Connect with us

चंडीगढ़

निकाय चुनाव : पांचों निगमों में भाजपा प्रत्याशी आगे

Published

on

चंडीगढ़,
नसीब सैनी/अभिषेक महेरा 

प्रदेश के पांच नगर निगमों में भाजपा प्रत्याशी आगे चल रहे हैं। हालांकि सीएम सिटी करनाल में कांटे का मुकाबला रहा| इसके बावजूद भाजपा प्रत्याशी ने जीत दर्ज की। करनाल में इनेलो व कांग्रेस का साझा समर्थित उम्मीदवार चुनाव मैदान में था। बुधवार को राज्य चुनाव आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक सुबह 10 बजे तक हिसार से भाजपा प्रत्याशी गौतम सरदाना को 2665 मिले हैं, जबकि कांग्रेस समर्थित प्रत्याशी रेखा ऐरन को 2459 मत हासिल हुए हैं। इसके साथ ही करनाल में भाजपा समर्थित रेणू बाला को 7290 और इनेलो व कांग्रेस समर्थित आशा वधवा को 7126, पानीपत में भाजपा प्रत्याशी की जीत लगभग तय मानी जा रही है। अभी अवनीत कौर को 19592 व कांग्रेस समर्थित अंशु पाहवा को 6483 वोट हासिल हुए हैं। रोहतक में भाजपा प्रत्याशी मनमोहन गोयल आगे चल रहे हैं, उन्हें अभी 8258 मत मिले हैं, जबकि कांग्रेस समर्थित उम्मीदवार सीताराम सचदेवा को 5605 मत और यमुनानगर में भाजपा के मदन सिंह को 5409 तथा बसपा के संदीप कुमार गोयल को 4342 वोट मिले हैं। 
जारी…

नसीब सैनी/अभिषेक महेरा 

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Top News

मोहाली में स्कूल के बाहर अध्यापिका की गोली मारकर हत्या

–फ्रांस से लौटी अध्यापिका बेटी के साथ पहुंची थी स्कूल
–जांच में शक की सुई पूर्व पति पर घूमी

Published

चंडीगढ़,(नसीब सैनी)।

चंडीगढ़-लुधियाना मार्ग पर खरड़ के निकट गुरुवार की सुबह एक व्यक्ति ने निजी स्कूल की अध्यापिका की गोली मारकर हत्या कर दी। घटना के समय महिला पार्किंग में स्कूटी खड़ी करके स्कूल के अंदर प्रवेश करने की तैयारी में थी। घटना के समय अध्यापिका की बेटी  तथा उसके साथ एक अन्य महिला अध्यापिका भी पार्किंग में ही स्कूटी खड़ी कर रही थी। पुलिस इस मामले को निजी रंजिश तथा सुपारी कीलिंग से जोड़ रही है। 

फाइल फोटो

घटना के बाद स्कूल बंद कर दिया गया है। स्कूल प्रबंधकों ने पूरी घटना से पल्ला झाड़ लिया है। हमलावर की भागते समय की तस्वीरें स्कूल की बांउडरी वाल पर लगे सीसीटीवी में कैद हो गई है जिसके आधार पर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। अभी तक हुई जांच में पुलिस को सुराग मिला है कि महिला की हत्या में उसके पूर्व पति का हाथ है। मोहाली जिला के गांव रामगढ़ निवासी महिला अध्यापिका सरबजीत कौर खरड़ के निकट द नॉलेज बस स्कूल में कार्यरत थी। यह स्कूल बेहद भीड़भाड़ वाले क्षेत्र में स्थित है। मुख्य मार्ग से सटा होने तथा स्कूल के सामने ही मंदिर होने के कारण यहां सुबह से ही आवागमन शुरू हो जाता है। सरबजीत कौर रोजाना की भांति गुरुवार की सुबह करीब आठ बजे स्कूटी पर सवार होकर अपनी बेटी के साथ स्कूल पहुंची थी। 

सरबजीत कौर स्कूटी खड़ी करके जैसी ही स्कूल जाने लगी तो एक नकाबपोश ने उसे गोली मार दी। गोली लगते ही वह मौके पर ढेर हो गई। स्कूल प्रबंधकों तथा आसपास के लोगों की मदद से उसे मोहाली के मैक्स अस्पताल ले जाया गया जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। घटना की सूचना मिलते ही मोहाली के एसएसपी कुलदीप चाहल तथा अन्य आला पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर मामले की जांच शुरू कर दी है।

शक की सूई पूर्व पति पर घूमी:  मोहाली पुलिस ने इस मामले में की गई जांच में पता संदेह की सुई मृतका के पूर्व पति की तरफ घूम रही है। मृतका कुछ समय पहले तक फ्रांस में अपने पति के साथ रहती थी। हाल ही में पति के साथ तलाक के बाद ही वह यहां आई थी। तलाक के बावजूद उसका पति उसका पीछा कर रहा था। पुलिस को आशंका है कि पूर्व पति ने ही सुपारी देकर या खुद शामिल होकर इस घटना को अंजाम दिया है। मोहाली के एसएसपी कुलदीप सिंह चाहल के अनुसार घटना की जांच के लिए टीमों का गठन कर दिया गया है। कई पहलुओं को आधार बनाकर जांच की जा रही है।

नसीब सैनी

Continue Reading

Top News

नवजोत सिद्धू ने फिर पाकिस्तान जाने की मांगी इजाजत, विदेश मंत्री को लिखा पत्र

—नौ नवम्बर को सुबह 9.30 बजे से पहले करतारपुर गलियारे से पाकिस्तान जाना चाहते हैं

Published

चंडीगढ़,(नसीब सैनी)।

पाकिस्तान में नौ नवम्बर को हो रहे करतारपुर कॉरिडोर के उद्धघाटन समारोह में भाग लेने के लिए पूर्व कैबिनेट मंत्री एवं कांग्रेसी विधायक नवजोत सिंह सिद्धू ने आज फिर से विदेश मंत्री एस जयशंकर को पत्र लिखकर इजाजत मांगी है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने करतारपुर कॉरिडोर के उद्वघाटन समारोह में शामिल होने के लिए गत दिवस नवजोत सिंह सिद्धू को न्योता दिया था। नवजोत सिंह सिद्धू ने चार दिन पहले भी विदेश मंत्री एवं पंजाब के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर पाकिस्तान जाने की अनुमति मांगी थी लेकिन उस पत्र पर अभी तक कोई जवाब नहीं मिला।

बुधवार को नवजोत सिंह सिद्धू ने पत्र में लिखा है कि वह नौ नवम्बर को सुबह 9.30 बजे से पहले करतारपुर गलियारे से पाकिस्तान जाना चाहते हैं। इसके बाद वह गुरुद्वारा दरबार साहिब (करतारपुर) में नतमस्तक होकर और संगत के साथ लंगर खाने के बाद करतारपुर गलियारे के उद्धघाटन समारोह में शिरकत करेंगेे। उसी दिन शाम तक गलियारे के जरिए भारत लौटेंगे। 

उन्होंने लिखा है कि अगर यह संभव नहीं है तो वह आठ नवम्बर को वाघा सीमा के जरिये गुरुद्वारा श्री दरबार साहिब (करतारपुर) जाएंगे और नौ नवम्बर को करतारपुर गलियारे के उद्धघाटन समारोह में शामिल होंगे। उन्होंने लिखा है कि इस समय उनके पास पाकिस्तान का वीजा नहीं है।

नसीब सैनी

Continue Reading

Top News

पंजाब का खजाना खाली, सरकार फिर भी पूर्व विधायकों की पेंशन बढ़ाने की तैयारी में

—पिछले पांच वर्ष के आंकड़ों के मुताबिक विधायकों की आर्थिक सुविधाओं में चार गुना से अधिक की वृद्धि हुई है

Published

चंडीगढ़,(नसीब सैनी)।

पंजाब सरकार का खजाना खाली है। कैप्टन के सूबे की रिआया बेहाल हैं। कर्मचारी परेशान हैं। मगर ऐसा लगता है कि इससे राज्य की कैप्टन अमिरंदर सिंह सरकार को मतलब नहीं है। उसे चिंता अपने पूर्व माननीयों की है। तभी तो पंजाब सरकार पूर्व विधायकों की पेंशन में वृद्धि करने की तैयारी में है। इस आशय का प्रस्ताव विधि विभाग को भेजने के बाद वित्त विभाग के पास भेजा जा चुका है। कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार इस प्रस्ताव को 6 नवम्बर को होने वाली मंत्रिमंडल की बैठक में लाने के कोशिश में है। 

प्रस्ताव यह है कि पूर्व विधायकों को प्रति माह मिलने वाली 15,000 रुपये की पेंशन को 22,000 रुपये किया जाएगा। माननीयों के लिए सुखद यह है कि जो जितनी बार विधायक चुना जाएगा, उतनी ही बार उसे पेंशन मिलेगी। सरकार पूर्व माननीयों को यह तोहफा गुरुनानक देव जी के प्रकाशोत्सव पर देना चाहती है। 2016 में पहली बार विधायक चुने गए नेताओं की पेंशन दस हजार रुपये से बढ़ाकर 15,000 रुपये की गई थी। एक बार से ज्यादा विधायक चुने गए नेताओं की पेंशन 7500 रुपये से बढ़ाकर 10,000 रुपये प्रति माह की गई थी। इसे भी बढ़ाकर 15, 000 रुपये प्रति माह करने का प्रस्ताव है।  

पिछले पांच वर्ष के आंकड़ों के मुताबिक विधायकों की आर्थिक सुविधाओं में चार गुना से अधिक की वृद्धि हुई है। वर्ष 2007-08 में हर  विधायक को 4.89 लाख रुपये सालाना मिलते थे। अब उन्हें 18. 76 लाख रुपये मिल रहे हैं।  विधानसभा का बजट इसमें शामिल नहीं है। विधायकों, मंत्रियों आदि पर सरकार प्रति वर्ष 300 करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च करती है। पंजाब के अमीर विधायक और मंत्री भी सुविधाओं को लेने में देरी नहीं करते।

यह प्रस्ताव ऐसे गाढ़े वक्त पर आ रहा है जब आर्थिक तंगी के चलते कांग्रेस सरकार अपने चुनाव घोषणा पत्र में किए गए वादे पूरे नहीं कर पा रही। कर्मचारी वेतन और भत्तों को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। पंजाब की आय भी दिन-प्रतिदिन कम हो रही है। शराब , स्टाम्प ड्यूटी और पेट्रोल से होने वाली आय भी कम हो चुकी है। सरकार 17770 करोड़ रुपये तो ब्याज के रूप में अदा कर चुकी है। व्यापार ठप है। पूंजीगत खर्च में 12 प्रतिशत की गिरावट से साफ है कि विकास कार्यों के खर्च में कमी की गई है।

नसीब सैनी

Continue Reading

Featured Post

Top News10 महीना पूर्व

रॉबर्ट वाड्रा की गिरफ्तारी पर 5 फरवरी तक जारी रहेगी रोक

---हाईकोर्ट जस्टिस मनोज कुमार गर्ग की कोर्ट ने अधिवक्ता भंवरसिंह मेड़तिया के निधन के बाद कोर्ट में 3.45 बजे रेफरेंस...

Top News10 महीना पूर्व

बिजनौर कोर्ट शूटकांड : हाईकोर्ट ने डीजीपी और अपर मुख्य सचिव (गृह) को किया तलब

---दरअसल, बिजनौर में 28 मई को नजीबाबाद में हुई बसपा नेता हाजी अहसान व उनके भांजे शादाब की हत्या के...

Top News10 महीना पूर्व

निर्भया केस: दोषी अक्षय की पुनर्विचार याचिका खारिज, फांसी की सजा बरकरार

---सुप्रीम कोर्ट ने कहा-पुनर्विचार याचिका में कोई नए तथ्य नहीं, इसलिए ख़ारिज होने योग्य

Top News10 महीना पूर्व

कतर टी-10 लीग पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की आईसीसी ने शुरु की जांच

--उल्लेखनीय है कि कतर टी-10 लीग का आयोजन सात से 16 दिसम्बर तक कतर क्रिकेट संघ ने किया था

Top News10 महीना पूर्व

बिजनौर कोर्ट रूम में हुई हत्या मामले में चौकी प्रभारी समेत 18 पुलिसकर्मी सस्पेंड

---एसपी ने बताया कि कोर्ट में दिनदहाड़े कुख्यात बदमाश शाहनवाज की हत्या के बाद जजी परिसर में सुरक्षा की पोल...

Recent Post

Trending

Copyright © 2018 Chautha Khambha News.

Web Design BangladeshBangladesh online Market