Connect with us

Top News

वनों की सुरक्षा पर स्थानीय लोगों को दिए जाएं इन्सेंटिवः उपराष्ट्रपति

Published

on

देहरादून, 25 अप्रैल
देहरादून राज्य वनों के संरक्षण और संवर्द्धन में अच्छा काम कर रहे हैं, उन्हें इसका लाभ मिलना चाहिए, उन्हें इन्सेंटिव दिया जाना चाहिए। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वन अकादमी देहरादून के दीक्षांत समारोह को सम्बोधित करते हुए उप राष्ट्रपति एम.वेंकैया नायडु ने कहा कि वनों को बचाए रखने के लिए स्थानीय लोगों को, पंचायतों तथा स्थानीय निकायों को इन्सेंटिव दिया जाय, उनको ऑपरेशनल राइट्स दिए जाएं। इससे राज्यों को, लोगों को ग्रीन कवर बढ़ाने के लिए प्रोत्साहन मिलेगा।
बुधवार को उप राष्ट्रपति एम.वेंकैया नायडु, राज्यपाल डॉ.कृष्णकान्त पाल, मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत एवं केन्द्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने बुधवार को इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वन अकादमी देहरादून में भारतीय वन सेवा परिवीक्षार्थियों(प्रोबेशनर्स) के दीक्षान्त समारोह का दीप प्रज्ज्वलित कर शुभारम्भ किया। इस मौके पर उप राष्ट्रपति ने कहा कि अपने बच्चों और आने वाली पीढ़ियों के लिए वनों को बचाना जरूरी है। प्रशिक्षु अधिकारियों कों कर्तव्यनिष्ठा और देशभक्ति की भावना से ओतप्रोत करते हुए उप राष्ट्रपति ने कहा की वन संरक्षण सहित हर राष्ट्रीय कार्यक्रम को जनांदोलन का रूप देना जरूरी है। समाज की अंतिम पंक्ति में खड़े व्यक्ति का उत्थान पहले होना चाहिए। फॉरेस्ट का अर्थ है ‘‘फार फ्रॉम रेस्ट’, वन अधिकारियों को चाहिए कि लोगों के साथ जुड़कर जनसेवा करे। उन्होंने कहा कि सतत वैज्ञानिक उपायों से एकीकृत ईकोसिस्टम को बनाए रखना और उसको मजबूत बनाना जरूरी है। वन सेवा एक चुनौती पूर्ण कार्य है। वन सम्पदा को बचाने में कई फॉरेस्ट अधिकारियों ने प्राणों का बलिदान तक दिया है। वनाधिकारियों को वनों में निवास करने वाले आदिवासी समुदायों का विशेष ध्यान रखना चाहिए। उन्हें सहायता दें, प्रशिक्षित करें और उनके सर्वांगींण विकास में सहायक हों। मानव वन्य जीव संघर्ष (मैन ऐनिमल कान्फ्लिक्ट) के निवारण के लिए भी ठोस उपाय किए जाएं। उप राष्ट्रपति ने भारतीय वन सेवा वर्ष 2016-18 बैच में प्रशिक्षण के दौरान उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले अधिकारियों को सम्मानित भी किया।

‘ग्रीन एकाउंटिंग’ की अवधारणा अपनाना जरूरीः राज्यपाल
राज्यपाल डॉ. कृष्ण कांत पाल ने भारतीय वन सेवा के प्रोबेशनर अधिकारियों को बधाई देते हुए कहा कि एक प्रोफेशनल व प्रशिक्षित फोरेस्टर बदलते पर्यावरण की समस्याओं को समझ सकता है। राज्यपाल ने कहा कि दून घाटी को ‘भारतीय वानिकी का पालना’ कहा जा सकता है। चिपको आंदोलन जिसकी पर्यावरण संरक्षण के मॉडल के तौर पर पूरे विश्व में पहचान है, की शुरूआत हिमालय में हुई थी। राज्यपाल ने कहा कि वन अधिकारियों को वन संरक्षण में गहन तकनीक व समाजार्थिक इनपुट का प्रयोग करना चाहिए। वन संरक्षण में अधिक शोध की भी आवश्यकता है। वन प्रबंधन की आयोजना में बड़े पैमाने पर परिवर्तन किए जाने की आवश्यकता है। बाढ़, सूखा, मृदा उर्वरता में कमी आदि प्राकृतिक आपदाओं के नियंत्रण में वनों की अहम भूमिका है। वन अधिकारियों को वैज्ञानिक ज्ञान के प्रयेाग के साथ स्थानीय लोगों को तकनीकी तौर पर दक्ष करने पर भी ध्यान देना चाहिए। राज्यपाल ने कहा कि वनों के कटाव से ग्लोबल ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन की समस्या विकराल होती जा रही है। जिस प्रकार अर्थशास्त्री जीडीपी का मूल्यांकन करते हैं, उसी प्रकार ‘ग्रीन एकाउंटिंग’ की अवधारणा को भी अपनाना चाहिए। यह विशेष तौर पर उत्तराखण्ड जैस पर्वतीय राज्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।
पर्यावरण बचाते हुए, नई तकनीकों को मिले बढ़ावाः मुख्यमंत्री
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने दीक्षांत समारोह में उपाधि पाने वालों को बधाई देते हुए कहा कि आज का दिन उनकी तपस्या, मेहनत और लगन के फल प्राप्ति का दिन है। यह दिन आईएफएस अधिकारियों को नई जिम्मदारियों से जोड़ने वाला दिन है। वनों का महत्व हमारे लिए दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। उत्तराखंड का 71 प्रतिशत भू भाग वन क्षेत्र है। उत्तराखंड चिपको आन्दोलन की भूमि है। मुख्यमंत्री ने दीक्षांत में पासआउट अधिकारियों से नई तकनीकी और शोध को बढ़ावा देने की अपेक्षा की। उन्होंने कहा कि वन सम्पदा हमारे जीवन का आधार है। वनों और मानव जीवन की मूल आवश्यकता में सामंजस्य बनाना एक बड़ी चुनौती है। वनों का अधिक से अधिक लाभ भी हो और उनपर कोई संकट न आए, ये देखना हम सबकी जिम्मेदारी है। मुख्यमंत्री ने उत्तरकाशी ‘‘ईको सेन्सिटिव जोन’’ का उल्लेख करते हुए कहा की पर्यावरण को बचाते हुए, नई तकनीकों के प्रयोग को बढ़ावा देना आवश्यक है और समाज को लाभान्वित भी करना है। मुख्यमंत्री ने वनाग्नि की घटनाओं को रोकने के लिए नयी तकनीकी और उपाय अपनाने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में इस वर्ष अभी तक बहुत कम वनाग्नि की घटनाए हुई है और सरकारी इंतजाम पूरे किए गए है। उन्होंने कहा कि वनाग्नि की घटनाओं की पूरी रोकथाम के लिए स्थानीय समुदाय, वन विभाग और अन्य सभी कर्णधारों को एक साथ काम करना होगा।
जलवायु परिवर्तन रोकने को वन संरक्षण जरूरीः डॉ. हर्षवर्धन
केन्द्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने युवा परिवीक्षार्थियों को इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वन अकादमी देहरादून में प्रशिक्षण पूर्ण होने पर बधाई दी। उन्होंने वनाश्रित समुदायों को सशक्त बनाने तथा वनों से दीर्घकालीन लाभ प्राप्त करने, ग्रामीणों की आजीविका के स्रोत एवं जलवायु परिवर्तन को रोकने के एक साधन के रूप में वनों को संरक्षित किए जाने के प्रयासों पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि उन्हें पूर्ण विश्वास है कि ये युवा अधिकारी राष्ट्र की उम्मीदों पर खरे उतरेंगे।
53 आईएफएस अधिकारियों को मिले डिप्लोमा
इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वन अकादमी के निदेशक डॉ. शशि कुमार ने बताया कि वर्तमान 2016-18 व्यावसायिक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में 05 उत्तर प्रदेश, 06 बिहार, 03 दिल्ली, 03 पंजाब, 01 पश्चिम बंगला, 07 राजस्थान, 01 मध्य प्रदेश, 06 तमिलनाडु, 02 झारखंड, 04 महाराष्ट्र, 03 कर्नाटक, 04 आन्ध्र प्रदेश, 02 हरियाणा, 04 तेलंगाना, 02 भूटान के विदेशी प्रशिक्षु अधिकारियों समेत कुल 53 आईएफएस परिवीक्षार्थियों को डिप्लोमा प्रदान किया जा रहा है। इन अधिकारियों में से 18 ने 75 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करते हुए ऑनर्स डिप्लोमा प्राप्त किया है। सफलतापूर्वक अपना प्रशिक्षण पूर्ण करने वाले सभी अधिकारियों को इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वन अकादमी के एसोसिएट डिप्लोमा से सम्मानित किया जा रहा है। जिसमें इन्हें फिनलैंड/रूस और स्पेन/इटली की स्पेशल ओवरसीज़ एक्सपोज़र विजिट भी कराई गई हैं।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Top News

कांस्टेबल भर्ती का शेड्यूल तीसरी बार जारी : 9 जिलों में 3 दिन एग्जाम; कल से डाउनलोड करें एडमिट कार्ड

कांस्टेबल भर्ती का शेड्यूल तीसरी बार जारी : 9 जिलों में 3 दिन एग्जाम; कल से डाउनलोड करें एडमिट कार्ड

Published

करनाल। हरियाणा पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा के लिए हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग (HSSC) ने तीसरी बार शेड्यूल जारी किया है। इससे पहले 10 जुलाई और 27 सितंबर को परीक्षा का शेड्यूल जारी किया गया था। पहली बार हुई परीक्षा का पेपर लीक हो गया था, जिस वजह से भर्ती परीक्षा उस समय रद्द करनी पड़ी। वहीं इस बार परीक्षा में पहले से ज्यादा सुरक्षा के प्रबंध किए गए हैं।

परीक्षा तीन दिनों में 31 अक्टूबर, एक नवंबर व दो नवंबर को ली जाएगी। तीनों दिनों में दो-दो सत्र में परीक्षा होगी। परीक्षा के लिए 23 अक्टूबर से एडमिट कार्ड डाउनलोड होने शुरू होंगे। आयोग के चेयरमैन भोपाल सिंह खदरी ने बताया कि पेपर के लिए पंचकूला, यमुनानगर, अंबाला, कुरुक्षेत्र, करनाल, महेंद्रगढ़, रेवाड़ी, गुरुग्राम व फरीदाबाद में परीक्षा केंद्र के लिए जिले को चुना गया है। इन जिलों के सब डिवीजनों पर भी परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे। तीन दिनों में दो-दो शिफ्ट में पेपर होगा।

शैक्षणिक योग्यता: किसी भी स्ट्रीम से 12वीं पास। 10वीं में हिन्दी या संस्कृत विषय पढ़ा होना जरूरी।

आयु सीमा: 18 से 25 वर्ष । एससी, बीसी और ईडब्ल्यूएस को आयु सीमा में 5 वर्ष की छूट मिलेगी।

7 व 8 अगस्त को हो गया था लीक

HSSC ने 7 व 8 अगस्त को परीक्षा ली थी। पहले दिन 7 अगस्त को पहला ही पेपर कई जिलों में लीक हो गया था। कैथल पुलिस ने इस मामले में 44 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही खुलासा किया था कि पेपर को लीक करने में कैसे और किसने, क्या भूमिका निभाई।

Continue Reading

Top News

सैनी स्कूल के वार्षिक उत्सव के कार्यक्रम में मुख्यातिथि के तौर पर पहुंचे : सांसद नायब सैनी

सैनी स्कूल के वार्षिक उत्सव के कार्यक्रम में मुख्यातिथि के तौर पर पहुंचे : सांसद नायब सैनी

Published

कैथल। कैथल के सैनी सीनियर सैकेंडरी स्कूल में वार्षिक उत्सव का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्यातिथि के तौर पर  सांसद नायब सिंह सैनी पहुंचे। उन्होंने कार्यक्रम की शुरुआत महाराजा शूरसैनी और सरस्वती माता की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित व ध्वजारोहण के साथ हुई। सांसद नायब सैनी ने कहा कि शिक्षा से ही मानव जीवन का चहुंमुखी विकास होता है।

हर मां बाप को चाहिए कि बेटा हो या बेटी, उनका आगे बढऩे का अवसर पदान करें और स्कूल बच्चों को नैतिक शिक्षा का पाठ अवश्य पढ़ाएं। उन्होंने कहा कि सैनी समाज का इतिहास जितना गौरवशाली और महान है, उतना ही यह प्राचीन भी है और ऋग्वेद में श्रेणी नामक वीर जाति का वर्णन मिलता है, शूरसैनी महाराज ने ही शूरसैनीगण की स्थापना की थी। इस समाज के लोग आज भी सत्य और अहिंसा के मार्ग पर चलकर अपनी महान परंपरा को बरकरार रख रहे हैं। महाराजा शूरसैनी ने मेहनतकश समाज के कल्याण और मानवता के उद्धार के लिए महान योगदान दिया। इस मौके पर स्कूल के बच्चों द्वारा प्रस्तुतियां भी दी गई। बच्चों ने मॉडल प्रदर्शनी के माध्यम से भी अपनी प्रतिभा दिखाई। इस दौरान कैथल से विधायक लीला राम, बीजेपी के जिला अध्यक्ष अशोक गुर्जर भी मौजूद रहे।

Continue Reading

Top News

बच्चों के डाटा बेस को परिवार पहचान पत्र के साथ मैपिंग को लेकर हुई बैठक

बच्चों के डाटा बेस को परिवार पहचान पत्र के साथ मैपिंग को लेकर हुई बैठक

Published

कैथल। सचिवालय स्थित विडियो कॉन्फ्रेंस हॉल में अतिरिक्त उपायुक्त समवर्तक सिंह ने डीपीओ व सुपरवाइजर के साथ बच्चों के डाटा बेस को परिवार पहचान पत्र के साथ मैपिंग को लेकर समीक्षा बैठक की। जिले में 96 हजार 651 बच्चे आंगनवाड़ी केंद्रों में आते हैं, जिसमें से 45 हजार 458 बच्चों का मैपिंग का कार्य हो चुका है। यह कार्य 1284 वर्करों द्वारा किया जा रहा है।


एडीसी समवर्तक ने डीपीओ व सुपरवाइजर के साथ की समीक्षा बैठक


अतिरिक्त उपायुक्त ने कहा कि कार्य को जल्द से जल्द पूरा किया जाए। यह कार्य बहुत महत्वपूर्ण है। सरकार की योजनाओं का लाभ हर व्यक्ति तक पहुंचाना संबंधित विभागों का कार्य है। इस कार्य में किसी प्रकार की कोताही सहन नहीं की जाएगी। इस दौरान एडीसी ने सुपरवाइजर्स के सामने आ रही समस्याओं पर भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि सभी कर्मचारी आंगनवाड़ी वर्करों के साथ मिलकर जल्द से जल्द इस कार्य को पूरा करें, जो भी अपने क्षेत्र का कार्य सबसे पहले करेगा, उसे विशेष तौर पर सम्मानित भी किया जाएगा। इस दौरान प्लानिंग अधिकारी विजेंद्र सिंह, सीडीपीओ कमलेश गर्ग, डीपीओ अनिता नैन,  निर्मला, सुपरवाईजर मीनू, दीप्ति, पूनम, निशा आदि मौजूद रहे

Continue Reading

Featured Post

Top News2 दिन पूर्व

पूछताछ में खुलासा: इंटर स्टेट साइबर फ्राॅड गैंग का गुर्गा गिरफ्तार, एटीएम कार्ड बदलकर फर्जी जनरल स्टाेर के नाम पर ली स्वाइप मशीन से करते थे खाते खाली

पूछताछ में खुलासा: इंटर स्टेट साइबर फ्राॅड गैंग का गुर्गा गिरफ्तार, एटीएम कार्ड बदलकर फर्जी जनरल स्टाेर के नाम पर...

Top News2 दिन पूर्व

आरसी फर्जीवाड़ा:पुलिस कैंसिल करेगी गाड़ियाें का पंजीकरण, मालिकों को दोबारा रजिस्ट्रेशन करा कोर्ट से लेनी होगी गाड़ी

आरसी फर्जीवाड़ा:पुलिस कैंसिल करेगी गाड़ियाें का पंजीकरण, मालिकों को दोबारा रजिस्ट्रेशन करा कोर्ट से लेनी होगी गाड़ी

Top News1 सप्ताह पूर्व

हमला करके गंभीर चोट पहुँचाने व मोबाइल छीनने के चार आरोपी गिरफ्तार

कुरुक्षेत्र। जिला पुलिस कुरुक्षेत्र ने सामूहिक हमला करके गंभीर चोट पहुँचाने व मोबाइल छीनने के चार आरोपियो को गिरफ्तार किया...

Top News2 सप्ताह पूर्व

नशीली दवाईयां बेचने के आरोप में दो गिरफ्तार

Top News1 महीना पूर्व

सिपाही पेपर लीक मामले में 2 लाख रुपए का ईनामी अपराधी मुजफ्फर अहमद सीआईए-1 पुलिस द्वारा जम्मु से गिरफ्तार

सिपाही पेपर लीक मामले में कैथल पुलिस को बडी कामयाबी

Recent Post

Trending

Copyright © 2018 Chautha Khambha News.

%d bloggers like this:
Web Design BangladeshBangladesh online Market