Connect with us

Top News

राष्ट्रपति कोविंद पहुंचे भोपाल, दो दिन रहेंगे मध्यप्रदेश में

Published

on

भोपाल, 28 अप्रैल

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

 राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज (शनिवार को) सुबह 10.30 बजे भोपाल के राजाभोज विमानतल पहुंचे, जहां राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनका स्वागत करते हुए अगवानी की। कुछ देर एयरपोर्ट पर रुकने के बाद वे सागर के लिए रवाना हुए। वे मध्यप्रदेश के दो दिवसीय प्रवास पर आए हैं। इस दौरान वे विभिन्न कार्यक्रमों में शामिल होंगे।
राष्ट्रपति कोविंद भोपाल एयरपोर्ट से सीधे सागर के लिए रवाना हुए, जहां वे दोपहर 12 बजे डॉ हरिसिंह गौर विश्वविद्यालय के 27वें दीक्षांत समारोह में शामिल होंगे। राष्ट्रपति कोविंद दोपहर 03 बजे डॉ हरिसिंह गौर विश्वविद्यालय के स्वर्ण जयंती हाल में आयोजित 620वें संत कबीर प्रकटोत्सव महोत्सव में शामिल होंगे। राष्ट्रपति सागर में विभिन्न कार्यक्रमों में शामिल होने के बाद शाम 5.30 बजे भोपाल पहुंचेंगे। राष्ट्रपति रात्रि विश्राम राजभवन, भोपाल में करेंगे।
राष्ट्रपति कोविंद रविवार, 29 अप्रैल को प्रात: 10.25 पर भोपाल से गुना जिले के बामोरी के लिये रवाना होंगे। वे इस दिन दोपहर 12 बजे गुना जिले के बामोरी में असंगठित श्रमिक सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल होंगे। राष्ट्रपति दोपहर एक बजे बामोरी से गुना के लिये रवाना होंगे। कोविंद दोपहर 02 बजे गुना में मिनी स्मार्ट सिटी के शुभारंभ समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल होंगे।
राष्ट्रपति शाम 04 बजे से 4.50 मिनिट तक अपने बड़े भाई रामस्वरूप भारती के गुना स्थित आवास में रहेंगे। शाम 05 बजे गुना से भोपाल के लिये रवाना होंगे। इसके बाद कोविंद भोपाल एयरपोर्ट से शाम 6.20 मिनिट पर नई दिल्ली के लिये रवाना हो जायेंगे।

चौथा खंभा न्यूज़ .com / नसीब सैनी/अभिषेक मेहरा

 

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Top News

अनोखा ऑफर: चंडीगढ़ के ऑटो ड्राइवर अनिल बोले- भारत-पाक मैच में टीम इंडिया की जीत के बाद सवारियों को फ्री में घुमाएंगे शहर

अनिल कुमार नाम के ऑटो चालक ने पाकिस्तान का साथ मैच में टीम इंडिया के जीतने पर अगले दिन यानि 25 अक्टूबर को पूरा दिन सवारियों को फ्री सफर कराने का ऐलान किया

Published

टी- 20 वर्ल्ड कप शुरू हो चुका है। भारत अपना पहला मुकाबला 24 अक्टूबर रविवार को पाकिस्तान के खिलाफ खेलेगा। इस मैच का लोकर बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। इस बीच चंडीगढ़ में एक ऑटो चालक में भारत-पाकिस्तान मैच को लेकर अनोखे ऑफर की घोषणा की है। अनिल कुमार नाम के ऑटो चालक ने पाकिस्तान का साथ मैच में टीम इंडिया के जीतने पर अगले दिन यानि 25 अक्टूबर को पूरा दिन सवारियों को फ्री सफर कराने का ऐलान किया। इसके लिए अनिल कुमार ने अपने ऑटो पर फ्री राइड का एक पोस्टर भी चिपका लिया है।

ऑटो ड्राइवर अनिल

सवारियों इस सुविधा का फायदा 25 अक्टूबर को सुबह 8 बजे से शाम 7 बजे उठा सकती हैं। अनिल ने बताया कि भारत की जीत के अगले दिन 25 अक्टूबर को उनके ऑटो में कोई भी सवारी चंडीगढ़ के किसी भी कोने तक फ्री जा सकती है। उनका प्रयास भारतीय किक्रेट टीम के मनोबल को बढ़ाना और ज्यादा से ज्यादा लोगों को उससे जोड़ना है। उन्होंने कहा कि भारत और पाकिस्तान के क्रिकेट मैच को देखने के लिए दुनिया भर के लोग उत्साहित रहते हैं। ऐसे में मेरा यह प्रयास अपनी टीम को सपोर्ट करने के लिए है। शहर में भी किक्रेट के प्रति खासा क्रेज रहता है। ऐसे बड़े मुकाबले के लिए शहर में बड़ी-बड़ी स्क्रीनें तक लगाई जाती हैं। लंबे समय के बाद भारत-पाकिस्तान एक मैदान में दिखेंगे। ऐसे में पूरे भारत को टीम इंडिया को प्रोत्साहित करना चाहिए।

अनोखा ऑफर

ओलिंपिक में गोल्ड मेडल मिलने पर भी दी थी फ्री राइड
टोक्यो ओलिंपिक 2020 में देश के लिए नीरज चोपड़ा ने जेवलिन में स्वर्ण पदक जीता था। उससे अगले दिन भी अनिल ने फ्री राइड का ऑफर दिया था। उस दिन शहर में यूपीएससी का एग्जाम था, जिसके चलते अनिल ने 150 से ज्यादा स्टूडेंट्स को बस स्टैंड सेक्टर-17 से फ्री सफर करवाते हुए सेक्टर-11, सेक्टर-16, सेक्टर-23 में बने परीक्षा केंद्र तक छोड़ा था।

सैनिक और गर्भवती महिलाओं को करवाते हैं फ्री सफर
अनिल शहर का ऐसा पहला ऑटो ड्राइवर है, जोकि भारतीय सैनिक और गर्भवती महिलाओं से ऑटो में सफर करने के कोई पैसे नहीं लेता। इसके अलावा उन्होंने कोरोना काल में मेडिकल स्टाफ को भी फ्री सफर करवाया था।

Continue Reading

Top News

हरियाणा में डेंगू का असर : 2381 मरीज, 70 से ज्यादा मौत,, डॉक्टर की सलाह- सिर्फ 5 सावधानियां बरतें

कुछ ही इलाकों में धुआं उडाकर मच्छर को खदेडने के प्रयास हो रहे हैं। इसलिए जरूरी है कि आम आदमी इसके प्रति जागरूक हों और मच्छर को न पनपने दें।

Published

हरियाणा में डेंगू ने काफी पांव पसार लिए हैं। डेंगू के बुखार से अब तक 70 से ज्यादा मौत होने की पुष्टि हो चुकी है। हालात यह हैं कि रफ्ता-रफ्ता राज्यभर के अस्पताल डेंगू पीडितों से भर रहे हैं। हालांकि डेंगू के मरीज बढ़ते ही स्वास्थ्य विभाग सक्रिय हुआ, लेकिन अभी बीमारी पर नियत्रंण नजर नहीं आ रहा है। राज्य में डेंगू के करीब 2500 रोगी मिल चुके हैं। सबसे ज्यादा खराब हालात पंचकूला की है, जहां सर्वाधिक 297 मरीजों की पुष्टि हो चुकी है। सिरसा में डेंगू मरीजों का आकंडा 200 के पार है तो गुरुग्राम में 166 मरीज मिले हैं। कई जिलों में 100 से ज्यादा मरीजों की पुष्टि हुई है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग के हाथ-पैर फूले हुए हैं, क्योंकि सरकारी अमले के पास मच्छर से निपटने को पूरे अस्त्र-शस्त्र ही नहीं हैं। महज कुछ ही इलाकों में धुआं उडाकर मच्छर को खदेडने के प्रयास हो रहे हैं। इसलिए जरूरी है कि आम आदमी इसके प्रति जागरूक हों और मच्छर को न पनपने दें।

एक सितंबर को 40 केस, 17 अक्टूबर तक 2381
हरियाणा में कोरोना के दौर में डेंगू के मामलों में कई गुना वृद्धि हो चुकी है। प्रदेश में एक सितंबर को डेंगू के महज 40 मामले थे, जो 17 अक्टूबर तक 2381 तक पहुंच गए हैं। राज्य में कोरोना संक्रमण के दैनिक मामलों से कई गुना ज्यादा डेंगू के मामले रोजाना सामने आ रहे हैं। पंचकूला, सिरसा, फरीदाबाद, नूंह, गुरुग्राम, सोनीपत, महेन्द्रगढ़, कैथल, करनाल, फतेहाबाद व अंबाला में भी डेंगू पैर पसार चुका है। स्वास्थ्य विभाग सक्रिय है, लेकिन कोरोना पर फोकस के चलते स्वास्थ्य विभाग इस बीमारी के लिए योजना तैयार नहीं कर सका।

मच्छर की दो प्रजातियां फैलाती हैं डेंगू……डेंगू बुखार मच्छरों द्वारा फैलाए जाने वाले 4 तरह के वायरस के कारण होता है। इनमें सभी वायरस एडीज एजिप्टी या फिर एडीज एल्बोपिक्टर मच्छर की प्रजातियों के जरिए फैलते हैं। डेंगू वायरस में अलग-अलग सेरोटाइप भी शामिल होते हैं। जो जीन्स फ्लेवीवायरस, फैमिली फ्लेविविरिडे से संबंधित हैं। वैसे तो एडीज एजिप्टि मच्छर अफ्रीका में पैदा हुआ था, लेकिन अब ये दुनियाभर के कई क्षेत्रों में पाया जाता है।

दो तरह का होता है डेंगू बुखार…….सिकल बुखार: बुखार होने पर उल्टी करने का मन करता है, जोड़ों में दर्द होने लगता है और शरीर तप जाता है। हालांकि यह बुखार सामान्य माना जाता है, लेकिन तीन दिन तक अगर बुखार में आराम न हो और स्थिति ज्यों की त्यों बनी रहे तो इंसान के लिए घातक सिद्ध होता है। बुखार होते ही डॉक्टर से जांच करवाएं और सभी प्रकार के टेस्ट बिना किसी देरी के करवाएं।

हेमरेजिक बुखार: यह बुखार होने पर शरीर पर लाल और गुलाबी निशान पड़ जाते हैं। डॉक्टर इस बुखार को डेंगू की खतरनाक स्टेज मानते हैं। प्लेटलेट्स कम होने पर नाक से खून बहना और खून की उल्टी होना इसके लक्षण होते हैं। सामान्य तौर पर डेंगू होने के कई दिन बाद यह स्थिति पैदा होती है। समय पर इलाज शुरू नहीं करवाने से यह स्टेज आती है। इसके बाद डॉक्टर्स द्वारा शरीर में खून के प्लेटलेट्स चढ़ाने की प्रक्रिया शुरू की जाती है।

ऐसा होता है डेंगू फैलाने वाला मच्छर

  • डेंगू बुखार एडीज नाम के मादा मच्छर के काटने से होता है।
  • इन मच्छरों के शरीर पर धारियां होती हैं।
  • इन मच्छरों की खास बात यह होती है कि इनकी आयु केवल दो सप्ताह ही होती है।
  • तरह के फ्लेवीवाइराइड वायरस शरीर में जाने से डेंगू होता है और मादा एडीज मच्छर इस वायरस के वाहक हैं।
  • ये मच्छर साफ पानी में पनपते हैं।
  • ये मच्छर आम मच्छरों के मुकाबले आकार में बड़े होते हैं।

सरकारी अस्पतालों में प्लेटलेट्स की मुफ्त प्रक्रिया…….स्वास्थ्य विभाग ने डेंगू के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए जहां सरकारी अस्पतालों में मरीजों को मुफ्त इलाज और सरकारी अस्पतालों में प्लेटलेट्स की मुफ्त प्रक्रिया शुरू की है। वहीं निजी अस्पतालों से प्लेटलेट्स की व्यवस्था के लिए दरें भी निर्धारित की हैं। जिलों में स्वास्थ्य विभाग की मोबाइल टीमें गठित की गई हैं, जो लगातार मच्छरों के प्रजनन और विकास की जांच करने के साथ मच्छरों को भगाने के मकसद नियमित फॉगिंग करा रही हैं।

400 रुपए लीटर मिल रहा बकरी का दूध……. प्रदेश में डेंगू मच्छर का प्रकोप जिस प्रकार बढ़ रहा है, उसके साथ बकरी के दूध की मांग भी बढ़ने लगी है। जिलों से खबर आ रही है कि 50 रुपए लीटर मिलने वाला दूध अब 300 से 400 रुपए प्रति लीटर के हिसाब से मिल रहा है। मान्यता है कि बकरी का दूध मानव शरीर में प्लेटलेट्स बढ़ाने में फायदेमंद है, जबकि चिकित्सक इस बात को नकारते रहे हैं।

Continue Reading

Top News

अगले महीने टर्म-वन एग्जाम, मार्केट में एनसीआरटीई की किताबें नहीं होने से विद्यार्थियों के सामने सिलेब्स पूरा करने की चुनौती

स्टूडेंट्स की पीड़ा : बच्चों के पास किताबें नहीं, सरकार ने किताबें दी नहीं, पैसा दिया, लेकिन मार्केट में बुक्स नहीं

Published

एचबीएसई-सीबीएसई से लेकर सभी बोर्ड क्लासों के टर्म-1 की परीक्षाएं नवंबर में हाेनी हैं। फाइनल परीक्षाओं के लिए सभी बोर्ड ने 50% सिलेबस के साथ एग्जाम लेने का फैसला लिया है, लेकिन इसमें भी सरकारी स्कूलों के बच्चों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। हरियाणा बोर्ड में बच्चों के पास अभी पूरी किताबें नहीं हैं और बाजार में भी एनसीईआरटी की किताबें नहीं हैं।

सरकारी स्कूलों के स्टूडेंट्स को आधा सेशन बीतने के बाद विभाग की तरफ से किताबों के आधे-अधूरे रुपए भेजे गए हैं, लेकिन विद्यार्थियों की परेशानी ये है कि बाजार में एनसीईआरटी की किताबें ही नहीं है। इसका कारण विभाग की ओर से कोविड के चलते किताबें प्रिंट न करवाना है। वहीं जिले में पहली से आठवीं कक्षा तक के 42 हजार 334 विद्यार्थी अनरोल हैं, जिनमें 25756 विद्यार्थी शामिल हैं। इनमें से करीब 10 हजार विद्यार्थी ऐसे हैं जिनके खातों में अभी तक किताबों के रुपए नहीं आए हैं।

विभाग की तरफ से अगले महीने तक इन विद्यार्थियों के बैंक खाते खुलवाने व एमआईएस पोर्टल पर बैंक खातों की डिटेल अपलोड करने के निर्देश दिए हैं। विभाग पांचवी कक्षा तक के विद्यार्थियों को किताबों के 200 रुपए और छठी से आठवीं तक के छात्रों को 500 रुपए दे रहा है।

शिक्षक अपने स्तर पर ही करावा रहे तैयारी…..प्राथमिक शिक्षक संघ के जिला प्रधान रामराज कादियान ने बताया कि बच्चों के पास पूरी किताबें नहीं है ताे वह परीक्षाएं कैसे पास करेंगे। सरकार काे पहले किताबें देनी चाहिए, उसके बाद परीक्षाएं करवाने की घोषणा करनी चाहिए। टीचर्स अपने स्तर पर बच्चों काे तैयारी करवा रहे हैं। शिक्षा विभाग ने नेशनल अचीवमेंट सर्वे के लिए ताे किताबें छपवा दी, लेकिन बच्चों की पढ़ाई से संबंधित किताबें नहीं छपवा सका।

बुक्स के बिना कैसे पढ़ें…….विद्यार्थियों का कहना है कि स्कूल में नेशनल अचीवमेंट सर्वे के लिए तैयारी चल रही है, लेकिन फाइनल एग्जाम के लिए जब तक हमें पूरी किताबें ही नहीं मिलेंगी, तो पढ़ाई कैसे करेंगे? कई स्टूडेंट्स ने मार्केट से किताबें खरीदनी चाही, लेकिन मार्केट में भी किताबें नहीं हैं।

आस- जल्द किताबें मिल जाएं…….आठवीं कक्षा की एक छात्रा के अनुसार नवंबर-दिसंबर में टर्म-1 की परीक्षाएं लेने की घोषणा कर दी है। इतने कम समय में तैयारी कैसे हाेगी? मानसिक तनाव है। स्टडी की सामग्री नहीं होगी तो तैयारी करेंगे। इस बारे में शिक्षा विभाग को निर्णय लेकर किताबें स्कूलों तक पहुंचानी चाहिए।

जिन विद्यार्थियों के बैंक में खाते नहीं खुले हैं सिर्फ उन्हीं की किताबों के रुपए खातों में नहीं आए हैं। सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को स्कूल वाइज बच्चों के खाते अपडेट कराने को कहा गया है। खाते खुलते और अपडेट होते ही विद्यार्थियों के खातों में रुपए आ जाएंगे। सभी विद्यार्थियों को पुरानी किताबें भी दी जा चुकी हैं।-सुनीता पंवार, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी।

Continue Reading

Featured Post

Top News5 दिन पूर्व

हमला करके गंभीर चोट पहुँचाने व मोबाइल छीनने के चार आरोपी गिरफ्तार

कुरुक्षेत्र। जिला पुलिस कुरुक्षेत्र ने सामूहिक हमला करके गंभीर चोट पहुँचाने व मोबाइल छीनने के चार आरोपियो को गिरफ्तार किया...

Top News2 सप्ताह पूर्व

नशीली दवाईयां बेचने के आरोप में दो गिरफ्तार

Top News1 महीना पूर्व

सिपाही पेपर लीक मामले में 2 लाख रुपए का ईनामी अपराधी मुजफ्फर अहमद सीआईए-1 पुलिस द्वारा जम्मु से गिरफ्तार

सिपाही पेपर लीक मामले में कैथल पुलिस को बडी कामयाबी

Top News2 महीना पूर्व

फेसबुक फ्रॉड से बचने के लिए कैथल पुलिस ने जारी की एडवाईजरी

कैथल, 01 सितंबर । प्राय: देखने में आ रहा है कि आजकल हैकर फेसबुक अकाउंट हैक करके उनके परिचितो से...

Top News2 महीना पूर्व

कैथल पुलिस के दो ASI रैंक के पुलिस अधिकारियों ने एक बार फिर से खाकी को किया दागदार

ASI रेंक दो पुलिस कर्मियों पर हुई बड़ी कार्यवाही कैथल महिला पुलिस ASI सुदेश व ASI राजकुमार के खिलाफ FIR...

Recent Post

Trending

Copyright © 2018 Chautha Khambha News.

Web Design BangladeshBangladesh online Market