Connect with us

Top News

पूर्वोत्तर में हिंसा के बीच राष्ट्रपति ने दी कैब को मंजूरी, गुवाहाटी में 3 मरे

—असम के 12 जिलों में मोबाइल इंटरनेट पर प्रतिबंध को 48 घंटे तक बढ़ाया

Published

on
  • तिनसुकिया, डिब्रूगढ़ और गोलाघाट के आरएसएस कार्यालयों पर उपद्रवियों ने किया हमला
  • कृषक मुक्ति संग्राम समिति (केएमएसएस) के प्रमुख अखिल गोगोई गिरफ्तार 
  • असम के 12 जिलों में मोबाइल इंटरनेट पर प्रतिबंध को 48 घंटे तक बढ़ाया 
  • केंद्रीय मंत्री रामेश्वर तेली, भाजपा विधायकों प्रशांत फूकन और बिनोद हजारिका के घरों पर आगजनी का प्रयास 
  • डिब्रूगढ़ और गुवाहाटी में शुक्रवार सुबह 6 बजे से अपराह्न एक बजे तक कर्फ्यू में ढील

नई दिल्ली/गुवाहाटी,(नसीब सैनी)।

असम में पिछले तीन दिन से जारी हिंसक प्रदर्शनों के बीच राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुरुवार शाम नागरिकता संशोधन विधेयक (कैब) को मंजूरी प्रदान कर दी। इसके साथ ही सरकार ने इसकी अधिसूचना भी जारी कर दी। लिहाजा अब इस विधेयक ने कानून का रूप ले लिया है। लोकसभा ने सोमवार को इस विधेयक को पारित किया था जबकि संसद के ऊपरी सदन राज्यसभा ने बुधवार को इसे पास किया था। इस नए कानून में पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आने वाले गैर-मुस्लिम शरणार्थियों को भारत की नागरिकता देने का प्रावधान किया गया है।

गुरुवार देर रात केंद्रीय कानून मंत्रालय ने एक आधिकारिक अधिसूचना जारी करते हुए कहा कि राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने विधेयक पर अपनी सहमति दी है। इसमें 31 दिसम्बर, 2014 तक पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से भारत में आए हिंदुओं, सिखों, बौद्धों, ईसाइयों, जैनियों और पारसियों को नागरिकता देने का प्रावधान है।

इस बीच, असम समेत पूर्वोत्तर के कई राज्यों में बवाल जारी है। बिल को लोकसभा में पेश किए जाने के दिन से जारी प्रदर्शन अब हिंसक हो उठा है। गुरुवार को गुवाहाटी में कर्फ्यू का उल्लंघन कर हजारों लोग सड़कों पर उतर आए। पुलिस को हालात काबू में करने के लिए फायरिंग करनी पड़ी। पुलिस की गोली से तीन लोगों की मौत हो गई। कुछ लोग घायल हुए हैं। कहा जा रहा है कि ये मौतें पुलिस गोलीबारी के दौरान हुई हैं। दो रेलवे स्टेशनों और एक सरकारी कार्यालय में तोड़फोड़ की गई। दो भाजपा विधायकों के घरों पर हमला किया गया और प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच सड़क पर झड़पें हुईं, जो गुरुवार से पूरे असम में नागरिकता (संशोधन) के खिलाफ हिंसक विरोध के रूप में सामने आई हैं। 

इससे पहले, गुवाहाटी पुलिस के सूत्रों ने शहर में “संघर्ष में मारे गए लोगों” की पहचान दीपांजल दास (21) और सैम स्टाफोर्ड (32) के रूप में की। तीसरी मृतक महिला है, जिसका नाम बेगम है। उन्होंने कहा कि हिंसा में 12 अन्य घायल हो गए, जिनमें कई गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज में भर्ती हैं। उनमें से एक आईसीयू में जिंदगी के लिए जूझ रहा है। घायलों में चार महिलाओं की हालत भी गंभीर बताई गई है। कामरूप जिले के दीपांजल दास के रिश्तेदारों ने बताया कि वह गुवाहाटी के सैनिक भवन कैंटीन में कर्मचारी था और रिक्शा चालक का बेटा था।

राज्यपाल जगदीश मुखी और मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने राज्य के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। सोनोवाल ने प्रदर्शनकारियों से हिंसा का रास्ता नहीं अपनाने का अनुरोध किया और आंदोलनकारी नेताओं के साथ बातचीत करने की बात कही। पता चला है कि इसके बावजूद सोनोवाल के गृह नगर डिब्रूगढ़ के चबुआ में प्रदर्शनकारियों ने सर्किल कार्यालय और रेलवे स्टेशन पर तोड़फोड़ की। प्रदर्शनकारियों ने पनीटोला के एक अन्य स्टेशन को भी निशाना बनाया है। केंद्र ने असम और त्रिपुरा में रेल सेवाओं को निलंबित कर दिया है। लंबी दूरी की ट्रेनों को गुवाहाटी और कामाख्या में रोक दिया गया है। उन्हें यहीं से चलाया जा रहा है। रेलवे सुरक्षा विशेष बल की 12 कंपनियों को तैनात किया गया है।

इस बीच, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों की लगभग 20 कंपनियों को (लगभग 2,000 जवानों को) शुक्रवार को असम जाने के लिए तैयार रखने का निर्देश दिया है। सूबे के 12 जिलों में मोबाइल इंटरनेट पर प्रतिबंध को 48 घंटे तक बढ़ा दिया, जबकि गुवाहाटी में अनिश्चितकालीन कर्फ्यू जारी है। हालांकि डिब्रूगढ़ और गुवाहाटी में शुक्रवार सुबह छह बजे से अपराह्न एक बजे तक कर्फ्यू में ढील दी गई है। आधिकारिक सूत्रों की मानें तो गैर-बीएसएनएल ब्रॉडबैंड सेवाओं को भी निलंबित कर दिया गया है।पूर्वोत्तर के अन्य राज्यों के साथ ही असम में भी बुधवार को अचानक विरोध प्रदर्शन तेज हो गया। आंदोलनकारियों से निपटने में विफल रहने पर असम के एडीजी (कानून व्यवस्था) और गुवाहाटी के पुलिस कमिश्नर तथा वहां को चारों डीसीपी को हटा दिया गया। उनके स्थान पर नए अधिकारियों की तैनाती की गई है। 

सूत्रों का कहना है कि जोरहाट में पुलिस ने कृषक मुक्ति संग्राम समिति (केएमएसएस) के प्रमुख अखिल गोगोई को गिरफ्तार किया है, जो विरोध प्रदर्शनों में शामिल प्रमुख संगठनों में से एक है। गोगोई को गोलाघाट से गुरुवार देर रात एक वरिष्ठ अधिवक्ता के घर से पुलिस ने गिरफ्तार किया है। राज्य के एक शीर्ष पुलिस अधिकारी ने कहा कि जमीन पर स्थिति “गंभीर” बनी हुई है। एक अन्य वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि ” गुवाहाटी की स्थिति नियंत्रण में है लेकिन पूरे राज्य में झड़पें हो रही हैं। गुवाहाटी के चांदमारी इलाके में आसू के नेतृत्व में सांस्कृतिक और शिल्पी समाज के लोग शुक्रवार तड़के से सड़क पर बैठकर शांतिपूर्ण तरीके से कैब का विरोध कर रहे हैं। एक पुलिस अधिकारी ने कहा, ” इससे पहले जहां कहीं भी बर्बरता की खबरें आई हैं, हम उन क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। हम भीड़ को तितर-बितर करने की कोशिश कर रहे हैं।” गुवाहाटी हवाई अड्डे पर एक अधिकारी ने कहा कि यात्रियों की आवाजाही के लिए बसों को तैनात करने से पहले प्रदर्शनकारियों ने वाहनों को क्षेत्र में प्रवेश करने से रोक दिया।

उधर, डिब्रूगढ़ में प्रदर्शनकारियों ने सांसद एवं केंद्रीय राज्य मंत्री रामेश्वर तेली और दो भाजपा विधायकों प्रशांत फूकन और बिनोद हजारिका के घरों पर आगजनी का प्रयास किया। उपद्रवियों को काबू में करने के लिए पुलिस ने हवाई फायरिंग की और जिले के विभिन्न अन्य स्थानों पर आंसू गैस का इस्तेमाल किया। अधिकारियों ने कहा कि तिनसुकिया, डिब्रूगढ़ और गोलाघाट के आरएसएस कार्यालयों पर भी उपद्रवियों ने हमला किया। डिब्रूगढ़ में एक कार्यालय के सामने कुछ मोटरसाइकिलों में आग लगा दी गई, जो आरएसएस से संबंधित लोगों की थीं। भाजपा विधायक प्रशांत फूकन ने कहा, “ घर पर हमले के दौरान कुछ कांच की खिड़कियां टूट गईं और एक कार की स्क्रीन टूट गयी। आंदोलन उपद्रवियों के हाथों में चला गया है, कोई नहीं जानता कि कौन क्या कर रहा है? ”

असम विधानसभा के स्पीकर हितेंद्र नाथ गोस्वामी, जो जोरहाट निर्वाचन क्षेत्र से भाजपा के विधायक हैं, ने कहा, “नागरिकता संशोधन विधेयक (कैब) राज्य के विभिन्न समुदायों के बीच नफरत पैदा करेगा। मैं यह बहुत पहले से कह रहा हूं।”गुवाहाटी में कर्फ्यू की अनदेखी कर हजारों लोग गुरुवार को लतासिल मैदान में इकट्ठा हुए, जहां छात्र नेताओं, कार्यकर्ताओं, सांस्कृतिक प्रतीक, बुद्धिजीवियों और वरिष्ठ संपादकों ने “शांतिपूर्ण और लोकतांत्रिक विरोध आंदोलन” जारी रखने पर जोर दिया। ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन (आसू) के सलाहकार और सभा के मुख्य आयोजकों में से एक, समुज्जल भट्टाचार्य ने कहा, “सांसदों ने इस विधेयक को वोटों के माध्यम से पारित किया। आज लोगों ने इसे अपने वोटों से खारिज कर दिया। उन्होंने कर्फ्यू का उल्लंघन किया और कैब को नकार दिया। उन्होंने कहा कि अब आगे का आंदोलन अहिंसक और अनुशासित होगा। हम अपने वकीलों के साथ चर्चा कर रहे हैं। उनकी सलाह के अनुसार हम कैब के मुद्दे पर अदालतों का रुख करेंगे। 

इस बीच, पड़ोसी मेघालय की राजधानी शिलॉन्ग में जिला प्रशासन ने अगले आदेश तक गुरुवार रात 10 बजे से लुमडिन्गजरी और सदर के दो पुलिस थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा दिया है। राज्य में गुरुवार शाम 5 बजे से 48 घंटों के लिए मोबाइल इंटरनेट और एसएमएस सेवाओं को निलंबित कर दिया गया है।

नसीब सैनी

Top News

मोदी सरकार पिता के साए जैसी : ‘विजय भवभारत’

भवभारत’ विदेश से लाए युवक ने कहा है कि ऐसी व्यवस्था तो उसने जर्मनी जैसे यूरोपीय देशों में भी नहीं देखी है। शख्स बता रहा है कि सरकार ने करीब 70 किलोमीटर दूर सभी पैसेंजर को कोरोन्टाइन किया है

विदेश से लाए युवक ने कहा है कि ऐसी व्यवस्था तो उसने जर्मनी जैसे यूरोपीय देशों में भी नहीं देखी है। शख्स बता रहा है कि सरकार ने करीब 70 किलोमीटर दूर सभी पैसेंजर को कोरोन्टाइन किया है । बिल्डिंग को लगातार सैनेटाइज किया जा रहाहै। उन्हें 24 घंटे की देख रेख में रखा है, जहॉं बेहतरीन सुविधाएँ हैं। भवभारत’ विदेश से लाए युवक ने कहा है कि ऐसी व्यवस्था तो उसने जर्मनी जैसे यूरोपीय देशों में भी नहीं देखी है। शख्स बता रहा है कि सरकार ने करीब 70 किलोमीटर दूर सभी पैसेंजर को कोरोन्टाइन किया है। बिल्डिंग को लगातार सैनेटाइज किया जा रहा है। उन्हें 24 घंटे की देख रेख में रखा है , जहॉं बेहतरीन सुविधाएँ हैं ।

विजय भव भारत का फेसबुक पेज, 24,000 से अधिक फौलोवेर्स.

जहाँ एक और पूरी दुनिया कोरोना (महामारी) से लडर ही है, हर देश इसकी रोकथाम में लगा हुआ है अपने नागरिकों के बचाव में हर कोशिश कर रहा है, वहीं भारत की कोशिशों की विश्वपटल सरहाना हो रही है। कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गॉंधी भले इस वैश्विक महामारी को मोदी सरकार पर हमले के मौके की तरह तलाश कर रहे हैं, लेकिन सोशल मीडिया में सरकार की तारीफ करते हुए कुछ लोगों ने जो आपबीती शेयर की है जो बेहद मार्मिक है। हालफिलाहल इटली से लाई गई एक युवती के पिता ने अपनी भावना साझा कि, वो सालों से सरकार की आलोचना कर रहे थे। लेकिन, अब उन्हें एहसास हो रहा है कि मोदी सरकार पिता के साए (fatherly figure) जैसी है। विदेश से लाए गए एक युवक ने कहा है कि ऐसी व्यवस्था तो उसने जर्मनी जैसे यूरोपीय मुल्कों में भी नहीं देखी है।टाइम्स ऑफ इंडिया के पत्रकार रोहन दुआ ने इटली से लौटी युवती के पिता का पत्र शेयर किया है। इस पत्र में उन्होंने इंडियन एंबेसी, भारत सरकार और विशेषत: नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया है। पिता के मुताबिक उनकी बेटी मास्टर की पढ़ाई करने इटली के मिलान गई थी। वहॉं हालात बिगड़ने पर उसे वापस लौटने को कहा। जब वह लौटने लगी तो उससे भारत वापस जाने का सर्टिफिकेट माँगा गया। न्होंने खुद इंडियन एंबेसी को संपर्क करने की कोशिश की। मगर मिलान में एंबेसी का कार्यालय बंद होने के कारण ऐसा नहीं हो पाया। उन्होंने इंडियन एंबेसी के अन्य लोगों को मेल के जरिए संपर्क किया और रात के 10:30 बजे उनकी बेटी ने फोन पर बताया कि उसकी बात दूतावास में हो गई है और वह अगली फ्लाइट से भारत लौट रही है।

पिता के मुताबिक, वे सालों से भारतीय सरकार को कोस रहे थे। लेकिन मोदी सरकार में पिता का चेहरा है। उन्होंने बताया कि उनकी बेटी 15 मार्च को भारत आई और आईटीबीपी अस्पताल में उसकी स्वास्थ्य संबंधी, खान-पान संबंधी सभी जरूरतों का ख्याल रखा गया। गौरतलब है कि इटली उन देशों में शामिल है जो कोरोना संक्रमण से सर्वाधिक प्रभावित हैं।

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार कोरोना वायरस के संक्रमण से निबटने के लिए सरकार ने 400 बेड का कोरोन्टाइन वार्ड तैयार करवाया है। यहाँ विदेश से लौटने वालों को सीधे दिल्ली एयरपोर्ट से लेकर जाया जाएगा। यहाँ इन सभी लोगों की 14 तक की निगरानी होगी और अगर इनमें कोरोना के लक्षण मिलते हैं तो इन्हें आइसोलेट कर छोड़ा जाएगा। ये कोरोन्टाइन वार्ड नोयडा के सेक्टर 39 में स्थित जिला अस्पताल की नई बिल्डिंग में बना है। यहाँ पर्याप्त संख्या में पैरामेडिकल स्टॉफ तैनात हैं।

Continue Reading

Top News

इन टीमों के जरिये समझिये समाज की सच्चाई को: ‘विजय भवभारत’

समाज की सच्चाई को दिखाने का बीड़ा उठाने वालों में से एक नाम ‘विजय भव भारत’ का भी है

21वीं सदी के दो दशक बीतते तक मीडिया को किस तरह से टुकड़े टुकड़े गैंग ने बर्बाद कर दिया और मीडिया ने किस तरह से समाज को बर्बाद किया, यह हम सभी जानते हैं और टुकड़े टुकड़े गैंग व् मीडिया में बैठे उनके नेटवर्क को भी हम समझ चुके हैं. उस नेटवर्क को तोड़ने और मीडिया में जमे इस कचरे की सफाई का जिम्मा जिनसोशल मीडिया के पोर्टलों ने ली है, उनकी श्रृंखला में एक और नाम की चर्चा इस लेख में हम करेंगे. इस बार चर्चा है फेसबुक कैलेंडर पेज –‘विजय भव भारत’ की

विजय भव भारत का फेसबुक पेज, 24,000 से अधिक फौलोवेर्स.

यूँ तो साहित्य समाज का दर्पण कहा जाता था और बाद में मीडिया ने इसकी जगह ले ली, मगर समाज की सच्चाई को समाज का यह दर्पण दिखा नहीं पाया और ख़बरों को व् समाज की सच्चाई को तोड़ मरोड़ कर पेश करने का आरोप मीडिया पर लगने लगा. ऐसे में समाज की सच्चाई को दिखाने का बीड़ा उठाने वालों में से एक नाम ‘विजय भव भारत’ का भी है.

विजय भव भारत

‘विजय भव भारत’ पेज का संचालन फेसबुक पर होता है, जहाँइसे फॉलो करने वाले 24,000 से भी अधिक लोग हैं. यह पेज जाना जाता है समाज में चलने वाले सकारात्मक कामों के प्रचार प्रसार के लिए, जो आम मीडिया कीनज़रों से दूर हैं. इसके साथ ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की गतिविधियों पर भी यह पेज नज़र रखता है, और उनसे जुडी तकरीबन हर जानकारी अपने दर्शकों तक पहुँचाता है. विजय भव भारत पेज का एक और काम 365दिनों के विशेष घटनाओं को अपने पेज से जनता तक पहुँचाना भी है. इसका एक नाम ‘कैलेंडर विशेष’ भी है. इनके अतिरिक्त समसामयिक घटनाओं पर पोस्ट व् विडियो डालना भी इस पेज का काम है.

सकारात्मक कामों का प्रचार प्रसार:

विजय भव भारत जिस काम में लगा है, शायद वह काम मीडिया का कोई भी तंत्र नहीं कर पायेगा क्योंकि इस काम में मीडिया को मसाला नहीं मिलेगा बल्कि मेहनत करनी पड़ेगी. मीडिया का एक तंत्र जहाँ केवल टीआरपी बढाने और ख़बर बेचने में लगा है, वहीँ सोशल मीडिया पर विजय भव भारत- दुनिया व् भारत की कुछ बेहतरीन सकारात्मक ख़बरें खोज कर ला रहा है और अपने पेज के माध्यम से साझा कर रहा है. सोशल मीडिया से नकारात्मकता हटाने का यह कदम सराहनीय है. समाज की यह सच्चाई जो छिपी हुई है, उसे खोज निकलने का यह काम विजय भव भारत कर रहा है.

कोरोना से बचाव के लिए दुनिया ने अपनाई भारतीय संस्कृति

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की गतिविधियों पर नज़र:                            दुनिया का सबसे बड़ा गैर सरकारी संगठन है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और समाज निर्माण के काम में इसके योगदान को नकारना मुर्खता होगी. महात्मा गाँधी जी से लेकर अन्य कई महापुरुष संघ के बारे में सकारात्मक विचार रख चुके हैं, ऐसे में इस संगठन के कामकाज पर भी नज़र रखे हुए है. इससे पहले कि मीडिया संघ के कामकाज को तोड़ मरोड़ का या अपने अनुरूप पेश करे, विजय भव भारत संघ के विशिष्ट स्त्रोतों से संघसे जुडी प्रमाणिक ख़बरें लेकर आता है और समाज से उसका क्या लेना देना है, यह भी स्पष्ट करता है.

विश्व के सबसे बड़े गैर सरकारी संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की गतिविधियों पर नज़र.

कैलेंडरविशेष दिन:

विजय भव भारत जिन महत्वपूर्ण सकारात्मक कामों में लगा हुआ है, उनमे से एक कैलेंडर विशेष दिन भी है. साल में 365 दिन होते हैं, और तकरीबन हर दिन महत्वपूर्ण होता है. उन सभी दिनों की विशेषता और महत्त्व बताने का काम भी विजय भव भारत करता है. चाहे किसी महापुरुष का जन्मदिन या पुण्यतिथि हो या कोई स्मरणीय घटना की बात हो, उनके महत्त्व को समझाने का काम भी विजय भव भारत करता है.

16 सितम्बर 1947, गाँधीजी द्वारा छूआछूत की समाप्ति पर राष्ट्रीयस्वयंसेवक संघ के काम पर चर्चा.

समसामयिक घटनाओं पर नज़र:

जब समाज में सकारात्मकता भरने का काम और समाज से नकारात्मकता हटाने का काम विजय भव भारत कर रहा है तो यह तो असंभव है कि ऐसे में समकालीन घटनाओं को न जोड़ा जाये. वर्तमान में घटने वाली हर घटना पर समाज की प्रतिक्रिया, सही ख़बर, तथ्य परक, और प्रमाणिक ख़बरें विडियो और पोस्टर के माध्यम से अपने फौलोवर्स तक विजय भव भारत पहुँचाता है.

राम मंदिर पर शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिज़वी का स्पष्ट बयान. 10 लाख से ज्यादा लोगों द्वारा देखा गया, 50 हज़ार से ज्यादा लोगों द्वारा साझा किया गया.

अपने इस प्रयास के माध्यम से विजय भव भारत ने सोशल मीडिया पर एक ऐसा विमर्श खडा किया है जो सकारात्मक है, प्रमाणिक है और नकारात्मकता को तोड़ने वाला है. जिन ख़बरों में मीडिया की दिलचस्पी नहीं होती मगर समाज के लिए आवश्यक है – उन्हें खोज कर लाने का काम यह पेज कर रहा है.

Continue Reading

Top News

दर्पण के ज़रिए समझिये समाज की सच्चाई

टुकड़े टुकड़े मीडिया की सफाई करने का यानि सोशल मीडिया पर फ़ैल रही नकारात्मकता, नफरत और झूठे विमर्श को ख़त्म करने का बीड़ा उठाया है

भारत जैसे बड़े देश में व् दुनिया भर में मीडिया को लोकतंत्र का चौथा अथवा महत्वपूर्ण स्तम्भ बताया जाता है. मीडिया मतलब हर वह माध्यम है जिससे जनता तक जानकारियाँ, विचार व् नीतियाँ पहुँच सके. इस मीडिया के तंत्र में समाचार पत्र, पुस्तक, पत्रिकाएं, टेलीवीजन, रेडियो, इन्टरनेट इत्यादि हैं. टीवी समाचार चैनल करीब 90 के दशक में भारत में आना शुरू हुए, उससे करीब 150 वर्ष पूर्व ही समाचार पत्र, पत्रिकाएं प्रचलित हो चुकी थीं और 90 के दशक तक समाज का दर्पण समाचार पत्र बन चुके थे. ‘राष्ट्र की आवाज़: समाचार पत्र’- ऐसे वाक्य प्रचलित हो चुके थे और जो समाचार पत्र कहे वही जन जन की आवाज़ है; ऐसा माना जाने लगा था. देश में टीवी समाचार चैनल और भी तेज़ी से स्थापित हुए और समाचार पत्र के पत्रकार व टेलीविजन चैनल के पत्रकारों ने मिलकर मीडिया की प्रमाणिकता को लगभग समाप्त कर दिया और अपने निजी स्वार्थ के चक्कर में देश का बंटाधार करने लगे और देश तोड़ने में लग गए. ऐसे में समय बीता और 21वीं सदी में सोशल मीडिया का आगमन हुआ. इन्टरनेट के काल में अब दुनिया समाचार इन्टरनेट से ही प्राप्त करती है और जनता आज स्वयं रिपोर्टर है. ऐसे अनेक स्टार्टअप लोगों ने खुद शुरू किये और जनता तक बात पहुँचाई; हालाँकि प्रमाणिक यह माध्यम भी बहुत ज्यादा नहीं है, मगर मीडिया की प्रमाणिकता जिस कारण समाप्त हुई उसका कारण बेईमानी और पैसों का शक्ति का लोभ है, जो आम जनता में नहीं होती, इसलिए यह मनना कठिन है कि लोग अपनी ख़बर बेचेंगे, बदलेंगे या उस ख़बर की नीयत बदल देंगे, जो काम मीडिया करती है. 

मीडिया में फैले इस कुकर्म से लड़ने का काम सोशल मीडिया से शुरू हुआ, और एक एक पत्रकार, एक एक प्रभावशाली व्यक्ति की पोल खुलनी शुरू हो गयी. मगर उन्हें बचाने के लिए सोशल मीडिया पर भी उन्मादी लोग आ गए और इससे पहले कि सोशल मीडिया पर भी ऐसा कचरा फैले, कुछ स्वायत्त मीडिया पोर्टल ने इन देश तोड़ने वाली गैंग के खिलाफ सफाई का बीड़ा उठाया है. उनमे से एक नाम है- एक दर्पण.

एक दर्पण एक मीडिया पोर्टल है, जो फेसबुक, इन्स्ताग्राम, ट्विटर व् हेलो एप्प पर उपलब्ध है. इस पोर्टल ने टुकड़े टुकड़े मीडिया की सफाई करने का यानि सोशल मीडिया पर फ़ैल रही नकारात्मकता, नफरत और झूठे विमर्श को ख़त्म करने का बीड़ा उठाया है, और उसके लिए तीन मुख्य कामों पर ध्यान दिया है: त्वरित प्रतिक्रिया, फैक्ट फाइंडिंग, स्मरणीय दिवस. फेसबुक पेज के माध्यम से सही सूचना जन – जन तक पहुँचाता है. इस पेज को लाइक और फॉलो करने वालों की संख्या इन सभी सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट पर 90,000 से अधिक है.

सोशल मीडिया के कचरे को हटाने वाला पोर्टल – एक दर्पण

95,000 से अधिक लोगों द्वारा फॉलो किया गया.

Quick Response: समाज की प्रतिक्रिया

एक दर्पण का सबसे पहला और महत्वपूर्ण काम है समाज में घटने वाली किसी भी घटना पर समाज की प्रतिक्रिया को रखना. समाज के मत को टुकड़े टुकड़े मीडिया तोड़ मरोड़ कर पेश करता है, जिससे समाज का असली भाव व् प्रतिक्रिया पता नहीं लग पाती. ऐसे में विमर्श बदल कर चलाया जाता है, जिसका नुकसान अंततः समाज को ही झेलना पड़ता है. इस समस्या से बचने के लिए ‘एक दर्पण’ त्वरित प्रतिक्रिया यानि quick response देता है यानि जो समाज का स्वर है उसी को आगे रखता है, कोई ग़लत ख़बर या विचार समाज में अगर चल रहा है, तो उस पर समाज का सही जवाब देना एक दर्पण का काम है. कोई देरी किये बिना ही टुकड़े टुकड़े गैंग के विमर्श को समाज की ओर से जवाब देना एक दर्पण की विशेषता है.

15 लाख से ज़्यादा लोगों द्वारा देखा गया, 36 हज़ार से ज्यादा लोगों ने साझा की पोस्ट.

Fact Finder: ख़बरों में फैले सचझूठ को सामने लाना

सोशल मीडिया के आने के साथ जहाँ कई अच्छी बातें आई वहीँ कई दुष्परिणाम भी सामने आये. जैसा कि ऊपर बताया भी हमने कि प्रमाणिकता की कमी तो सोशल मीडिया पर भी है, ऐसे में कोई भी झूठी ख़बर या ऐसी ख़बर चल पड़ती है जिसमें पूरी सच्चाई न हो. ऐसे में समाज भटक जाता है, जिससे अफवाह और दंगों की स्थिति पनपती है. इस परेशानी से लड़ने का भी बीड़ा ‘एक दर्पण’ ने उठाया है. फैक्ट फाइंडिंग यानि तथ्य परखने का काम भी एक दर्पण बखूबी निभा रहा है. ऐसे कई ख़बर व् वीडियों हैं जिनकी तथ्यपरकता एक दर्पण ने की है, और इस काम को आगे भी करता रहेगा.

जामिया के लाइब्रेरी विडियो के सत्य को बताता एक दर्पण

स्मरणीय दिवस: हमारे गौरवशाली दिवस

जिस इतिहास को और जिस गौरवशाली वर्तमान को आज टुकड़े टुकड़े मीडिया दिखाने से मना करता और जिससे बचता है, वह हमारी पिछली पीढ़ी को हमारा अभिवादन होगा और आने वाली पीढ़ी के लिए सीख होगी. ऐसे कई दिवस, कई महापुरुष, कई महत्वपूर्ण घटनाओं का स्मरण एक दर्पण अपने फ़ोटो, विडियो और टाइमलाइन के माध्यम से अपने दर्शकों तक पहुँचाता है.

गौरवशाली दिवस का स्मरण कराता एक दर्पण

इन सभी बातों को ध्यान में रखकर मीडिया के टुकड़े टुकड़े विमर्श को जवाब देने का काम और समाज के विचारों को स्थापित करने का काम एक दर्पण कर रहा है

Continue Reading

Featured Post

Top News6 महीना पूर्व

रॉबर्ट वाड्रा की गिरफ्तारी पर 5 फरवरी तक जारी रहेगी रोक

---हाईकोर्ट जस्टिस मनोज कुमार गर्ग की कोर्ट ने अधिवक्ता भंवरसिंह मेड़तिया के निधन के बाद कोर्ट में 3.45 बजे रेफरेंस...

Top News6 महीना पूर्व

बिजनौर कोर्ट शूटकांड : हाईकोर्ट ने डीजीपी और अपर मुख्य सचिव (गृह) को किया तलब

---दरअसल, बिजनौर में 28 मई को नजीबाबाद में हुई बसपा नेता हाजी अहसान व उनके भांजे शादाब की हत्या के...

Top News6 महीना पूर्व

निर्भया केस: दोषी अक्षय की पुनर्विचार याचिका खारिज, फांसी की सजा बरकरार

---सुप्रीम कोर्ट ने कहा-पुनर्विचार याचिका में कोई नए तथ्य नहीं, इसलिए ख़ारिज होने योग्य

Top News6 महीना पूर्व

कतर टी-10 लीग पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की आईसीसी ने शुरु की जांच

--उल्लेखनीय है कि कतर टी-10 लीग का आयोजन सात से 16 दिसम्बर तक कतर क्रिकेट संघ ने किया था

Top News6 महीना पूर्व

बिजनौर कोर्ट रूम में हुई हत्या मामले में चौकी प्रभारी समेत 18 पुलिसकर्मी सस्पेंड

---एसपी ने बताया कि कोर्ट में दिनदहाड़े कुख्यात बदमाश शाहनवाज की हत्या के बाद जजी परिसर में सुरक्षा की पोल...

Recent Post

Trending

Copyright © 2018 Chautha Khambha News.

Web Design BangladeshBangladesh online Market