Connect with us

Top News

सोशल मीडिया पर अंकुश जरूरी

—तमाम निजी टीवी न्यूज चैनल वायरल वीडियो को हवा देने लगे हैं। यह खतरनाक है। बेशक, हमें संविधान में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता प्राप्त है

Published

on
रामकृष्ण जायसवाल

मीडिया सूचनाओं तथा आंकड़ों को संरक्षित तथा संप्रेषित करने का उपकरण है। मीडिया का कार्य सूचनाओं का एकत्रीकरण करना तथा उससे आमलोगों को पारदर्शिता के साथ अवगत कराना है। सरकारी क्रियाकलापों तथा सामाजिक क्रियाकलापों को उजागर करना भी मीडिया का कार्य है। लोकतंत्र में मीडिया का सबसे बड़ा रोल होता है। वह समाज में घटित प्रत्येक घटना पर रोशनी डालती है। उसका काम टॉर्च दिखाना होता है। इसीलिए मीडिया को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कहा जाता है।

पहले पत्रकार खबरें जुटाने के लिए गांव-गांव, गली-गली की खाक छानते थे। राजनेता और जनप्रतिनिधि उनसे अपने इलाके की फीडबैक लिया करते थे। अखबारों में छपी खबरों पर सरकार तुरंत संज्ञान लेती थी। नेता और अफसर मीडिया के लोगों का लिहाज करते थे। वे डरते थे कि पत्रकार कहीं उनकी पोल न खोल दें। पत्रकारों को वेतन भले ही कम मिलता था लेकिन समाज में उनकी उपस्थिति गरिमामयी मानी जाती थी। उन्हें असीम इज्जत मिलती थी। पत्रकार भी उत्साहपूर्वक कार्य करते थे। उन्हें लगता था कि वे समाज के शिल्पी हैं। लेकिन समय के साथ स्थिति बदल गई। मीडिया में तकनीक का चलन बढ़ गया। मिशन की पत्रकारिता प्रोफेशन बन गई।

उद्योगपतियों ने सरकार और प्रशासन पर रसूख जताने के लिए अखबार निकाल लिए। पत्रकार भी सुविधाभोगी हो गया। अखबारों के मालिक पत्रकारों से धौंस दिलाकर अपना उल्लू सीधा करने लगे। अपना अन्य कारोबार बढ़ाने लगे। दिन दूनी-रात चौगुनी तरक्की करने लगे। नतीजतन पत्रकार दलाल बन गया। देश में कई जगहों पर गलत आचरण के कारण पत्रकारों पर उंगलियां उठने लगी। कहना गलत नहीं होगा कि तकनीक की पत्रकारिता ने इस पेशे की आत्मा निगल ली। विदेशों की देखादेखी अपने देश में भी इलेक्ट्रानिक चैनल आने लगे। समाज की अच्छाइयों की कम, बुराइयों की चर्चा ज्यादा होने लगी। मीडिया को टीआरपी रेप आदि की खबरों से ज्यादा मिलने लगी। चैनलों पर वही दिखाया जाने लगा। स्टिंग की आड़ में वसूली होने लगी। मीडिया का रुतबा कम होने लगा। फिर समय ने पलटा खाया। सोशल मीडिया का उदय हुआ।

फेसबुक, व्हाट्सएप, टि्वटर, यू-ट्यूब, इंस्टाग्राम इत्यादि चलन में आ गए। शुरू में तो लोग उनके माध्यम से एक-दूसरे को मित्र बनाते गए। बाद में इसके लती हो गए और समाज या सरकार के मामले में सही-गलत का फैसला करने लगे। इसका लत लोगों में इस कदर लग जाता है कि फिर वो चाहे बच्चा हो अथवा बूढ़ा या जवान, सभी उसमे इस कदर चिपके होते हैं जैसे गुड़ में मक्खियां चिपकी होती हैं। आज उनका उपयोग व्यक्ति की अभिव्यक्ति की आजादी से कहीं ऊपर जा रहा है। जो समाज के लिए खतरा बन चुका है। सोशल मीडिया से मित्रता करते-करते लोग उस पराकाष्ठा को भी पार कर गए हैं जो एक-दूसरे की प्राण तक लेने से नहीं कतराते हैं। सोशल मीडिया अब शोषण मीडिया बन चुकी है। सोशल मीडिया लोगों का न केवल मानसिक शोषण कर रहा है बल्कि धन आदि की लालच की वजह से शारीरिक शोषण भी करने लगा है। आज लोगों के उत्पीड़न का अभिकरण सोशल मीडिया ही है। फिर चाहे बलात्कार की घटनाएं हो या फिर अवैध धन की मांग हो। आज देशभर में लगभग 116 करोड़ मोबाइल हैंडसेट उपलब्ध हैं।

भारत की 1.30 अरब की जनसंख्या में लगभग 70  करोड़ लोगों के पास स्मार्टफोन हैं। इनमें से आधी जनसंख्या फेसबुक और व्हाट्सएप पर सक्रिय है। राजनीतिक दल भी सोशल मीडिया के माध्यम से अपनी राजनीतिक जमीन तैयार कर रहे हैं। आज चुनाव जीतने के लिए सोशल मीडिया सबसे उत्तम भूमिका निभा रहा है। सभी राजनीतिक दलों की साइबर सेल सक्रिय रहती है जो दलों के प्रचार का कार्य करती है तथा उनके झूठे मुद्दों को भी फैलाती रहती है। इससे जनता गुमराह होती है। सोशल मीडिया सनसनी फैलाने का माध्यम बन गया है।

तमाम निजी टीवी न्यूज चैनल वायरल वीडियो को हवा देने लगे हैं। यह खतरनाक है। बेशक, हमें संविधान में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता प्राप्त है। लेकिन अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता में इतनी छूट नहीं दी जा सकती, जिसमें लोगों के जानमाल का नुकसान होता हो। सोशल मीडिया दोधारी तलवार है, जो दोनों ओर से वार करती है। सोशल मीडिया पर फैलते अफवाहों से सरकार भी परेशान है। वह उस पर अंकुश लगाने के दावे तो तमाम करती है लेकिन हकीकत में कुछ कर नहीं पाती। अब सारी जिम्मेदारी अदालत पर आ टिकी है। पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से सोशल मीडिया पर अंकुश लगाने का ब्ल्यूप्रिंट मांगा है। देखना दिलचस्प होगा कि सोशल मीडिया पर अंकुश कब तक लगता है, लग पाता भी है या नहीं।

(लेखक अध्यापक हैं।)

Top News

गोवा में मिग -29के विमान दुर्घटनाग्रस्त, दोनों पायलट सुरक्षित

—दोनों पायलट सुरक्षित बाहर निकालने में कामयाब रहे
—दुर्घटना में शामिल विमान फाइटर जेट का ट्रेनर संस्करण था

Published

पणजी,(नसीब सैनी)।

गोवा में शनिवार को आईएनएस हंसा से प्रशिक्षण मिशन के तहत उड़ान भरने के तुरंत बाद भारतीय नौसेना का एक मिग-29के ट्रेनर विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। यह दुर्घटना डाबोलिम में हुई। हालांकि दोनों पायलट सुरक्षित बाहर निकलने में कामयाब रहे। दुर्घटना में शामिल विमान फाइटर जेट का ट्रेनर संस्करण था।

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि ट्रेनर विमान के इंजन में आग लग गई। डाबोलिम में एक प्रशिक्षण मिशन के दौरान आईएनएस हंसा से उड़ान भरने के तुरंत बाद इस मिग 29के ट्रेनर विमान के इंजन में आग लग गई। विमान के दोनों पायलट कैप्टन एम. श्योखंड और लेफ्टिनेंट कमांडर दीपक यादव सुरक्षित बाहर निकलने में कामयाब रहे।

विमान का मलबा जिस इलाके में फैला हुआ है, वह पठारी और खुला इलाका है। फिलहाल प्रशासन ने इलाके को खाली करा लिया है। विस्तृत व्योरे की प्रतीक्षा है।

नसीब सैनी

Continue Reading

Top News

आरकॉम को जुलाई-सितम्बर तिमाही में 30,412 करोड़ रुपये का घाटा

—उल्लेखनीय है कि आरकॉम और उसकी सब्सिडरी कंपनियों ने 1,210 करोड़ रुपये के ब्याज और 458 करोड़ रुपये के विदेशी विनिमय उतार-चढ़ाव के लिए प्रावधान नहीं किया है

Published

नई दिल्ली दिल्‍ली/मुंबई,(नसीब सैनी)।

एयरटेल और वोडाफोन-आइडिया के बाद कर्ज के बोझ तले दबे रिलायंस कम्‍युनिकेशंस (आरकॉम) को जुलाई-सितम्बर की तिमाही में 30,142 करोड़ रुपये का एकीकृत घाटा हुआ है। सुप्रीम कोर्ट के सांविधिक बकाया पर फैसले के मद्देनजर देनदारियों के लिए प्रावधान की वजह से कंपनी का घाटा इतना बढ़ा है। दिवाला प्रक्रिया में चल रही कंपनी ने इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 1,141 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ अर्जित किया था। 

सुप्रीम कोर्ट के दूरसंचार कंपनियों के सालाना समायोजित सकल राजस्व (एजीआर) की गणना पर फैसले के मद्देनजर कंपनी ने 28,314 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है। आरकॉम की कुल देनदारियों में 23,327 करोड़ रुपये का लाइसेंस शुल्क और 4,987 करोड़ रुपये का स्पेक्ट्रम इस्तेमाल शुल्क शामिल है। 

उल्लेखनीय है कि आरकॉम और उसकी सब्सिडरी कंपनियों ने 1,210 करोड़ रुपये के ब्याज और 458 करोड़ रुपये के विदेशी विनिमय उतार-चढ़ाव के लिए प्रावधान नहीं किया है। आरकॉम ने बयान में कहा कि यदि इसके लिए प्रावधान किया जाता तो उसका नुकसान 1,668 करोड़ रुपये और बढ़ जाता। इसके अलावा जुलाई-सितम्बर तिमाही के दौरान कंपनी की परिचालन आय घटकर 302 करोड़ रुपये रह गई है। यह पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 977 करोड़ रुपये थी।

नसीब सैनी

Continue Reading

Top News

दिल्ली : वायु गुणवत्ता में सुधार, सुबह के समय 412 रहा एक्यूआई स्तर

—उल्लेखनीय है कि 201 और 300 के बीच एक एक्यूआई को खराब, 301-400 को ‘बहुत खराब’ और 401-500 को ‘गंभीर’ माना जाता है

Published

नई दिल्ली,(नसीब सैनी)

राष्ट्रीय राजधानी सहित उसके सटे शहरों में शनिवार सुबह प्रदूषण के स्तर में गिरावट देखी गई। हालांकि इसे वाबजूद शहर में हवा की गुणवत्ता “गंभीर” श्रेणी में बनी हुई है। 

दिल्ली में शनिवार सुबह नौ बजे वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 412 दर्ज किया गया। फरीदाबाद में एक्यूआई 427, गाजियाबाद 424, गुड़गांव 420, नोएडा 411 और ग्रेटर नोएडा में 377 रहा। मौसम विभाग के मुताबिक दिल्ली-एनसीआर में आज मौसम साफ रहेगा। अधिकतम तापमान 28 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना है। तेज हवाओं के चलने की भी संभावना जताई गई है।

उल्लेखनीय है कि शुक्रवार सुबह नौ बजे वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 777 दर्ज किया गया था, जबकि शाम चार बजे यह 463 रहा था। वहीं द्वारका सेक्टर-8 एक्यूआई 495 के साथ सबसे प्रदूषित क्षेत्र था।

उल्लेखनीय है कि 201 और 300 के बीच एक एक्यूआई को खराब, 301-400 को ‘बहुत खराब’ और 401-500 को ‘गंभीर’ माना जाता है।

नसीब सैनी

Continue Reading

Featured Post

Top News2 दिन पूर्व

अंग्रेजी मीडियम कल्चर में फिट नहीं हो पा रही थी छात्रा, की खुदकुशी

---पुलिस ने बताया कि रात को उसने दोस्तों के साथ पिकनिक किया था जिसके बाद ही फांसी लगाई है

Top News2 दिन पूर्व

लॉस एंजेल्स में गोलीबारी करने वाला छात्र एशियाई

---पुलिस रिकार्ड के अनुसार उसके पिता और उसकी मां के बी 2015 में झगड़ा हुआ था। इसके बाद उसके पिता...

Top News3 दिन पूर्व

दिल्ली : तीस हजारी कोर्ट में गोली चलाने वाले पुलिस जवानों की गिरफ्तारी पर अंतरिम रोक

---तीस हजारी कोर्ट में वकील पर गोली चलाने के आरोपित एएसआई पवन कुमार और एक अन्य पुलिसकर्मी ने दिल्ली हाई...

Top News3 दिन पूर्व

लॉस एंजेलिस के स्कूल में गोलीबारी, बच्ची की मौत

---हमलावर बच्चे को हेलीकॉप्टर की मदद से पकड़ा गया

Top News6 दिन पूर्व

पंजाब: लुधियाना अस्पताल की नर्स निकली खालिस्तानी आतंकी, दो गिरफ्तार

---साथी समेत किया गिरफ्तार, कई हिन्दू संगठनों के नेता थे निशाने पर ---जांच में खुलासा, टेरर फंडिंग से जुड़ा है...

Recent Post

Trending

Copyright © 2018 Chautha Khambha News.

Web Design BangladeshBangladesh online Market