Connect with us

Top News

पलड़ा भले ही चेन्नई की ओर झुका हो लेकिन, यहां शेर से शेर ही भिड़ रहा है

22 मई

धोनी की चेन्नई सुपर किंग्स दोनों लीग मैचों में सनराइजर्स हैदराबाद पर भारी पड़ी है, लेकिन वानखेड़े पर हो रहे इस मैच में हैदराबाद के हाथ में भी बहुत कुछ है

पिछले करीब डेढ़ महीने से चल रहे आईपीएल-11 का सफर अब प्लेऑफ के दौर में पहुंच गया है. मंगलवार को मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में क्वालीफायर-1 का मुकाबला खेला जाएगा. इसमें दो बार की चैंपियन चेन्नई सुपर किंग्स का मुकाबला सनराइजर्स हैदराबाद से होना है. इस मैच को जीतने वाली टीम सीधे फाइनल में जगह बनाएगी. हालांकि, इस मुकाबले में हारने वाली टीम के लिए भी फाइनल में पहुंचने की उम्मीद बरकरार रहेगी. उसे 25 मई को क्वालीफायर-2 के जरिये फाइनल में पहुंचने का एक और मौका मिलेगा. चेन्नई और हैदराबाद दोनों ही क्वालीफायर-2 का मुकाबला खेलने से बचना चाहेंगी और आज का मुकाबला जीतकर सीधे फाइनल में पहुंचने की कोशिश करेंगी. आइए जानते हैं इन दोनों टीमों के मजबूत और कमजोर पक्षों के बारे में जो आज के मुकाबले में नतीजा तय करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकते हैं.

सनराइजर्स हैदराबाद

इस आईपीएल में सनराइजर्स हैदराबाद एक ऐसी टीम थी जिसने अपने प्रदर्शन से कई बार हैरान किया. हैरानी दो वजहों से थी इस टूर्नामेंट में यह इकलौती ऐसी टीम है जिसने लगातार छह मैच जीते हैं. साथ ही इनमें से पांच मैच उसने अपनी गेंदबाजी के दम पर जीते. इनमें से कुछ मैच तो ऐसे थे जिनमें उसकी हार निश्चित मानी जा रही थी लेकिन, गेंदबाजों ने पासा पलट दिया. इस टूर्नामेंट में सनराइजर्स हैदराबाद के गेंदबाज औसतन हर 25 रन के बाद एक विकेट झटकने में कामयाब हुए हैं. यह इकलौती ऐसी टीम भी है जिसके गेंदबाजों ने 8.19 के सबसे कम इकॉनमी से रन दिए हैं. कुल मिलाकर कहें तो गेंदबाजी हैदराबाद की सबसे बड़ी ताकत है.

सनराइजर्स हैदराबाद के स्पिनर राशिद खान और सकीबुल हसन किसी भी मैच का रुख पलटने की क्षमता रखते हैं | फोटो : एएफपी
सनराइजर्स हैदराबाद के स्पिनर राशिद खान और सकीबुल हसन किसी भी मैच का रुख पलटने की क्षमता रखते हैं | फोटो : एएफपी

लेकिन, हैदराबाद के कप्तान केन विलियमसन के लिए चिंता की बात यह है कि पिछले चार मैचों में उनके गेंदबाज अपने रंग में नहीं दिखे हैं. 10 मई को दिल्ली के खिलाफ हुए मैच में रिषभ पंत ने हैदराबाद के गेंदबाजों की जमकर धुनाई की थी और इसके बाद से गेंदबाज अपनी रौ में नहीं लौट पाए हैं. यही वजह है कि यह टीम अपने पिछले तीन मैच हार गई.

बल्लेबाजी की बात करें तो इस मोर्चे पर सनराइजर्स अपने कप्तान केन विलियमसन पर बहुत ज्यादा निर्भर है. शानदार फॉर्म में चल रहे विलियमसन 60 से ज्यादा के औसत से अब तक 661 रन बना चुके हैं और सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाजों की सूची में दूसरे स्थान पर हैं. विलियमसन के बाद शिखर धवन (437 रन) भी कुछ मैचों से लय में दिख रहे हैं. लेकिन, इन दोनों के अलावा कोई भी बल्लेबाज ऐसा नहीं दिखता जो केवल अपने दम पर सनराइजर्स का सूर्योदय कर सके. हालांकि, मध्यक्रम में मनीष पांडेय, दीपक हुड्डा, युसूफ पठान और सकीबुल हसन सभी में ऐसा करने का माद्दा है लेकिन, टूर्नामेंट में उनकी फॉर्म को देखने के बाद यह कहना मुश्किल है. ऐसे में चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ इस बड़े मैच में सनराइजर्स की सबसे बड़ी चुनौती अपने मध्यक्रम को पटरी पर लाना है.

चेन्नई सुपर किंग्स

आईपीएल के पिछले दो सीजन में टूर्नामेंट नहीं खेल पाई चेन्नई सुपर किंग्स ने इस बार जबर्दस्त वापसी की. इस सीजन में चेन्नई की ख़ास बात यह है कि उसके बल्लेबाजों ने दर्शकों को दांतों तले अंगुलियां दबाने पर मजबूर कर दिया. बल्लेबाजों ने उस मोड़ से कई मैच ऐसे जिताए जहां से आमतौर पर हार निश्चित लगने लगती है. इस आईपीएल में सबसे बेहतर बल्लेबाजी क्रम रखने वाली चेन्नई ने औसतन 37.13 रनों के बाद एक विकेट खोया है. साथ ही बल्लेबाजों ने प्रति ओवर औसतन नौ रन से ज्यादा बनाए हैं. इन दोनों ही मामलों में यह टीम सबसे आगे है.

आंकड़ों से अलग भी देखें तो चेन्नई की खासियत उसकी बल्लेबाजी में आक्रमकता के साथ निरंतरता का होना और किसी एक बल्लेबाज पर निर्भर न होना है. शेन वाटसन (438 रन), अंबाती रायुडू (586 रन), सुरेश रैना (391 रन), एमएस धोनी (446 रन) के साथ-साथ सैम बिलिंग्स और ड्वेन ब्रावो भी अच्छी फॉर्म हैं और मैच जिताने का माद्दा रखते हैं. यानी देखा जाए तो जहां हैदराबाद की गेंदबाजी उसकी ताकत रही है वही चेन्नई की मजबूती उसकी बल्लेबाजी है.

चेन्नई के दोनों सलामी बल्लेबाज शेन वाटसन और अंबाती रायडू जबर्दस्त फॉर्म में हैं. दोनों ही इस टूर्नामेंट में शतक जड़ चुके हैं | फोटो : एएफपी
चेन्नई के दोनों सलामी बल्लेबाज शेन वाटसन और अंबाती रायडू जबर्दस्त फॉर्म में हैं. दोनों ही इस टूर्नामेंट में शतक जड़ चुके हैं | फोटो : एएफपी

गेंदबाजी के मोर्चे पर चेन्नई की और से मिलाजुला प्रदर्शन किया गया है. कुछ गेंदबाज अच्छी फॉर्म में हैं तो कुछ ने महेंद्र सिंह धोनी की चिंता बढ़ाई है. खास कर डेथ स्पेशलिस्ट कहे जाने वाले ड्वेन ब्रावो का अंतिम ओवरों में रन लुटाना धोनी का सबसे बड़ा सिर दर्द बन गया है. हरभजन सिंह और शार्दुल ठाकुर भी अपनी गेंदबाजी से वह प्रभाव नहीं छोड़ पाए हैं जिसके लिए इन्हें जाना जाता है. हालांकि, सुखद यह है कि रवींद्र जडेजा पिछले कुछ मैचों से लय में दिख रहे हैं. साथ बीच के मैचों में चोट की वजह से बाहर हुए तेज गेंदबाज दीपक चाहर ने फिर पहले जैसी फॉर्म के साथ वापसी की है. इसके अलावा पिछले मैच में युवा दक्षिण अफ़्रीकी तेज गेंदबाज लुंगी एनगीडी के प्रदर्शन (10/4) ने कप्तान धोनी को बड़ी राहत दी होगी.

आंकड़ों में चेन्नई का पलड़ा भारी

आईपीएल 11 की पॉइंट टेबल में भले ही सनराइजर्स हैदराबाद ने कुछ दशमलव अंकों के साथ चेन्नई को पछाड़ दिया हो लेकिन आंकड़ों और अब तक के प्रदर्शन को देखें तो पलड़ा चेन्नई की ओर ही झुका नजर आता है. इस सीजन में अब तक दोनों का आमना-सामना दो बार हुआ है और दोनों बार चेन्नई ने हैदराबाद को शिकस्त दी है. साथ ही टूर्नामेंट में लगातार छह मैच जीतने के बाद हैदराबाद के विजयी रथ को भी चेन्नई ने ही रोका था. आईपीएल के सभी संस्करणों को मिलाकर भी देखें तो चेन्नई का पलड़ा हैदराबाद पर भारी नजर आता है. दोनों के बीच हुए अब तक कुल आठ मुकाबलों में से छह चेन्नई ने जीते हैं.

मंगलवार के मैच से पहले सनराइजर्स हैदराबाद की मुश्किल यह भी है कि वह लगातार तीन मैच हारने के बाद यह मैच खेलने उतर रही है. हालांकि, इस मैच में एक आंकड़ा चेन्नई के भी खिलाफ जाता है. 25 अप्रैल के बाद से देखा गया है कि चेन्नई की टीम एक मैच जीतने के बाद अगला मैच हार जाती है. आज हो रहे मैच से पहले वाला मैच वह जीत चुकी है. ऐसे में धोनी के सामने इस पैटर्न को बदलने की भी चुनौती होगी.

इस बार आईपीएल की एक एड लाइन काफी चर्चा में रही है – ‘शेर से शेर भिड़े तो शेर ही जीते है.’ मंगलवार के मैच से पहले भले ही पलड़ा चेन्नई सुपर किंग्स की ओर झुका नजर आ रहा हो. लेकिन, याद रहे यहां शेर से शेर ही भिड़ रहा है. और इस बात को सनराइजर्स हैदराबाद के गेंदबाजों ने कई बार साबित भी किया है. ध्यान रखने वाली बात यह भी है कि दोनों टीमें उसी वानखेड़े पर भिड़ रही हैं जहां कुछ रोज पहले ही इन गेंदबाजों ने मुंबई इंडियंस को 87 रन पर समेट दिया था.

चौथा खंभा न्यूज़ .com / नसीब सैनी/अभिषेक मेहरा

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Top News

अब आगरा का नाम बदलकर ‘अग्रवन’ करने की तैयारी में यूपी सरकार

—इससे पहले सरकार ने कई जिलों व स्टेशन के नाम बदले थे

Published

आगरा,(नसीब सैनी)।

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने अब ताज की नगरी आगरा का नाम बदलने की तैयारी शुरू कर दी है। आगरा का नाम बदलकर अग्रवन होने की संभवाना है। इसकी पूरी जिम्मेदारी सरकार ने डॉ. भीमराव आम्बेडकर यूनिवर्सिटी को सौंपी है जो यूनिवर्सिटी के इतिहास विभाग से नामों से संबंधित अपना सुझाव भेजने के निर्देश दिये हैं। साथ ही विभाग से आगरा के नाम संबंधी साक्ष्य भी मांगे गए हैं। 

इससे पहले सरकार ने कई जिलों व स्टेशन के नाम बदले थे। इसमें इलाहाबाद को प्रयागराज, फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या किया गया है। इनके अलावा मुगलसराय स्टेशन का नाम बदलकर पंडित दीनदयाल उपध्याय जंक्शन रखा गया था। इतना ही नहीं चंदौली जिले का नाम बदलने की रिपोर्ट शासन को भेजी जा चुकी है, लेकिन अभी तक इस पर शासन की ओर से कोई आदेश नहीं हुआ है। अब शासन ताज की नगरी से जाना जाने वाला आगरा का नाम बदलकर अग्रवन करने की कवायद में जुटी हुई है। अगर आगरा का नाम बदला तो इसको लेकर भी दूसरे राजनीतिक पार्टियां सरकार को घेरने का काम कर सकती हैं, जैसे पहले भी हो चुका है। 

नसीब सैनी

Continue Reading

Top News

तलाकशुदा महिला से दुष्कर्म, मामला दर्ज

—पुलिस ने आरोपित के खिलाफ धारा 376 के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू की

Published

बीकानेर,(नसीब सैनी)।

राजस्थान के बीकानेर में दंतौर पुलिस थानांतर्गत तलाकशुदा 25 वर्षीय महिला को शादी का झांसा देकर छह साल तक दुष्कर्म करने का मामला सोमवार को सामने आया है। जब पीडि़ता ने आरोपी से शादी करने की बात कही तो आरोपी यह कहते मना कर दिया कि वह दूसरी जाति की है। इस संबंध में पीडि़ता ने नामजद आरोपी के खिलाफ  जिले के दंतौर पुलिस थाने में मामला दर्ज करवाया है। इस मामले की जांच थानाधिकारी भजनलाल कर रहे है। 

पीडि़ता महिला का आरोप है कि चक 05 एनजीएम निवासी रोशन पुत्र नानकसिंह बावरी ने उसको शांदी का झांसा देकर छह साल तक दुष्कर्म किया। जब शादी करने की बात कही तो आरोपी शादी करने से मुकर गया। पुलिस के अनुसार पीडि़ता पहले पति को तलाक दे चुकी है। पुलिस ने आरोपित के खिलाफ धारा 376 के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू की। 

नसीब सैनी

Continue Reading

Top News

तीन माह बाद बनिहाल-श्रीनगर-बारामुला रेल सेवा हुई बहाल

—दोबारा रेल सेवा शुरू होने पर प्रशासन ने यात्रियों की सुरक्षा के लिए कड़े प्रबंध किए

Published

श्रीनगर,(नसीब सैनी)।

जम्मू संभाग के बनिहाल से लेकर श्रीनगर तक रेल सेवा तीन महीने से ज्यादा समय तक बंद रहने के बाद सोमवार को एक बार फिर शुरू कर दी गई है। रविवार को बनिहाल-श्रीनगर-बारामुला रेलवे ट्रैक पर ट्रेन का ट्रायल सफल रहा। इसके बाद रविवार को ही श्रीनगर से बनहाल के लिए दोपहर में एक ट्रेन भी रवाना की गई जिसके बाद आज यानि सोमवार को बनिहाल-श्रीनगर-बारामुला रेल ट्रैक पर रेल सेवा पूरी तरह से बहाल कर दी गई है। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाये जाने के बाद पांच अगस्त से राज्य प्रशासन ने कानून व्यवस्था की स्थिति को देखते हुए बनिहाल-बारामुला रेल सेवा को स्थगित कर दिया था। अब दोबारा रेल सेवा शुरू होने पर प्रशासन ने यात्रियों की सुरक्षा के लिए कड़े प्रबंध किए हैं।  

इससे पहले शनिवार को बनिहाल-श्रीनगर रेलवे ट्रैक पर दो बार ट्रेन को चलाया गया था और दोनों ही बार ट्रायल सफल रहने के बाद इस ट्रैक पर रेल सेवा शुरू होने का रास्ता साफ हो गया था। इसी बीच बारामुला-श्रीनगर रेलवे ट्रैक पर बीते मंगलवार से ही रेल सेवा जारी है। बनिहाल से श्रीनगर तक जाने वाले लोगों को बनिहाल-श्रीनगर रेल सेवा दोबारा शुरू होने से अब काफी फायदा होगा। लोग ट्रेन से बड़ी संख्या में श्रीनगर जाते हैं। इसमें एक तो कम किराया और दूसरी समय की बचत भी है। यही नहीं बर्फबारी के कारण जवाहर सुरंग के बंद होने से लोगों को जम्मू से कश्मीर पहुंचने में दिक्कत होती थी।

कश्मीर घाटी में स्थिति पूरी तरह से शांतिपूर्ण 
इसी बीच कश्मीर घाटी में सोमवार को भी स्थिति पूरी तरह से शांतिपूर्ण बनी हुई है। विंटर जोन के स्कूलों में 10वीं और बारहवीं की बोर्ड परीक्षा के बाद अब पांचवीं से नौवीं कक्षा तक की परीक्षाएं भी शुरू हो गई हैं जिसके लिए प्रशासन ने सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए हैं। सड़कों पर सभी तरह के वाहन दौड़ रहे हैं। दुकानें तथा व्यापारिक प्रतिष्ठान पहले के मुकाबले अब ज्यादा समय के लिए खुल रहे हैं। लोगों की भारी भीड़ बाजारों में अब एक बार फिर दिखने लगी है।

निजी व सरकारी कार्यालयों में कर्मचारियों की संख्या लगभग पूरी है। सेब मंडियां लगी हुई हैं और ट्रकों में सेब भरकर अन्य राज्यों में ले जाए जा रहे हैं। कश्मीर घाटी में लैंडलाइन फोन सेवा तथा पोस्ट पेड़ मोबाइल सेवा सुचारू रूप से जारी है जबकि पूरे जम्मू कश्मीर में मोबाइल इंटरनेट सेवा एहतियात के तौर पर बंद रखी गई है। इस सब के बावजूद घाटी के सभी संवेदनशील इलाकों में अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती बरकरार है। 

नसीब सैनी

Continue Reading

Featured Post

Top News6 घंटे पूर्व

तलाकशुदा महिला से दुष्कर्म, मामला दर्ज

---पुलिस ने आरोपित के खिलाफ धारा 376 के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू की

Top News9 घंटे पूर्व

फेसबुक पर मांदुर्गा को लेकर अभद्र टिप्पणी, केस दर्ज

---आरोपित पेशे से दुकानदार है

Top News2 दिन पूर्व

अंग्रेजी मीडियम कल्चर में फिट नहीं हो पा रही थी छात्रा, की खुदकुशी

---पुलिस ने बताया कि रात को उसने दोस्तों के साथ पिकनिक किया था जिसके बाद ही फांसी लगाई है

Top News2 दिन पूर्व

लॉस एंजेल्स में गोलीबारी करने वाला छात्र एशियाई

---पुलिस रिकार्ड के अनुसार उसके पिता और उसकी मां के बी 2015 में झगड़ा हुआ था। इसके बाद उसके पिता...

Top News3 दिन पूर्व

दिल्ली : तीस हजारी कोर्ट में गोली चलाने वाले पुलिस जवानों की गिरफ्तारी पर अंतरिम रोक

---तीस हजारी कोर्ट में वकील पर गोली चलाने के आरोपित एएसआई पवन कुमार और एक अन्य पुलिसकर्मी ने दिल्ली हाई...

Recent Post

Trending

Copyright © 2018 Chautha Khambha News.

Web Design BangladeshBangladesh online Market