Connect with us

लाइफस्टाइल

हल्दी में समाएं औषधिय गुण

Published

on

हल्दी ‘टर्मरकि’ भारतीय वनस्पति है। आयुर्वेद में हल्दी को एक महत्वपूर्ण औषधि कहा गया है। हल्दी का भारतीय रसोई में इसका महत्वपूर्ण स्थान है और धार्मिक रूप से इसको बहुत शुभ समझा जाता है। विवाह में तो हल्दी की रसम का अपना एक विशेष महत्व है। हल्दी और दूध दोनों हीं हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी है। हल्दी और गर्म दूध दोनों को मिलाकर पिया जाए, तो इसके और भी ज्यादा फायदे हैं, हरदिन हल्दी और दूध पीकर आप कई बीमारियों और संक्रमणों से बच सकते हैं।

हल्दी में विटामिन, खनिजलवण, प्रोटीन, वसा आदि सभी कुछ होता है, हल्दी में पाया जानेवाला करक्यूमिन नामक पीला तत्व दिमागी संतुलन को बनाए रखने में कारगर होता है। हल्दी सभी आवश्यक पोषक व रायायनिक तत्वों से परिपूर्ण है।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Top News

डेंगू से डरें नहीं बल्कि लड़ें, लक्षण मिलने पर तुरंत करवाएं अस्पताल में इलाज, घर व आसपास रखें साफ-सफाई : डीसी प्रदीप दहिया

डेंगू से डरें नहीं बल्कि लड़ें

Published

कैथल, 1 अक्तूबर ( चौथाखंभा न्यूज़ ) उपायुक्त प्रदीप दहिया ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा डेंगू के आशंकित इलाकों में फॉगिंग करवाई जा रही है ताकि डेंगू के लार्वा को खत्म किया जा सके। स्वास्थ्य विभाग की टीम को 94 जगहों पर डेंगू का लार्वा मिला है, जिसमें 52 शहरी क्षेत्र में तथा 42 जगह ग्रामीण क्षेत्र में लार्वा पाया गया है। विभाग द्वारा संबंधितों को नोटिस जारी करते हुए लार्वा को नष्ट किया गया है। अब तक 1160 लोगों को नोटिस जारी किया गया है। स्वास्थ्य विभाग डेंगू के सैम्पल भी लिए जा रहे हैं।


उपायुक्त प्रदीप दहिया डेंगू के मामलों को लेकर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ कार्यालय में बैठक कर रहे थे। उपायुक्त ने सीएमओ निर्देश देते हुए कहा कि बुखार से पीड़ित सभी लोगों के सैंपल लेते रहें और जिले वासियों को डेंगू से बचाव के प्रति भी जागरूक करते रहें। उन्होंने आह्वान किया जिला वासियों को डेंगू से घबराने की जरूरत नहीं है, अगर किसी व्यक्ति में डेंगू के लक्षण नजर आए तो उन्हें तुरंत सरकारी अस्पताल या अपने नजदीकी अस्पताल में डेंगू का इलाज करवाएं। अपने घरों में लार्वा न पनपने दें और घर के आस-पास साफ-सफाई रखें।
सीएमओ डॉ. जयंत आहूजा ने बताया कि डेंगू के शुरूआती लक्षणों में सिर दर्द, मांसपेशियों में दर्द, आंखों में दर्द, शरीर में दर्द व बुखार आना है। इसलिए बुखार आने पर अपने नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र में जाकर डेंगू की जांच करवाएं क्योंकि सही समय पर इलाज न मिल पाना जानलेवा साबित हो सकता है। ऐसे में इसके निदान के लिए खून की जांच करवाएं। पुष्टि होने पर इसके लक्षणों के आधार पर डॉक्टर की सलाह पर उपचार करवाएं।

Continue Reading

Top News

अमेरिका में फ़्लू का क़हर, इस साल 1300 मौतें

—शुक्रवार को सेंटर फ़ार डिजीज कंटोल एंड प्रिवेन्शन विभाग ने एक वक्तव्य में कहा है कि फ़्लू रोग के दिन प्रतिदिन नए मामले आ रहे है

Published

लॉस एंजेल्स,(नसीब सैनी)।

अमेरिका में पूर्वी छोर से पश्चिमी छोर तक हज़ारों लोग फ़्लू रोग के शिकार हो रहे हैं। इस साल फ़्लू रोग के 26 लाख लोग प्रभावित हुए हैं, जिनमें 1300 लोगों की मौतें हो चुकी हैं। अमेरिका के अल्बामा राज्य में सर्वाधिक फ़्लू रोग की शिकायतें आई है। इनके अलावा अमेरिका के सीमावर्ती राज्यों में भी यह रोग ज़ोर पकड़ रहा है। फ़्लू के बचाव के लिए सरकार ने सभी चिकित्सालयों में निशुल्क टीकाकरण का बंदोबस्त किया है। 

शुक्रवार को सेंटर फ़ार डिजीज कंटोल एंड प्रिवेन्शन विभाग ने एक वक्तव्य में कहा है कि फ़्लू रोग के दिन प्रतिदिन नए मामले आ रहे है। अभी तक  साल भर में जो 26 लाख लोग फ़्लू के शिकार हुए हैं, उनमें से 23 हज़ार लोगों को अस्पताल भर्ती कराना पड़ा। इनमें से 1300 लोगों की मौत हो गई थी, जिनमें दस बच्चे भी हैं। विशेषज्ञों का मत है कि इस बार फ़्लू रोग की जल्दी और तेज़ी से शुरूआत हुई। यह विषाणु अभी तक मौसम में डेरा जमाए हुए है, जो हैरान करने वाला है। 

वक्तव्य में कहा गया है कि प्रायः इनफ़्लुएंज़ा-ए वायरस से फ़्लू की शिकायतें होती हैं। इसके विपरीत इनफ्लूएंजा-बी वायरस बच्चों को, ख़ास कर एक साल से नीचे के बच्चों  को  ही शिकार बनाता है। उनका  कहना था कि इन बच्चों को बचाव के लिए फ़्लू शाट नहीं दिया जाता। दूसरे अस्पतालों में चार वर्ष से नीचे की आयु के बच्चों का विशेष ध्यान रखा जाता है।

नसीब सैनी

Continue Reading

Top News

प्रदूषण पर सुप्रीम कोर्ट की सख्त टिप्पणी, कहा- घुटकर क्यों मरें लोग, विस्फोटक से उड़ा दीजिए शहर

-दिल्ली, पंजाब, हरियाणा की सरकार को सत्ता का हक नहीं : सुप्रीम कोर्ट

-कहा, मतभेद भुला कर काम करें केंद्र व दिल्ली सरकार

Published

नई दिल्ली,(नसीब सैनी)।

दिल्ली में प्रदूषण पर सुप्रीम कोर्ट ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा है कि लोग घुटकर क्यों मरें? विस्फोटक के 15 बैग से शहर उड़ा दीजिए। लोगों की ज़िंदगी सस्ती हो गई है। जस्टिस अरुण मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा कि दिल्ली, पंजाब, हरियाणा सरकार को सत्ता का हक नहीं है। केंद्र और दिल्ली सरकार मतभेद भुला कर काम करें। कोर्ट ने कहा कि 10 दिन में एयर प्यूरीफायर टावर पर योजना बनाएं।

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को रिपोर्ट दाखिल करने का निर्देश दिया। सीपीसीबी को ये बताना है कि दिल्ली में जो फैक्ट्रियां चल रही हैं उससे पर्यावरण पर कितना असर पड़ रहा है। साथ ही ये भी बताना है कि दिल्ली में जो फैक्ट्री चल रही है वो किस तरह की है।

सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि आप मैजर्स को लागू नहीं कर पा रहे हो तो इसका मतलब ये तो नहीं कि दिल्ली-एनसीआर के लोगों को प्रदूषण से मरने और केंसर से तबाह होने दिया जाए। विकास का अर्थ ये तो नहीं कि आप देश की राजधानी में प्रदूषण बढ़ा दें।

‘आप लोगों को मरने के लिए नहीं छोड़ सकते’

सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब के चीफ सेकेट्री को चेतावनी देते हुए कहा कि हम सभी तंत्रों की जवाबदेही तय करेंगे। आप इस तरह लोगों को मरने के लिए नहीं छोड़ सकते। कोर्ट ने कहा कि ये क्या युद्धस्तर पर काम हो रहा है? राज्य सरकारें केंद्र पर छोड़ रही हैं और केंद्र राज्य पर। दिल्ली में हर रोज आप दरवाजे से इस बात का मॉनिटर करते हैं कि दिल्ली में प्रदूषण का स्तर क्या है? राज्य सरकारें आपस में बातचीत नहीं कर रही हैं।

कोर्ट की टिप्पणी, पानी पर चल रहा ‘ब्लेम गेम’

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि दिल्ली में पानी को लेकर राजनीति चल रही है। यहां पानी अच्छा है, वहां अच्छा है। ये किस तरह की राजनीति हो रही है। पानी को लेकर ‘ब्लेम गेम’ चल रहा है। दिल्ली के लोग तबाह हो रहे हैं। ये चौंकाने वाली बात है। दिल्ली हरियाणा को ब्लेम करेगी, हरियाणा पंजाब को, ऐसे ही चलता रहेगा क्या?


दिल्ली में स्थिति नरक से खराब : कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार को कहा कि ब्लेम गेम अब बंद होना चहिए। कोर्ट ने कहा कि हम चाहते हैं कि दिल्ली साफ हो। दिल्ली सरकार लोगों के प्रति जवाबदेह है। हम पूछेंगे कि जो पैसा पानी की सफाई को लेकर आता है चाहे वह गंगा के लिए हो या यमुना के लिए, वो पैसा कहां जाता है? सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली में कचरे पर कहा कि दिल्ली में स्थिति नरक से भी खराब है।


प्रदूषण पर न हो राजनीति : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार के मुख्य सचिव से कहा कि प्रदूषण के मसले को लेकर राजनीति न हो। सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार को कहा कि दिल्ली में स्मॉग टावर एयर प्यूरीफायर लगाने को लेकर जवाब दाखिल करे। कोर्ट ने कहा कि हमारे आदेश के बाद भी स्थिति खराब होते जा रही है ये बेहद चौकानें वाला है।

सुनवाई के दौरान उप्र के मुख्य सचिव ने कोर्ट को बताया कि पराली जलाने को लेकर एक हजार दर्ज किए गए हैं और क़रीब एक करोड़ का जुर्माना लगाया गया है। सुप्रीम कोर्ट ने उप्र सरकार से कहा कि पहले सकारात्मक कदम उठाएं उसके बाद दंडात्मक। सेटलाइट इमेज यह बता रही है कि पश्चिमी उप्र में पराली जलाई गई है।

नसीब सैनी

Continue Reading

Featured Post

Top News5 दिन पूर्व

हमला करके गंभीर चोट पहुँचाने व मोबाइल छीनने के चार आरोपी गिरफ्तार

कुरुक्षेत्र। जिला पुलिस कुरुक्षेत्र ने सामूहिक हमला करके गंभीर चोट पहुँचाने व मोबाइल छीनने के चार आरोपियो को गिरफ्तार किया...

Top News2 सप्ताह पूर्व

नशीली दवाईयां बेचने के आरोप में दो गिरफ्तार

Top News1 महीना पूर्व

सिपाही पेपर लीक मामले में 2 लाख रुपए का ईनामी अपराधी मुजफ्फर अहमद सीआईए-1 पुलिस द्वारा जम्मु से गिरफ्तार

सिपाही पेपर लीक मामले में कैथल पुलिस को बडी कामयाबी

Top News2 महीना पूर्व

फेसबुक फ्रॉड से बचने के लिए कैथल पुलिस ने जारी की एडवाईजरी

कैथल, 01 सितंबर । प्राय: देखने में आ रहा है कि आजकल हैकर फेसबुक अकाउंट हैक करके उनके परिचितो से...

Top News2 महीना पूर्व

कैथल पुलिस के दो ASI रैंक के पुलिस अधिकारियों ने एक बार फिर से खाकी को किया दागदार

ASI रेंक दो पुलिस कर्मियों पर हुई बड़ी कार्यवाही कैथल महिला पुलिस ASI सुदेश व ASI राजकुमार के खिलाफ FIR...

Recent Post

Trending

Copyright © 2018 Chautha Khambha News.

Web Design BangladeshBangladesh online Market