Connect with us

कारोबार

हमने रूचि सोया के लिए 9 हजार करोड़ की बोली नहीं लगाई: पतंजलि

Published

on

हरिद्वार/ नई दिल्ली, 26 अप्रैल

 

पतंजलि

पतंजलि समूह ने रूचि सोया इंडस्ट्रीज़ को खरीदने की खबरों से इनकार किया है। पतंजलि समूह प्रबंधन ने कहा कि रूचि सोया इंडस्ट्रीज़ को पतंजलि द्वारा 9 हजार करोड़ रुपये में खरीदने की खबरें गलत है। हम केवल मूल्यांकन कर रहे हैं।
घाटे से जूझ रहे रूचि सोया समूह को खरीदने के लिए कई उद्योग समूह कतार में है। पतंजलि समूह ने माना है कि वो भी रूचि सोया को खरीदने में इच्छुक है, लेकिन 9 हजार करोड़ रुपये की बोली लगाने की खबर गलत है। पतंजलि ने रूचि सोया का वित्तीय मूल्यांकन करवाया है, जिसके बाद इस डील की कीमत लगभग 2 हजार करोड़ के आस-पास होनी चाहिए।
रूचि सोया इंडस्ट्रीज़ खाद्य तेल में अग्रणी कंपनी है, जो रूचि सोया गोल्ड, न्यूट्रीला, महाकोश, सनरीच, रूचि स्टार जैसे ब्रॉन्ड की मालिक है। कंपनी पर 12 हजार करोड़ रूपये का कर्ज बताया जा रहा है। रूचि सोया की खराब वित्तीय हालत को देखते हुए उसे कर्ज देनेवाली कंपनियां उसके दिवालिया होने का केस नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) कर चुके हैं। 

चौथा खंभा न्यूज़ .कॉम/ नसीब सैनी

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Top News

बाबा रामदेव मामला: ट्विटर और गूगल की याचिकाओं पर दिल्ली हाईकोर्ट में 21 दिसम्बर को सुनवाई

—पिछले 23 अक्टूबर को हाईकोर्ट ने फेसबुक, गूगल, यूट्यूब और ट्विटर को निर्देश दिया था कि वो बाबा रामदेव के खिलाफ आरोपों से संबंधित कंटेंट हटाएं

Published

नई दिल्ली,(नसीब सैनी)।

दिल्ली हाईकोर्ट सोशल मीडिया कंपनी ट्विटर और गूगल की बाबा रामदेव के खिलाफ आरोपों से संबंधित कंटेंट हटाने के दिल्ली हाईकोर्ट के सिंगल बेंच के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई करने के लिए सहमत हो गया है । हाईकोर्ट ट्विटर और गूगल दोनों की याचिकाओं को फेसबुक की याचिका के साथ ही सुनवाई करेगा। कोर्ट ने तीनों की याचिका पर 21 दिसम्बर को सुनवाई करने का आदेश दिया।

पिछले 31 अक्टूबर को फेसबुक ने सिंगल बेंच के फैसले को हाईकोर्ट के डिवीजन बेंच में चुनौती दी थी। हाईकोर्ट की डिवीजन बेंच फेसबुक की याचिका पर सुनवाई करने के लिए सहमत हो गई थी। डिवीजन बेंच ने सिंगल बेंच के आदेश पर रोक लगाने से इनकार करते हुए कहा था कि वो कोर्ट की अवमानना संबंधी कोई याचिका स्वीकार नहीं करेगी।

पिछले 23 अक्टूबर को हाईकोर्ट ने फेसबुक, गूगल, यूट्यूब और ट्विटर को निर्देश दिया था कि वो बाबा रामदेव के खिलाफ आरोपों से संबंधित कंटेंट हटाएं। जस्टिस प्रतिभा सिंह की सिंगल बेंच ने बाबा रामदेव और पतंजलि आयुर्वेद की याचिका पर सुनवाई करते हुए 29 सितम्बर, 2018 को बाबा रामदेव के बारे में लिखी गई पुस्तक ‘गॉडमैन टू टाइकून-द अनटोल्ड स्टोरी ऑफ बाबा रामदेव’ को छापने, डिस्ट्रीब्यूट या बेचने पर रोक लगा दी थी। कोर्ट ने कहा था कि इस पुस्तक के अंश वीडियो के जरिये फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर डाले गए हैं।

सुनवाई के दौरान फेसबुक ने कहा था कि वैश्विक स्तर पर कंटेंट को हटाना कानूनों के टकराव और विरोध को दबाने जैसा है। गूगल ने कहा था कि जिस पक्ष ने कंटेंट अपलोड किया है, उसे कोर्ट में पक्षकार नहीं बनाया गया है, लिहाजा इस याचिका को खारिज किया जाना चाहिए। गूगल ने कहा कि इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट केवल भारत में लागू है, इसलिए इस एक्ट के आधार पर वैश्विक स्तर पर कंटेंट हटाने का आदेश नहीं दिया जा सकता है।

2018 में बाबा रामदेव ने जगरनॉट बुक्स द्वारा प्रकाशित होने वाली इस पुस्तक को छापने से रोकने के लिए हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। याचिका पर सुनवाई करते हुए दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा था कि पुस्तक जिसके बारे में लिखी गई है, उनकी गरिमा का ध्यान रखा जाना चाहिए और जब तक कोर्ट में ये प्रमाणित नहीं हो जाए तब तक उन्हें खलनायक के तौर पर पेश नहीं किया जा सकता है। कोर्ट ने कहा था कि ये पुस्तक संविधान की धारा 21 के तहत प्रदत्त मौलिक अधिकारों का उल्लंघन करती है। हाईकोर्ट ने प्रकाशक की इस दलील को खारिज कर दिया था कि उसका मकसद बाबा रामदेव को बदनाम करना कतई नहीं था। 

नसीब सैनी

Continue Reading

Top News

उप्र में अब बिना पैसे मंत्री जी को भी नहीं मिलेगी बिजली, प्रीपेड स्मार्ट मीटर की शुरुआत

—सरकार भी उपभोक्ता, 13 हजार करोड़ रुपये है बिजली बिल बकाया

Published

लखनऊ,(नसीब सैनी)।

बिजली लॉस रोका जाय, बिल का बकाया भी न हो, हर गरीब तक बिजली पहुंचे, इसके लिए सरकार ने प्रीपेड स्मार्ट मीटर लगाने की शुरुआत शुक्रवार से कर दी है। इसकी शुरुआत प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने अपने सरकारी आवास से ही की। पहले चरण में सरकारी बंगलों और सरकारी ऑफिसों में इसे लगाने की कवायद शुरू होगी। 

ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने बताया कि जनता को 24 घंटे बिजली मिले। गरीबों की झोपड़ी तक बिजली पहुंचे सरकार का यही प्रयास है। गरीबों तक बिजली तभी पहुंचाना संभव होगा, जब लाइन लॉस कम हो, बिजली बिल समय से जमा करें। सरकार भी बिजली पैसा जमाकर खरीदती है। इसके लिए जरूरी है कि लोग स्वयं भी बिजली पैसा जमाकर बिजली खरीदें। इसके लिए हम प्रयास कर रहे हैं। 

ऊर्जा मंत्री ने कहा कि लोग कहते हैं कि नेता लोग सिर्फ आमजन के लिए ही नियम बनाते हैं। इस कारण हमने प्रीपेड स्मार्ट मीटर लगाने की शुरुआत अपने घर से ही की है। अभी इस समय प्रदेश में 13 हजार करोड़ रुपये बिजली बिल बकाया है। इसमें 10 हजार करोड़ रुपये तो हमें विरासत में मिले थे लेकिन हम उसमें नहीं जाना चाहते। हम प्रयास कर रहे हैं कि बिजली बिल की वसूली के साथ ही लाइन लॉस को भी कम किया जाय। उन्होंने कहा कि अब तक 65 जिलों में बिजली विभाग के थाने संचालित होने लगे हैं। ये थाने बिजली चोरी को रोकने का काम कर रह हैं। गांवों में भी ग्राम प्रधानों से कहा जा रहा है कि वे अपने गांव में 15 प्रतिशत से कम लाइन लॉस लाएं, उनके गांव की समीक्षा 48 घंटे के भीतर होगी और 24 घंटे बिजली मिलनी शुरू हो जाएगी। हमारा प्रयास है कि हर घर तक बिजली की पहुंच हो, इसके साथ ही बिजली 24 घंटे दी जाय।

इस दौरान विभाग के प्रमुख सचिव अरविंद कुमार भी मौजूद रहे। सरकारी प्रवक्ता के मुताबिक, प्रीपेड स्मार्ट मीटर के सिलसिले में एजेंसी ने मौका मुआयना किया है। ऊर्जा मंत्री के बंगले पर प्रीपेड स्मार्ट मीटर लगने के बाद कॉलिदास मार्ग के तीन अन्य बंगलों में भी प्रीपेड स्मार्ट मीटर लगाया जाएगा। ये बंगले औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना, वित्त मंत्री सुरेश खन्ना एवं कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही के हैं। मंत्रियों के इन बंगलों की विद्युत खपत का लोड लगभग 25 किलोवाट है। इसके अलावा थानों, सरकारी आवास और दफ्तरों में प्री पेड मीटर लगाए जाएंगे। 

प्रीपेड स्मार्ट मीटर की कई खासियतें हैं। इसमें प्रीपेड, पोस्ट पेड एवं सोलर बिजली की सप्लाई की बिलिंग की जा सकती है। यानी इस मीटर के लगने के बाद उपभोक्ता चाहे तो उसे प्रीपेड रिचार्ज करा लें या फिर पहले बिजली जलाए। बाद में बिल भरे और सोलर बिजली की बिलिंग भी हो जाएगी। गौरतलब है, कि ऊर्जा मंत्री ने 15 नवंबर से सरकारी आवासों में प्रीपेड स्मार्ट मीटर लगाने के अभियान की घोषणा की थी। 

नसीब सैनी

Continue Reading

Top News

पेट्रोल लगातार हो रहा महंगा

—पेट्रोल पिछले दो दिन में देश की राजधानी दिल्ली में 33 पैसे प्रति लीटर महंगा हो चुका है

Published

नई दिल्‍ली,(नसीब सैनी)।

ऑयल मार्केटिंग कंपनियों (ओएमसी) ने लगातार दूसरे दिन पेट्रोल की कीमत में बढ़ोतरी की है। हांलाकि, डीजल की कीमत में शुक्रवार को भी कोई बढ़ोतरी नहीं की गई है। ओएमसी ने राजधानी दिल्‍ली, मुंबई और कोलकाता में पेट्रोल की कीमत में 18 पैसे प्रति लीटर बढ़ा  दिए हैं। चेन्नई में पेट्रोल के भाव में 19 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की है। पेट्रोल पिछले दो दिन में देश की राजधानी दिल्ली में 33 पैसे प्रति लीटर महंगा हो चुका है।

इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार राजधानी दिल्‍ली, मुंबई, कोलकाता और चेन्नई में पेट्रोल क्रमश: 73.63 रुपये, 79.30 रुपये, 76.33 रुपये और 76.53 रुपये प्रति लीटर के भाव पर मिल रहा है। देश के चार महानगरों में डीजल क्रमश: 65.79 रुपये, 69.01 रुपये, 68.20 रुपये और 69.54 रुपये  प्रति लीटर के भाव पर बिक रहा है

नसीब सैनी

Continue Reading

Featured Post

Top News17 घंटे पूर्व

दिल्ली : तीस हजारी कोर्ट में गोली चलाने वाले पुलिस जवानों की गिरफ्तारी पर अंतरिम रोक

---तीस हजारी कोर्ट में वकील पर गोली चलाने के आरोपित एएसआई पवन कुमार और एक अन्य पुलिसकर्मी ने दिल्ली हाई...

Top News21 घंटे पूर्व

लॉस एंजेलिस के स्कूल में गोलीबारी, बच्ची की मौत

---हमलावर बच्चे को हेलीकॉप्टर की मदद से पकड़ा गया

Top News4 दिन पूर्व

पंजाब: लुधियाना अस्पताल की नर्स निकली खालिस्तानी आतंकी, दो गिरफ्तार

---साथी समेत किया गिरफ्तार, कई हिन्दू संगठनों के नेता थे निशाने पर ---जांच में खुलासा, टेरर फंडिंग से जुड़ा है...

Top News5 दिन पूर्व

सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक फोटो डालने वाले आरोपी को जेल

---पुलिस अधीक्षक वीरेंद्र कुमार मिश्र के निर्देश पर सोशल मीडिया सेल ने आरोपी की पहचान कर दबोच लिया

Top News5 दिन पूर्व

पुलिस विवादित और भड़काऊ पोस्ट पर कर रही है गिरफ्तार

---सबसे अधिक ट्विटर पर 5294, फेसबुक 2220 और यू-ट्यूब के 167 वीडियो व प्रोफाइल के खिलाफ रिपोर्ट की गई

Recent Post

Trending

Copyright © 2018 Chautha Khambha News.

Web Design BangladeshBangladesh online Market