Connect with us

Top News

H-1B approvals for Indian IT companies drop by 43% between 2015-17: Report

Published

on

WASHINGTON: Top seven Indian IT companies experienced a whopping 43 per cent drop in their H-1B visa approvals + between 2015 and 2017, a US think-tank has said.

The National Foundation for American Policy in a report said that the 8,468 new H-1B visas for Indian-based companies in the finanacial year 2017 equaled only 0.006 per cent of the 160 million in the US labour force.

The top seven Indian-based companies received only 8,468 approved H-1B petitions for initial employment in FY 2017, a decline of 43 per cent for these companies since FY 2015, when it received 14,792 H-1B visas.

Given that 199,000 applications were filed in FY 2017 for the FY 2018 cap year – 105,000 in excess of the FY 2018 H-1B annual limit – even if none of these companies received new H-1B visas the annual limit still would have been reached on the first day of the April filing period, it said.

“The data indicate the problem is not which companies are receiving H-1B visas, which some contend, but that the 85,000-annual limit is too low for an economy the size of the United States,” it argued.

Based on the H-1B visa data obtained from the US Citizenship and immigration Services (USCIS), the foundation said that the Tata Consultancy Services (TCS) received 2,312 H-1B visas in 2017 as against 4,674 in 2015, registering a drop of 51 per cent.

Infosys, during the same period saw a whooping drop of 57 per cent from 2,830 in 2015 to 1,218 in 2017. Wipro received 1,210 H-1B visas in 2017 as against 3,079 in 2015. Among the seven Indian-based companies the H-1B approval of Tech Mahindra went up from 1,576 in 2015 to 2233 in 2017.

In its analysis, the National Foundation for American Policy said that the drop in H-1B visas for Indian-based companies is due to industry trends toward digital services such as cloud computing and artificial intelligence, which require fewer workers, and a choice by companies to rely less on visas and to build up their domestic workforces in the United States.

In most cases, companies require fewer people per project, it argued.

Also, like all companies, including US companies, restrictions on visas may result in more work being performed outside the US, which is the unintended consequence of many immigration restrictions in a global economy. Indian-based companies, of course, must compete for the same relatively limited pool of tech talent in the US as other companies, it said.

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Top News

दो दिन बंद रहने के बाद जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय रामार्ग पर यातायात के लिए खुला

—वहीं रविवार दोपहर से लगभग 300 छोटे वाहन रामबन में फंसे हुए थे और अब मंगलवार सुबह इन वाहनों में मार्ग साफ होने के बाद अपने गंतव्य की ओर भेजा जा रहा हैं

Published

जम्मू,(नसीब सैनी)।

जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग दो दिन बंद रहने के बाद मंगलवार सुबह एक बार फिर यातायात के लिए बहाल कर दिया गया। रविवार दोपहर बाद डिगडोल में भूस्खलन के बाद राजामर्ग दो दिनों के लिए निलंबित कर दिया गया था। भूस्खलन से बंद राजमार्ग के दोनों छोर पर फंसे सैकड़ों वाहन आज सुबह मार्ग पूरी तरहं से यातायात के काबिल बनने के बाद छोड़े गए।   

नेशनल हाइवे यातायात एसएसपी जेएस जौहर के अनुसार उधमपुर और जम्मू के बीच लगभग 8000 ट्रक फंसे हुए थे, उधमपुर और रामबन के बीच 3000 ट्रक तथा 200 लाइट मोटर वाहन उधमपुर में फंसे हुए थे। वहीं रविवार दोपहर से लगभग 300 छोटे वाहन रामबन में फंसे हुए थे और अब मंगलवार सुबह इन वाहनों में मार्ग साफ होने के बाद अपने गंतव्य की ओर भेजा जा रहा हैं। 
वहीं रामबन जिला प्रशासन ने फंसे हुए यात्रियों के रात्रि प्रवास के लिए रामबन, रामसू और बनिहाल में कई आश्रय स्थलों में कंबल और गद्दे उपलब्ध कराए थे। पिछले चार दिनों में यह तीसरी बार है जब एनएच-44 वाहनों के आवागमन के लिए बंद किया गया।

नसीब सैनी

Continue Reading

Top News

जम्मू कश्मीर : गांदरबल में एक आतंकी ढेर, मुठभेड़ जारी

—उल्लेखनीय है कि रविवार को बांडीपोरा जिले के लडूरा क्षेत्र में शुरू हुई मुठभेड़ सोमवार सुबह तक चली

Published

गांदरबल,(नसीब सैनी)।

जिले के गुंड इलाके में मंगलवार की सुबह आतंकियों से हुई एक मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने एक आतंकी मार गिराया है। मुठभेड़ जारी है। माना जा रहा है कि अभी एक-दो आतंकी सुरक्षाबलों के घेरे में हैं।

मंगलवार को जिले के गुंड क्षेत्र में सुरक्षाबलों को आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी। सेना, सीआरपीएफ और जम्मू कश्मीर पुलिस के एक संयुक्त दल ने पूरे क्षेत्र की घेराबंदी कर तलाशी अभियान शुरू किया। इस दौरान क्षेत्र में छिपे आतंकियों ने सुरक्षाबलों को पास आते देख गोलीबारी शुरू कर दी। सुरक्षाबलों ने भी मोर्चा संभाल लिया। अभी तक की मुठभेड़ में एक आतंकी मारा गया है। उसकी पहचान नहीं हो पाई है। क्षेत्र में अभी एक-दो और आतंकी छिपे हुए हैं। मुठभेड़ जारी है।

उल्लेखनीय है कि रविवार को बांडीपोरा जिले के लडूरा क्षेत्र में शुरू हुई मुठभेड़ सोमवार सुबह तक चली। सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के एक पाकिस्तानी कमांडर अबु तल्हा सहित दो आतंकियों को मार गिराया है। साथ ही आतंकियों के पास से पाकिस्तान में बने हथियार और गोला-बारूद बरामद हुए हैं।

नसीब सैनी

Continue Reading

Top News

पंजाब: लुधियाना अस्पताल की नर्स निकली खालिस्तानी आतंकी, दो गिरफ्तार

—साथी समेत किया गिरफ्तार, कई हिन्दू संगठनों के नेता थे निशाने पर
—जांच में खुलासा, टेरर फंडिंग से जुड़ा है पूरा मामला

Published

चंडीगढ़,(नसीब सैनी)।

पंजाब पुलिस ने एक महिला समेत दो खालिस्तानी आतंकियों को गिरफ्तार किया है। आरोपितों की गिरफ्तारी को टेरर फंडिंग के साथ जोड़ा जा रहा है। आरोपित महिला लुधियाना के एक अस्पताल में नर्स की नौकरी कर रही थी। नर्सिंग की आड़ में वह खालिस्तानी गतिविधियों में भी लिप्त थी। दोनों के निशाने पर पंजाब के हिन्दू संगठनों के नेता थे और बहुत जल्द पाकिस्तानी एजेंसी से उनके पास ग्रेनेड व हथियार भेजे जाने थे। 

पंजाब पुलिस के ऑपरेशन सेल ने 2 खालिस्तानी आतंकियों को सोमवार को देर शाम गिरफ्तार किया, जिसमें एक महिला भी शामिल है। प्रारंभिक जांच में पता चला है कि उक्त महिला नर्स की नौकरी करते हुए अपने साथ कई अन्य महिलाओं को जोड़ने का काम कर रही थी जबकि उसका साथी गुरदासपुर से गिरफ्तार किया गया है। 

आरोपित पुरुष दुबई में बतौर ड्राइवर काम कर चुका है। इन दिनों पंजाब आया हुआ था। गिरफ्तार की गई महिला की शिनाख्त सुरिंदर कौर के रूप में हुई है। आरोपित महिला फरीदकोट की रहने वाली है जो लुधियाना के एक निजी अस्पताल में बतौर नर्स काम करती थी। सुरिंदर कौर के साथी की पहचान लखबीर सिंह (23) के रूप में हुई है जो होशियारपुर का रहने वाला है और दुबई में बतौर ड्राइवर काम कर चुका है। दोनों व्हाट्सएप कॉल के जरिए एक-दूसरे से जुड़े हुए थे।

पूछताछ में पता चला है कि उनको जल्द ही पाकिस्तानी एजेंसी आईएसआई की मदद मिलने वाली थी। आईएसआई और विदेशों में बैठे खालिस्तानी आतंकियों के एक हैंड ग्रेनेड की खेप पंजाब में भेजी जानी थी। इस खेप को इन्हें पंजाब में एक्टिव खालिस्तानी आतंकियों और उनके स्लीपर सेलों को डिलीवर करना था। इन दोनों को विदेशों में बैठे खालिस्तानी आतंकियों द्वारा लगातार फंडिंग की जा रही थी। नर्सिंग के काम की आड़ में आतंकी गतिविधि सुरेंद्र कौर की उम्र 33 वर्ष है वो अविवाहित है। वह मूल रूप से पंजाब के फरीदकोट की रहने वाली है। इन दोनों की कॉल डिटेल और बैंक अकाउंट से पुलिस ने ट्रेस किया कि ये दोनों खालिस्तानी समर्थक आतंकी गतिविधियों में शामिल थे।

नसीब सैनी

Continue Reading

Featured Post

Top News8 घंटे पूर्व

पंजाब: लुधियाना अस्पताल की नर्स निकली खालिस्तानी आतंकी, दो गिरफ्तार

---साथी समेत किया गिरफ्तार, कई हिन्दू संगठनों के नेता थे निशाने पर ---जांच में खुलासा, टेरर फंडिंग से जुड़ा है...

Top News1 दिन पूर्व

सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक फोटो डालने वाले आरोपी को जेल

---पुलिस अधीक्षक वीरेंद्र कुमार मिश्र के निर्देश पर सोशल मीडिया सेल ने आरोपी की पहचान कर दबोच लिया

Top News1 दिन पूर्व

पुलिस विवादित और भड़काऊ पोस्ट पर कर रही है गिरफ्तार

---सबसे अधिक ट्विटर पर 5294, फेसबुक 2220 और यू-ट्यूब के 167 वीडियो व प्रोफाइल के खिलाफ रिपोर्ट की गई

Top News3 दिन पूर्व

कर्ज नहीं चुकाने की वजह से अनिल अंबानी के खिलाफ मामला दर्ज

---इससे पहले भी एरिक्शन में इसी तरह का विवाद सामने आया था। रिलायंस कम्युनिकेशन्स को एरिक्शन को 550 करोड़ रुपये...

Top News4 दिन पूर्व

पत्रकार के साथ बदसलूकी करने के मामले में बीजद सांसद के खिलाफ मामला दर्ज

---इस मामले में अभी तक सांसद ने क्षमायाचना नहीं की है और न ही बीजद की ओर से कोई आधिकारिक...

Recent Post

Trending

Copyright © 2018 Chautha Khambha News.

Web Design BangladeshBangladesh online Market