझे यह जानकार दुख हुआ कि इस घटना में दुर्भाग्य से नौ लोग मारे गए। उन्होंने मृतकों के परिजनों के प्रति संवेदना और सहानुभूति व्यक्त की।

चौथा खंभा न्यूज़ .com / नसीब सैनी/अभिषेक मेहरा

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Top News

जम्मू-कश्मीर से धारा 144 हटने के बाद एक बार फिर खुले सभी शिक्षा संस्थान

—कश्मीर घाटी की आम जनता भी अपने रोजाना के कामों के लिए बाहर निकल रही है

Published

जम्मू,(नसीब सैनी)।

अयोध्या मामले पर आए फैसले से पहले केंद्र शासित जम्मू-कश्मीर में एहतियात के तौर पर लगाई गई धारा 144 को प्रशासन ने रविवार देर शाम को हटा लिया। सोमवार को जम्मू-कश्मीर में सभी स्कूल, कालेज, विश्वविद्यालय, दुकानें, व्यापारिक प्रतिष्ठान, सरकारी कार्यालय खुले। सोमवार को सभी परीक्षाएं पहले की तरह ही हुईं। विंटर जोन के स्कूलों में इस समय परीक्षा चला रही है और उसमें कोई भी फेरबदल नहीं किया गया है। सोमवार को सड़कों पर निजी वाहन व सार्वजनिक वाहन भी दौड़ते नजर आए। बाजारों में भी काफी रौनक देखने को मिली। इस सबके बीच राजौरी व पुंछ जिलों में एहतियात के तौर पर सोमवार को कालेज बंद रहे।

कश्मीर घाटी में भी सोमवार को सभी स्कूल, कालेज, विश्वविद्यालय, सरकारी कार्यालय खुले। सड़कों पर निजी वाहन दौड़ते नजर आए। सुबह-शाम दुकानें भी खुली रहीं। सोमवार को कश्मीर घाटी का माहौल शान्त बना रहा। इस बीच प्रशासन ने कश्मीर घाटी में सुरक्षा के प्रबंध पहले की तरह ही रखे हुए थे। कश्मीर घाटी में सभी संवेदनशील स्थानों पर अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती बरकरार है।

घाटी में रेहड़ी फड़ी वालों तथा जमीन पर सामान लगाकर बेचने वालों का भी बाजार गर्म है। कश्मीर घाटी की आम जनता भी अपने रोजाना के कामों के लिए बाहर निकल रही है।

शनिवार को अयोध्या मामले पर आए फैसले के बाद प्रशासन ने केंद्र शासित जम्मू-कश्मीर में एहतियात के तौर पर धारा 144 लागू की थी। इसी बीच शनिवार तथा रविवार को जम्मू-कश्मीर में स्थिति सामान्य होने के चलते प्रशासन ने रविवार शाम को सभी स्कूल, कालेज, विश्वविद्यालय, खोलने के आदेश दे दिए।

नसीब सैनी

Continue Reading

Top News

काचीगुड़ा रेलवे स्टेशन पर दो ट्रेनों की आमने-सामने टक्कर, 20 घायल

—लोकल ट्रेन सिग्नलिंग व्यवस्था में गड़बड़ी के चलते हुआ हादसा
—एक ही लाइन पर आ गयी दो ट्रेनें, पांच बोगियां क्षतिग्रस्त

Published

हैदराबाद (तेलंगाना),(नसीब सैनी)।

हैदराबाद के काचीगुड़ा रेलवे स्टेशन पर एक ही लाइन पर दो ट्रेनों के आ जाने से एक बड़ा हादसा हो गया है। लोकल ट्रेन की पांच बोगी क्षतिग्रस्त हो गयी हैं। हादसे में 20 से अधिक यात्री घायल हुए हैं। घटना की जानकारी होते ही बचाव व राहत दल मौके पर पहुंच गयेे हैंं। राहत व बचाव चल रहा है।

घटना सोमवार को सुबह 10 -30 बजे की है। बताया गया कि काचीगुडा रेलवे स्टेशन पर कुरनूल हैदराबाद इंटरसिटी एक्सप्रेस पहले से ही खड़ी थी। तभी सामने से उसी लाइन पर मल्टी-मोडल ट्रांसपोर्ट सिस्टम (एमएमटीएस) की हैदराबाद से फलकनामा जाने वाली लोकल ट्रेन आ गई। दोनों की आमने-सामने भिड़ंत में एमएमटीएस लोकल ट्रेन की पांच बोगी क्षतिग्रस्त हो गई हैं। इस ट्रेन का ड्राइवर बुरी तरह से केबिन में फंसा है। घटनास्थल पर एनडीआरएफ टीम पहुंच गई है।

एनडीआरएफ की टीम गैस कटर से केबिन में फंंसे लोको पायलट को बचाने की प्रयास में जुटी है। एमएमटीएस का ड्राइवर की हालत गंभीर बताई जा रही है। ड्राइवर के केबिन में ऑक्सीजन पहुंचा कर उसको फौरी राहत देने की कोशिश की गई। हादसे में बीस लोगों के घायल होने की खबर है। घायल यात्रियों को पास के काचीगुड़ा रेलवे अस्पताल में और गंभीर रूप से घायलों को सरकारी ओस्मानिया अस्पताल ले जाया गया है। हादसे की सूचना मिलते ही मौके पर रेलवे और स्थानीय प्रशासन के अधिकारी पहुंच गए हैं। राहत व बचाव कार्य जारी है।

रेलवे के सूत्रों ने बताया कि प्रारंभिक जांच में एमएमटीएस लोकल ट्रेन सिग्नलिंग व्यवस्था में गड़बड़ी के चलते हादसा हुआ है।

नसीब सैनी

Continue Reading

Top News

फीस बढ़ोत्तरी, हॉस्टल मैन्युअल और ड्रेस कोड को लेकर जेएनयू छात्र-छात्राओं ने किया प्रदर्शन

—बैरीकेड तोड़कर रोड पर आये छात्र
—मांग पूरी नहीं हुई तो प्रदर्शन जारी रहेगा

Published

नई दिल्ली,(नसीब सैनी)।

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू ) के छात्र फीस बढ़ोत्तरी, हॉस्टल मैन्युअल और ड्रेस कोड को लेकर पिछले करीब 11 दिनों से प्रदर्शन कर रहे हैं। सोमवार को जेएनयू का तीसरा दीक्षांत समारोह आयोजित हो रहा है। इसमें बतौर मुख्य अतिथि उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और शिक्षा मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक पहुंचे हैं। इस बीच दोबारा जेएनयू  के छात्र-छात्राओं ने प्रदर्शन किया।

बैरीकेड तोड़कर रोड पर आये छात्र 

प्रदर्शन कर रही जेएनयू छात्रा मिंदू ने बताया कि फीस में हुए इजाफे समेत कई मुद्दों पर बीते 11 दिनों से प्रदर्शन कर रहे हैं। प्रदर्शन की सूचना मिलते ही लोकल पुलिस व अर्धसैनिक बल मौके पर पहुंची और छात्र-छात्राओं को रोकने का प्रयास किया। पुलिस के रोकने पर छात्र-छात्राएं उग्र हो गए और पुलिस की तीन बैरीकेड को तोड़ते हुए वह नेल्सन मंडेला रोड पर आ गये। यहां छात्रों ने रोड को पूरी तरह से जाम कर दिया। हालात बेकाबू होते देख पुलिस ने हल्का बल का प्रयोग कर करीब 150 से ज्यादा छात्र-छात्राओं को हिरासत में लिया। खबर लिखे जाने तक छात्र-छात्राओं का प्रदर्शन जारी है।

मांग पूरी नहीं हुई तो प्रदर्शन जारी रहेगा 

प्रदर्शन कर रहीं मिंदू छात्रा का कहना है कि वह दीक्षांत समारोह के कार्यक्रम स्थल के पास ही प्रदर्शन करेंगी। मिंदू के अनुसार वह पिछले करीब 11 दिनों से फीस में इजाफे का विरोध कर रही हैं। जेएनयू में कम से कम 40 फीसदी छात्र-छात्राएं ऐसे हैं जो गरीब परिवारों से आते हैं। ऐसे में आखिर ये छात्र-छात्राएं कैसे अपनी पढ़ाई कर पाएंगे। दक्षिण पश्चिम जिले के डीसीपी देवेन्द्र आर्या ने बताया कि उक्त मामले में अभी तक कोई केस दर्ज नहीं किया गया है। पुलिस छात्र-छात्राओं का समझाने का प्रयास कर रही है।

नसीब सैनी

Continue Reading

Featured Post

Top News18 घंटे पूर्व

सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक फोटो डालने वाले आरोपी को जेल

---पुलिस अधीक्षक वीरेंद्र कुमार मिश्र के निर्देश पर सोशल मीडिया सेल ने आरोपी की पहचान कर दबोच लिया

Top News19 घंटे पूर्व

पुलिस विवादित और भड़काऊ पोस्ट पर कर रही है गिरफ्तार

---सबसे अधिक ट्विटर पर 5294, फेसबुक 2220 और यू-ट्यूब के 167 वीडियो व प्रोफाइल के खिलाफ रिपोर्ट की गई

Top News3 दिन पूर्व

कर्ज नहीं चुकाने की वजह से अनिल अंबानी के खिलाफ मामला दर्ज

---इससे पहले भी एरिक्शन में इसी तरह का विवाद सामने आया था। रिलायंस कम्युनिकेशन्स को एरिक्शन को 550 करोड़ रुपये...

Top News4 दिन पूर्व

पत्रकार के साथ बदसलूकी करने के मामले में बीजद सांसद के खिलाफ मामला दर्ज

---इस मामले में अभी तक सांसद ने क्षमायाचना नहीं की है और न ही बीजद की ओर से कोई आधिकारिक...

Top News4 दिन पूर्व

लड़की पैदा होने पर पत्नी को दिया तीन तलाक,पुलिस ने पति को भेजा नोटिस

---महिला का आरोप है कि उसके पति ने कहा कि अब उससे कोई लेना-देना नहीं है

Recent Post

Trending

Copyright © 2018 Chautha Khambha News.

Web Design BangladeshBangladesh online Market