Connect with us

Top News

मोदी सरकार के चार साल : आठ योजनाएं, जिनका जनता पर हुआ असर

नई दिल्ली,24 मई..

PM नरेंद्र मोदी के चार साल के कार्यकाल की ऐसी आठ योजनाओं पर एक नज़र, जिन्होंने देश की जनता को प्रभावित किया

नई दिल्ली: केंद्र में सत्तासीन नरेंद्र मोदी सरकार के चार साल पूरे हो रहे हैं. BJP के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) सरकार बहुत-से वादों के साथ कांग्रेस-नीत संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन, यानी UPA सरकार को हराकर सत्ता पर काबिज हुई थी. प्रधानमंत्री के रूप में स्थापित होने से पहले, चुनाव प्रचार के दौरान ही नरेंद्र मोदी की छवि बेहद प्रभावी वक्ता की बन गई थी, और UPA सरकार के तहत आए दिन छप रही भ्रष्टाचार की ख़बरों के बीच उनकी बातों का असर इस कदर हुआ कि NDA को अभूतपूर्व सफलता हासिल हुई. 1984 के बाद 2014 का चुनाव पहला मौका था, जब देश की जनता ने किसी एक दल को स्पष्ट बहुमत दिया, और देश की आज़ादी के बाद पहला मौका था, जब किसी गैर-कांग्रेसी दल को लोकसभा में पूर्ण बहुमत प्राप्त हुआ.

‘विकास वाला बजट’ के लिए अमित शाह ने सरकार को दी बधाई, कहा- किसानों, गरीबों और दलितों के लिए कई योजनाएं

भले ही नरेंद्र मोदी सरकार ने बहुत-से अधूरे वादों पर जनता को आज भी जवाब देना है, लेकिन उनके बहुत-से कदम ऐसे भी रहे, जो पहले कभी नहीं उठाए गए. जिन योजनाओं का लाभ सबसे अधिक लोगों तक पहुंचा, उनमें जन-धन योजना, उज्‍ज्‍वला योजना, उजाला योजना आदि प्रमुख हैं. PM नरेंद्र मोदी के चार साल के कार्यकाल की ऐसी आठ योजनाओं पर एक नज़र, जिन्होंने देश की जनता को प्रभावित किया.

जन-धन बैंक खाते : नरेंद्र मोदी सरकार की सबसे ज़्यादा कामयाब योजनाओं में जन-धन बैंक खाता योजना का ज़िक्र किया जाता है. केंद्र सरकार का कहना था कि आज़ादी के बाद लगभग 70 साल बीत जाने पर भी देश की करोड़ों की आबादी बैंकिंग व्यवस्था से अछूती रही, और अधिकांश जनता के पास एक बैंक बचत खाता तक नहीं था, सो, वे यह योजना लेकर आए, जिसके तहत ज़ीरो-बैलेंस बैंक बचत खाते खुलवाए गए. सरकार के मुताबिक, इससे न सिर्फ करोड़ों भारतीयों को बैंकिंग व्यवस्था से सीधे जुड़ने का मौका मिला, बल्कि योजना से लाभान्वित हुए गरीब देशवासियों ने ज़ीरो-बैलेंस खाते होने के बावजूद 81,203 करोड़ रुपये बैंकों में जमा कराए.

प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना (Pradhan Mantri Jeevan Jyoti Bima Yojana) का लाभ लें.. जानें सभी जरूरी बातें

उज्ज्वला योजना : पिछली UPA सरकार के कार्यकाल के दौरान रसोई गैस पर मिलने वाली सब्सिडी को सीमित कर दिया गया था, और गैर-BPL परिवारों को सालाना नौ सिलेंडर ही सब्सिडी के साथ मिलते थे, लेकिन उसके बाद इस्तेमाल होने वाले सिलेंडरों पर उन परिवारों को कोई सब्सिडी नहीं दी जाती थी. उज्ज्वला योजना मूल रूप से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दिमाग की उपज बताई जाती है, जिन्होंने करोड़ों संपन्न भारतीयों से रसोई गैस सिलेंडरों पर मिलने वाली सब्सिडी को स्वेच्छा से छोड़ देने की अपील की, और केंद्र सरकार का दावा है कि इस अपील के परिणामस्वरूप करोड़ों लोगों ने सब्सिडी का त्याग कर दिया, और उसकी बदौलत 3,94,60,489 गरीब महिलाओं के रसोईघरों में रसोई गैस पहुंची, या उनके परिवारों को सीधा लाभ मिला.

जनसुरक्षा योजना : भारत में जीवन बीमा करने के लिए आज लाइफ इंश्योरेंस ऑफ इंडिया (LIC) समेत कई कंपनियां मौजूद हैं, जिनके पास करोड़ों ग्राहक भी हैं, लेकिन सरकार की तरफ से कभी कोई बीमा पॉलिसी जारी नहीं की गई थी. 9 मई, 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनसुरक्षा योजना के तहत तीन योजनाओं की घोषणा की थी, जिनमें प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना (PMJJBY) भी शामिल थी. PMJJBY दो लाख रुपये तक का जीवन बीमा प्रदान करती है, यानी बीमित व्यक्ति की मृत्यु हो जाने की स्थिति में उसके परिवार को दो लाख रुपये की राशि दी जाती है. PMJJBY के तहत मिलने वाली पॉलिसी को हर वर्ष नवीकृत करना होता है, और उसके लिए 330 रुपये की प्रीमियम राशि देनी होती है. इस राशि के अतिरिक्त बीमित व्यक्ति को मौजूदा वर्ष में लागू सर्विस टैक्स तथा बैंकों की एडमिनिस्ट्रेटिव फीस के तौर पर 41 रुपये चुकाने होते हैं. केंद्र सरकार का दावा है कि मई, 2018 तक लगभग 19 करोड़ भारतीय इस योजना में शामिल हो चुके हैं. 9 मई, 2015 को प्रधानमंत्री ने जिन दो अन्य योजनाओं की घोषणा की थी, वे प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना और अटल पेंशन योजना हैं.

नववर्ष 2017 पर पीएम मोदी ने शहरी और ग्रामीण गरीबों के लिए आवासीय योजनाओं की घोषणा की, जानें इनके बारे में…

मुद्रा योजना : देश की लगातार बढ़ती आबादी के बीच बेरोज़गारी ऐसी समस्या रही है, जिसने अधिकतर भारतीयों को परेशान कर रखा है. इसी समस्या से निपटने के उद्देश्य से नरेंद्र मोदी सरकार ने लोगों को स्वरोज़गार की ओर मोड़ने का प्रयास किया, तथा युवाओं से अपना-अपना कारोबार स्थापित करने का आग्रह करते हुए मुद्रा योजना शुरू की, जिसके तहत सरकार की ओर से ऋण उपलब्ध कराया जाता है, ताकि लोग अपना व्यापार शुरू कर सकें या पहले से स्थापित व्यापार का विस्तार कर सकें. इस योजना को भी सरकार खासा कामयाब बताती है, और उसका दावा है कि मई, 2018 तक मुद्रा योजना के अंतर्गत 12,78,08,684 ऋण वितरित किए गए हैं.

पीएम मोदी ने मंत्रियों से कहा, सरकारी योजनाओं को जमीन तक पहुंचाने में लगाएं जोर

सॉयल हेल्थ कार्ड योजना : देश में किसानों की समस्याएं लगातार बढ़ती नज़र आ रही थीं, और आएदिन किसानों द्वारा खुदकुशी करने की ख़बरें बिल्कुल आम हो चुकी थीं, जो अब तक थमी नहीं हैं. नरेंद्र मोदी सरकार ने उनकी समस्याओं का निराकरण करने के उद्देश्य से सॉयल हेल्थ कार्ड बनाने की घोषणा की, जिसके तहत मई, 2018 तक 13,33,13,396 सॉयल हेल्थ कार्ड बनाए गए. केंद्र सरकार का दावा है कि सॉयल हेल्थ कार्ड से किसानों को सीधा लाभ पहुंचेगा और वह इस कार्ड की मदद से न सिर्फ ज़मीन की उपजाऊ शक्ति को समझ पाएंगे, बल्कि यह भी जान पाएंगे कि उन्हें किस फसल के लिए कितना यूरिया और खाद खर्च करना पड़ेगा. सरकार का दावा है कि इस सॉयल हेल्थ कार्ड की मदद से किसानों को अपनी आय बढ़ाने में मदद मिलेगी.

दो साल में 700 से ज्यादा योजनाएं शुरू कीं, देश को गलत दिशा में नहीं जाने दूंगा : पीएम मोदी

उजाला योजना : देश में लगातार बढ़ती आबादी के साथ-साथ बिजली की मांग भी लगातार बढ़ ही रही है, जिससे निपटने के लिए केंद्र सरकार ने जनता से आग्रह किया कि साधारण बल्बों, ट्यूबलाइटों तथा सीएफएल (CFL) बल्बों के स्थान पर एलईडी (LED) बल्बों का इस्तेमाल किया जाए, ताकि बिजली की खपत को कम किया जा सके. यही नहीं, सरकार ने उजाला योजना के अंतर्गत सस्ती दरों पर LED बल्ब भी उपलब्ध करवाए, और नरेंद्र मोदी सरकार का दावा है कि उजाला योजना के तहत मई, 2018 तक 29,96,35,477 LED बल्ब लोगों में बांटे गए हैं.

भारत ब्रॉडबैंड नेटवर्क (BBNL) : अब इंटरनेट से शहरी भारतीय ही नहीं, बहुत-सा ग्रामीण हिस्सा भी नावाकिफ नहीं है, लेकिन तकनीक का पूरा लाभ अब तक भी सारे देश में नहीं पहुंच रहा था. देश के सभी गांवों तक तकनीक का फायदा पहुंचाने के उद्देश्य से नरेंद्र मोदी सरकार ने ऑप्टिकल फाइबर के ज़रिये सारे देश में नेट-कनेक्टिविटी की व्यवस्था करने के लिए BBNL के माध्यम से काम शुरू किया. सरकार का कहना था कि गांवों तक तकनीक का विस्तार होने से भ्रष्टाचार पर भी अंकुश लगाया जा सकेगा, और सभी देशवासियों तक सूचना का विस्तार भी सरल हो सकेगा. केंद्र सरकार का दावा है कि मई, 2018 तक देश के 1,15,703 गांवों को इस योजना से जोड़ा जा चुका है.

दीनदयाल उपाध्‍याय ग्राम ज्‍योति योजना : आज़ादी के 70 साल से भी ज़्यादा बीत चुके थे, लेकिन देश के कोने-कोने तक बिजली भी नहीं पहुंच पाई थी.  इसी तस्वीर को बदलने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने कदम उठाया, और अब उनका दावा है कि मई, 2018 तक देश के ऐसे 18,374 गांवों में बिजली पहुंचा दी गई है, जहां अब तक बिजली नहीं थी.

चौथा खंभा न्यूज़ .com / नसीब सैनी/अभिषेक मेहरा

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Top News

हलका वासियों की मूलभूत सुविधाओं का रखा जाएगा पूरा ध्यान : विधायक लीला राम

अपने निवास पर जन समस्याएं सुनी एवं उनके समाधान के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए।

Published

कैथल, 23 अक्तूबर ( ) विधायक लीला राम ने कहा कि हलका वासियों को किसी प्रकार की समस्याएं नहीं आने दी जाएगी। उनकी बिजली, पानी, स्वास्थ्य, शिक्षा व अन्य मूलभूत सुविधाओं का पूरा ध्यान रखा जाएगा। आम जन से संबंधित जुड़ी समस्याओं का निवारण संबंधित अधिकारी तुरंत करवान सुनिश्चित करे।

अपने निवास स्थान पर आम जन की समस्या सुनते विधायक लीला राम

विधायक लीला राम अपने निवास स्थान पर आम जन की समस्याओं का समाधान करने उपरांत हलका वासियों से रूबरू हो रहे थे। विधायक लीला राम ने आम जन की समस्याओं का निपटारा करने के लिए अधिकारियों को दूरभाष के माध्यम से निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार हर जरूरत मंद व्यक्ति के हित के लिए कार्य कर रही है। ग्रामीणों के सहयोग और उनकी सामूहिक मांगों को प्राथमिकता के आधार पर किया जा रहा है। हलका में बिजली, पानी व अन्य मूलभूत सुविधाओं को उपलब्ध करवाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जहां से भी लोगों द्वारा कोई समस्या या शिकायत रखी जाती है, उसका तुरंत समाधान किया जाता है। गांवों में सीवरेज की लाईनें बिछाई जा रही हैं, ताकि ग्रामीणों को कोई भी परेशानी नही हो। देश व प्रदेश की सरकार आम जन के हितों में नित नए फैसले लेकर कार्य कर रही है। जहां प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत हर सिर को छत देने का काम किया जा रहा है, वहीं युवाओं को योग्यता के आधार पर रोजगार दिए जा रहे हैं। बिचोलिए राज को प्रदेश की धरा से समाप्त किया गया है। आम जन को पारदर्शी सुशासन व्यवस्था दी जा रही है।

Continue Reading

Top News

कांस्टेबल भर्ती का शेड्यूल तीसरी बार जारी : 9 जिलों में 3 दिन एग्जाम; कल से डाउनलोड करें एडमिट कार्ड

कांस्टेबल भर्ती का शेड्यूल तीसरी बार जारी : 9 जिलों में 3 दिन एग्जाम; कल से डाउनलोड करें एडमिट कार्ड

Published

करनाल। हरियाणा पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा के लिए हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग (HSSC) ने तीसरी बार शेड्यूल जारी किया है। इससे पहले 10 जुलाई और 27 सितंबर को परीक्षा का शेड्यूल जारी किया गया था। पहली बार हुई परीक्षा का पेपर लीक हो गया था, जिस वजह से भर्ती परीक्षा उस समय रद्द करनी पड़ी। वहीं इस बार परीक्षा में पहले से ज्यादा सुरक्षा के प्रबंध किए गए हैं।

परीक्षा तीन दिनों में 31 अक्टूबर, एक नवंबर व दो नवंबर को ली जाएगी। तीनों दिनों में दो-दो सत्र में परीक्षा होगी। परीक्षा के लिए 23 अक्टूबर से एडमिट कार्ड डाउनलोड होने शुरू होंगे। आयोग के चेयरमैन भोपाल सिंह खदरी ने बताया कि पेपर के लिए पंचकूला, यमुनानगर, अंबाला, कुरुक्षेत्र, करनाल, महेंद्रगढ़, रेवाड़ी, गुरुग्राम व फरीदाबाद में परीक्षा केंद्र के लिए जिले को चुना गया है। इन जिलों के सब डिवीजनों पर भी परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे। तीन दिनों में दो-दो शिफ्ट में पेपर होगा।

शैक्षणिक योग्यता: किसी भी स्ट्रीम से 12वीं पास। 10वीं में हिन्दी या संस्कृत विषय पढ़ा होना जरूरी।

आयु सीमा: 18 से 25 वर्ष । एससी, बीसी और ईडब्ल्यूएस को आयु सीमा में 5 वर्ष की छूट मिलेगी।

7 व 8 अगस्त को हो गया था लीक

HSSC ने 7 व 8 अगस्त को परीक्षा ली थी। पहले दिन 7 अगस्त को पहला ही पेपर कई जिलों में लीक हो गया था। कैथल पुलिस ने इस मामले में 44 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही खुलासा किया था कि पेपर को लीक करने में कैसे और किसने, क्या भूमिका निभाई।

Continue Reading

Top News

सैनी स्कूल के वार्षिक उत्सव के कार्यक्रम में मुख्यातिथि के तौर पर पहुंचे : सांसद नायब सैनी

सैनी स्कूल के वार्षिक उत्सव के कार्यक्रम में मुख्यातिथि के तौर पर पहुंचे : सांसद नायब सैनी

Published

कैथल। कैथल के सैनी सीनियर सैकेंडरी स्कूल में वार्षिक उत्सव का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्यातिथि के तौर पर  सांसद नायब सिंह सैनी पहुंचे। उन्होंने कार्यक्रम की शुरुआत महाराजा शूरसैनी और सरस्वती माता की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित व ध्वजारोहण के साथ हुई। सांसद नायब सैनी ने कहा कि शिक्षा से ही मानव जीवन का चहुंमुखी विकास होता है।

हर मां बाप को चाहिए कि बेटा हो या बेटी, उनका आगे बढऩे का अवसर पदान करें और स्कूल बच्चों को नैतिक शिक्षा का पाठ अवश्य पढ़ाएं। उन्होंने कहा कि सैनी समाज का इतिहास जितना गौरवशाली और महान है, उतना ही यह प्राचीन भी है और ऋग्वेद में श्रेणी नामक वीर जाति का वर्णन मिलता है, शूरसैनी महाराज ने ही शूरसैनीगण की स्थापना की थी। इस समाज के लोग आज भी सत्य और अहिंसा के मार्ग पर चलकर अपनी महान परंपरा को बरकरार रख रहे हैं। महाराजा शूरसैनी ने मेहनतकश समाज के कल्याण और मानवता के उद्धार के लिए महान योगदान दिया। इस मौके पर स्कूल के बच्चों द्वारा प्रस्तुतियां भी दी गई। बच्चों ने मॉडल प्रदर्शनी के माध्यम से भी अपनी प्रतिभा दिखाई। इस दौरान कैथल से विधायक लीला राम, बीजेपी के जिला अध्यक्ष अशोक गुर्जर भी मौजूद रहे।

Continue Reading

Featured Post

Top News2 दिन पूर्व

पूछताछ में खुलासा: इंटर स्टेट साइबर फ्राॅड गैंग का गुर्गा गिरफ्तार, एटीएम कार्ड बदलकर फर्जी जनरल स्टाेर के नाम पर ली स्वाइप मशीन से करते थे खाते खाली

पूछताछ में खुलासा: इंटर स्टेट साइबर फ्राॅड गैंग का गुर्गा गिरफ्तार, एटीएम कार्ड बदलकर फर्जी जनरल स्टाेर के नाम पर...

Top News2 दिन पूर्व

आरसी फर्जीवाड़ा:पुलिस कैंसिल करेगी गाड़ियाें का पंजीकरण, मालिकों को दोबारा रजिस्ट्रेशन करा कोर्ट से लेनी होगी गाड़ी

आरसी फर्जीवाड़ा:पुलिस कैंसिल करेगी गाड़ियाें का पंजीकरण, मालिकों को दोबारा रजिस्ट्रेशन करा कोर्ट से लेनी होगी गाड़ी

Top News1 सप्ताह पूर्व

हमला करके गंभीर चोट पहुँचाने व मोबाइल छीनने के चार आरोपी गिरफ्तार

कुरुक्षेत्र। जिला पुलिस कुरुक्षेत्र ने सामूहिक हमला करके गंभीर चोट पहुँचाने व मोबाइल छीनने के चार आरोपियो को गिरफ्तार किया...

Top News2 सप्ताह पूर्व

नशीली दवाईयां बेचने के आरोप में दो गिरफ्तार

Top News1 महीना पूर्व

सिपाही पेपर लीक मामले में 2 लाख रुपए का ईनामी अपराधी मुजफ्फर अहमद सीआईए-1 पुलिस द्वारा जम्मु से गिरफ्तार

सिपाही पेपर लीक मामले में कैथल पुलिस को बडी कामयाबी

Recent Post

Trending

Copyright © 2018 Chautha Khambha News.

%d bloggers like this:
Web Design BangladeshBangladesh online Market