Connect with us

Top News

विधवा भाभी के पेट में गोली मारकर सिरफिरे देवर ने रखी शर्त- गाजियाबाद में साथ रहोगी तो अस्पताल ले जाऊंगा, नहीं तो मरो

पिछले साल सितंबर में पति की हार्ट अटैक से मौत हो गई थी
कैंट के पक्की सराय में गोली लगने से घायल रचना का पीजीआई चंडीगढ़ में ऑपरेशन हुआ, हालत स्थिर, आरोपी गिरफ्तार

Published

on

अम्बाला । कैंट के पक्की सराय इलाके में सिरफिरे 32 वर्षीय देवर संदीप उर्फ विक्की ने 36 वर्षीय विधवा भाभी रचना के पेट में गोली मार दी। खून से लथपथ रचना फर्श पर तड़पने लगी तो विक्की ने उसके सामने शर्त रखी कि यदि वो गाजियाबाद के गांव सिहानी में उसके साथ रहने को तैयार है, तभी वह अस्पताल ले जाकर जान बचाएगा।

भाभी ने हामी भरी तभी वह कंधे पर उठाकर चौबारे से नीचे तक लाया। तब तक गोलियों की आवाज सुनकर आसपास के लोग इकट्ठे हो गए थे। वारदात मंगलवार सुबह साढ़े 7 बजे की है। रचना को पहले निजी अस्पताल लाया गया, फिर सिविल अस्पताल। बाद में उसे पीजीआई चंडीगढ़ में भर्ती कराया गया, जहां शाम को ऑपरेशन करके आईसीयू में भर्ती कर दिया है। परिजनों ने बताया कि ऑपरेशन के दौरान पेट से अभी गोली नहीं निकली है। महिला की हालत स्थिर बनी हुई है। रचना के पति की पिछले साल नवंबर में मौत हो गई थी। वह कुछ समय पहले ही गाजियाबाद से आकर पक्की सराय में 16 साल की बेटी और 15 व 10 साल के दो बेटों के साथ किराये के कमरे में रह रही थी।

पक्की सराय में रचना को गोली मारने की वारदात के बाद मौजूद परिजन।

बुआ नीरू के मुताबिक रचना की शादी जून 2004 में गाजियाबाद निवासी निलेश शर्मा के साथ हुई थी। रिश्ते के वक्त झूठ बोला गया कि निलेश प्रॉपर्टी डीलिंग का काम करता है। बाद में पता चला कि उसे चोरी व नशे की लत थी। शादी के डेढ़ साल के बाद निलेश गाजियाबाद छोड़ कर हैदराबाद में रचना की दूसरी बहन के घर पर चला गया था। वहां से मध्य प्रदेश गया और फिर कर्नाटक में पहुंच गया।

शादी के बाद निलेश ने कभी रचना को पक्की सराय में मायके वापस नहीं आने दिया। सितंबर 2020 में कर्नाटक में निलेश की हार्ट अटैक से मौत हो गई। कर्नाटक से वापस गाजियाबाद आकर रचना कुछ समय तक देवर के पास रही। संदीप सनकी किस्म का है। रचना से छोटी-छोटी बात पर मारपीट करता था, घर से बाहर नहीं निकलने देना था। खिड़कियों पर लॉक लगा कर रखता था। तंग आकर रचना अपने बच्चों के साथ जून 2021 में पक्की सराय मायके में आ गई थी। संदीप गाजियाबाद की किसी तहसील में काम करता है। शनिवार को छुट्टी के बाद वह अकसर रात को पक्की सराय पहुंच जाता था और रचना को वापस ले जाने का दबाव बनाता था।

रचना के परिवार ने जून में ही पड़ाव थाने में संदीप के खिलाफ तंग करने व जान से मारने की धमकी देने की शिकायत की थी। बाद में वह पैर पकड़ कर माफी भी मांगने लग गया था। रचना को जुलाई में जम्मू के कटरा में बहन के पास भेज दिया गया था। अगस्त में वह लौटी। अब किराये के मकान में रह रही थी। दशहरे वाले दिन संदीप बैग लेकर आया था। अब मंगलवार सुबह फिर वही बैग लेकर आया, जिसमें रिवॉल्वर थी।

पड़ाव पुलिस प्रभारी देवेंद्र सिंह ने बताया कि टीमें बना कर आरोपी की तलाश की जा रही है। देर शाम को पड़ाव पुलिस ने 21 वर्षीय भाई दीपक की शिकायत पर आरोपी संदीप शर्मा उर्फ विक्की के खिलाफ हत्या के प्रयास व आर्म्स एक्ट में मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। एसएचओ देवेंद्र ने बताया कि आरोपी का सिविल अस्पताल में मेडिकल कराने के बाद बुधवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा।

चाय बना रही थी तो गोली की आवाज सुनी: ज्योति

मकान मालकिन ज्योति ने बताया की 15 दिन पहले रचना ने किराये पर कमरा लिया था जिसमें बच्चों के साथ रह रही थी। मंगलवार सुबह एक व्यक्ति आया और हमारे घर के सामने आकर कुछ लोगों से रचना के बारे में पूछने लगा। मैं चाय बना रही थी तो ऊपर से झगड़े की आवाज आ रही थी। कुछ देर के बाद ही गोलियां चलने की आवाज आई। दो दिन पहले ही रचना ने बताया था कि देवर तंग कर रहा है। मैंने रचना से बोल दिया था कि अगर ऐसी बात है तो हमारा कमरा खाली कर दो। रचना ने मंगलवार को कमरा खाली करने की बात कही थी।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Top News

चंडीगढ़ के ‘लंगर बाबा’ जगदीश अहूजा का निधन,पी.जी.आई के बाहर 21 सालों से लगा रहे थे लंगर…

जगदीश आहूजा भारत-पाकिसतान के बंटवारे के महज 12 साल की उम्र में पंजाब के मानसा शहर आए थे. जिंदा रहने के लिए रेलवे स्टेशन पर उन्हें नमकीन दाल बेचनी पड़ी, ताकि उन पैसों से खाना खाया जा सके और गुजारा हो सके. कुछ समय बाद वह पटियाला चले गए और गुड़ और फल बेचकर जिंदगी चलाने लगे और फिर 1950 के बाद करीब 21 साल की उम्र में आहूजा चंडीगढ़ आ गए थे.

Published

चंडीगढ़ के लंगर बाबा का निधन

पीजीआई के बाहर पिछले 21 सालों से लंगर लगाने वाले जगदीश अहूजा का सोमवार को निधन हो गया. जगदीश अहूजा लंगर बाबा के नाम से जाने जाते थे. जगदीश अहूजा करीब पिछले 21 सालों से पी.जी.आई के बाहर लंगर लगा रहे थे. उन्हें 2020 में राष्ट्रपति से पद्मश्री अवार्ड भी मिला था. वो रोजाना करीब 4 से 5000 लोगों को लंगर खिलाते थे.

बता दें कि पीजीआई चंडीगढ़ के सामने जगदीश आहूजा लगातार लंगर लगाते आ रहे थे. इसके लिए उन्होंने अपनी कई प्रॉपर्टी तक बेच दी थी. उनका कहना है कि लंगर सेवा करके उन्हें काफी सुकून मिलता है. पटियाला में उन्होंने गुड़ और फल बेचकर अपना जीवनयापन शुरू किया था. 1956 में लगभग 21 साल की उम्र में चंडीगढ़ आ गए. उस समय चंडीगढ़ को देश का पहला योजनाबद्ध शहर बनाया जा रहा था. यहां आकर उन्होंने एक फल की रेहड़ी किराए पर लेकर केले बेचना शुरू किया.

चंडीगढ़ में एक रेहड़ी से शुरुआत करने वाले लंगर बाबा के जीवन का सफर आसान नहीं रहा. पीजीआई के बाहर लगने वाले पूरे लंगर की देखरेख खुद करते थे. कैंसर होने से पहले वह खुद गाड़ी में दो से तीन हजार लोगों को खाना खिलाते रहे. आहूजा ने कड़े संघर्ष से चंडीगढ़ और आसपास काफी प्रॉपर्टी बनाई, लेकिन लंगर के लिए अपनी कोठी तक बेच दी.

कोरोना काल में भी प्रशासन के निर्देशों के कारण सिर्फ सात दिन पीजीआइ के बाहर लंगर को रोकना पड़ा था, आहूजा की इच्छा थी कि वह चंडीगढ़ में जरुरतमंदों के लिए एक सराय का निर्माण करवा सकें, जिसके लिए उन्होंने चंडीगढ़ प्रशासन से जमीन देने की मांग की हुई थी.

लंगर वाले बाबा ने एक बार बताया था कि जब वो लोगों को भूखे पेट सड़क पर देखता हैं तो बैचेनी होने लगती थी. अपने बेटे के आठवें जन्मदिन पर मैंने 100 से 150 बच्चों को खाना खिलाना शुरू किया. लगभग 18 साल तक सेक्टर-23 में घर के पास लंगर चलाया. उसके बाद 2001 से पीजीआई के बाहर हर दिन लंगर लगाना शुरू कर दिया था.

Continue Reading

Top News

बिजली निगम की लापरवाही से कर्मी की मौत; पानीपत में ट्रांसफार्मर पर कर रहा था काम, अचानक से बिजली सप्लाई बहाल, परमिट लेकर चढ़ा था ऊपर….

सोमवार को बिजली ट्रांसफार्मर पर काम करते समय बिजली ठेका कर्मचारी करंट की चपेट में आ गया। झ़ुलसने से मौके पर ही उसकी मौत हो गई। जानकारी मिलते ही बिजली निगम के एसडीओ और थाना प्रभारी मौके पर पहुंचे। मामले में छानबीन हो रही है।

Published

सनौली खुर्द में ट्रांसफर पर लटकता बिजली कर्मी का शव।

हरियाणा के पानीपत में सोमवार को बिजली ट्रांसफार्मर पर काम करते समय बिजली ठेका कर्मचारी करंट की चपेट में आ गया। झ़ुलसने से मौके पर ही उसकी मौत हो गई। जानकारी मिलते ही बिजली निगम के एसडीओ और थाना प्रभारी मौके पर पहुंचे। मामले में छानबीन हो रही है।

पानीपत के गांव सनौली खुर्द में बस स्टैंड के पास लगे ट्रांसफार्मर में कुछ गड़बड़ी आ गई थी। शिकायत के बाद बिजली निगम की एक टीम वहां पहुंची। परमिट लेकर बिजली की सप्लाई बंद करवाकर ट्रांसफार्मर पर काम शुरू किया गया। इसी बीच अचानक से बिजली सप्लाई बहाल हो गई। इससे ट्रांसफार्मर पर चढ़े कर्मी सुरेंद्र (32) को करंट की चपेट में आ गया। साथी कर्मी सप्लाई बंद करते इससे पहले ही उसकी मौत हो गई।

मृतक बिजली कर्मचारी के परिजन पोस्टमार्टम के इंतजार में।

दो महीने से कर रहा था काम
गांव खौजकीपुर निवासी सुरेंद्र सिंह पिछले दो महीने से ही बिजली निगम में ठेका कर्मचारी के तौर पर काम कर रहा था। सोमवार को वह काम पर आया तो हादसा हो गया। पूरा परिवार गमगीन है। उसके पिता सुभाष ने बताया कि बेटे की शादी हो चुकी थी। उसके एक बच्चा था। पत्नी गर्भवती है और वह कुछ माह बाद दूसरे बच्चे का पिता बनता। बिजली निगम की लापरवाही ने उसके बेटे को छीन लिया है

एक घंटे तक लटकता रहा शव
सनौली खुर्द में बिजली का करंट लगने से मौत के मुंह में समाया सुरेंद्र सिंह बिजली निगम में आउटसोर्स कर्मचारी था। हादसे के बाद उसका शव करीब एक घंटे तक ट्रांसफार्मर पर ही लटकता रहा। साथी कर्मियों ने हादसे की सूचना बिजली अधिकारियों को दी। इसके बाद निगम के एसडीओ नरेंद्र जागलान मौके पर पहुंचे। इसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची और शव को उतारने की कार्रवाई की।

मृतक सुरेंद्र के पोस्टमार्टम के लिए कागजात तैयार करते पुलिस कर्मी।

आखिर मौत का जिम्मेदार कौन
बिजली कर्मी सुरेंद्र की मौत सरासर लापरवाही का नतीजा बताई जा रही है। ट्रांसफार्मर पर काम करने से पहले बिजली कर्मियों ने बिजली की सप्लाई को बंद करवा दिया था। बावजूद इसके बिना कर्मियों से पूछे बिजली की सप्लाई बहाल कर दी गई। सुरेंद्र को संभलने का मौका ही नहीं मिला। ठेकेदार की ओर से बिना सुरक्षा उपकरण के ही उसे ट्रांसफार्मर पर चढ़ा दिया गया।

पुलिस छानबीन शुरू
सनौली पुलिस थाना प्रभारी रामनिवास ने बताया कि करंट से बिजली कर्मी की मौत की सूचना मिली है। पुलिस ने मृतक के परिजनों से शिकायत ली है। साथी कर्मियों से भी जानकारी ली गई। पुलिस जांच चल रही है। जिसकी भी लापरवाही मिलेगी, उसके खिलाफ केस दर्ज किया जाएगा।

पिता बोले- निगम की गलती
मृतक सुरेंद्र के शव को पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए नागरिक अस्पताल भेजा है। यहां पहुंचे उसके पिता सुभाष ने कहा कि बिजली निगम के कर्मियों की लापरवाही से उसके बेटे की जान गई है। जिम्मेदार निगम अधिकारियों और ठेकेदार के खिलाफ मामला दर्ज किया जाए।

Continue Reading

Top News

सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग द्वारा अमृत महोत्सव के अंतर्गत 8 दिसंबर तक चलाया जा रहा है विशेष प्रचार अभियान : डीआईपीआरओ धर्मवीर सिंह

Published

कैथल । जिला सूचना एवं जन संपर्क अधिकारी धर्मवीर सिंह ने बताया कि विभाग के महानिदेशक अमित अग्रवाल के निर्देशानुसार तथा उपायुक्त प्रदीप दहिया के मार्ग दर्शन में प्रचार अभियान पूरे यौवन पर है। यह विशेष अभियान आगामी 8 दिसंबर तक चलाया जाएगा। कार्यालय द्वारा प्रिंट, इलैक्ट्रोनिक, सोशल मीडिया के माध्यम से प्रचार किया जा रहा है, वहीं भजन पार्टियों द्वारा गांव-गांव लोक गीतों के माध्यम से सरकार की नीतियों के बारे में लोगों को जागरूक किया जा रहा है।

भियान के तहत गांव-गांव लोक गीतों के माध्यम से सरकार की नीतियों का किया जा रहा है प्रचार-प्रसार

कार्यालय की पार्टियों द्वारा एक दिन में दो-दो गांव कवर किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि विभागीय पार्टी द्वारा 29 नवंबर को सजूमा, दीवाल, गुहणा, धुंधरेहड़ी, 30 नवंबर को चौसाला, चंदाना, वजीर नगर, कैलरम, एक दिसंबर को कलायत, खड़क पांडवा, रामगढ़, दो दिसंबर को जुलानी खेड़ा, बालु रापडिय़ा, बालु बिढ़ान, बालू गादड़ा, तीन दिसंबर को सौंगल, जाखौली दाबदल, माजरा, जाखौली कमान, चार दिसंबर को किठाना, माजरा, रोहेड़ा, खेड़ी तेलियां, छ: दिसंबर को किछाना, नरवल, कोटड़ा, संतोख माजरा, सात दिसंबर को कसान, सौंगरी, तारागढ़, गुलियाणा, आठ दिसंबर को खुरड़ा, राजौंद, खिड़कली, बीरबांगडा को कार्यक्रम किए जाएंगे।
उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा मुख्यमंत्री परिवार उत्थान योजना, परिवार पहचान पत्र योजना, जगमग योजना, प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत जन आरोग्य योजना, श्रम एवं किसान निधि योजना इत्यादि स्कीमों के बारे में भजनों और गीतों तथा इलैक्ट्रोनिक, प्रिंट मीडिया और सोशल मीडिया के माध्यम से प्रचार किया जा रहा है। इतना ही नही आयोजित किए गए कार्यक्रमों के दौरान लोगों को कोरोना से बचाव के साथ-साथ डेंगू तथा मलेरिया इत्यादि से बचाव के बारे में भी लोगों को जागरूक किया जा रहा है।

Continue Reading

Featured Post

Top News1 महीना पूर्व

पूछताछ में खुलासा: इंटर स्टेट साइबर फ्राॅड गैंग का गुर्गा गिरफ्तार, एटीएम कार्ड बदलकर फर्जी जनरल स्टाेर के नाम पर ली स्वाइप मशीन से करते थे खाते खाली

पूछताछ में खुलासा: इंटर स्टेट साइबर फ्राॅड गैंग का गुर्गा गिरफ्तार, एटीएम कार्ड बदलकर फर्जी जनरल स्टाेर के नाम पर...

Top News1 महीना पूर्व

आरसी फर्जीवाड़ा:पुलिस कैंसिल करेगी गाड़ियाें का पंजीकरण, मालिकों को दोबारा रजिस्ट्रेशन करा कोर्ट से लेनी होगी गाड़ी

आरसी फर्जीवाड़ा:पुलिस कैंसिल करेगी गाड़ियाें का पंजीकरण, मालिकों को दोबारा रजिस्ट्रेशन करा कोर्ट से लेनी होगी गाड़ी

Top News2 महीना पूर्व

हमला करके गंभीर चोट पहुँचाने व मोबाइल छीनने के चार आरोपी गिरफ्तार

कुरुक्षेत्र। जिला पुलिस कुरुक्षेत्र ने सामूहिक हमला करके गंभीर चोट पहुँचाने व मोबाइल छीनने के चार आरोपियो को गिरफ्तार किया...

Top News2 महीना पूर्व

नशीली दवाईयां बेचने के आरोप में दो गिरफ्तार

Top News3 महीना पूर्व

सिपाही पेपर लीक मामले में 2 लाख रुपए का ईनामी अपराधी मुजफ्फर अहमद सीआईए-1 पुलिस द्वारा जम्मु से गिरफ्तार

सिपाही पेपर लीक मामले में कैथल पुलिस को बडी कामयाबी

Recent Post

Trending

Copyright © 2018 Chautha Khambha News.

%d bloggers like this:
Web Design BangladeshBangladesh online Market