Connect with us

पछिम बंगाल

आधार अनिवार्यता: ICERT डायरेक्टर बोले-जोखिम हमेशा रहेगा, जागरूकता जरूरी

Published

on

कोलकाता। बैंक खातों और मोबाइल नंबर के साथ आधार को अनिवार्य रूप से जोडऩे के संबंध में साइबर सुरक्षा जोखिमों और उसके शमन के उपायों के बारे में अधिक जागरूकता फैलाने की आवश्यकता है। भारतीय कम्प्यूटर इमरजेंसी रेस्पांस टीम के डायरेक्टर जनरल संजय बहल ने शुक्रवार को यह बात कही।

बहल ने इन्फोसैक फाउंडेशन द्वारा आयोजित साइबर सुरक्षा पर अंतर्राष्ट्रीय शिखर सम्मेलन के दौरान यहां संवाददाताओं से कहा कि जोखिम हमेशा रहेगा, इसलिए यह आवश्यक जागरूकता पैदा करने का प्रश्न है, यह लोगों, प्रक्रियाओं और प्रौद्योगिकी का संयोजन है। आपके पास तकनीक है, आपके पास सही स्थान पर प्रक्रियाएं हैं, लेकिन सबसे कमजोर कडी जनता है।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Top News

नागरिकता अधिनियम के खिलाफ आंदोलन थमा

–राज्य में 13 दिसम्बर से विरोध प्रदर्शन शुरू हुए थे

Published

कोलकाता,(नसीब सैनी)।

पश्चिम बंगाल में संशोधित नागरिकता अधिनियम के खिलाफ आंदोलन ठंडा पड़ गया। बुधवार अपराह्न  हिंसा की कोई ताजा घटना सामने नहीं आई। इससे कहा जा सकता है कि शुक्रवार से शुरू हिंसक विरोध प्रदर्शन छठे दिन बुधवार को खत्म हो गया।

माना जा रहा है कि अब पश्चिम बंगाल में ट्रेन सेवाएं सामान्य हो जाएंगी। मंगलवार रात हावड़ा जिले के उलूबेरिया में प्रदर्शनकारियों ने एक आईपीएस अधिकारी को निशाना बनाकर बमों से हमला किया। उसमें अधिकारी समेत तीन पुलिसकर्मी घायल हो गए। बुधवार सुबह से अपराह्न 1:00 बजे तक पूरे राज्य में कहीं से भी प्रदर्शन की सूचना नहीं है। राज्य में 13 दिसम्बर से विरोध प्रदर्शन शुरू हुए थे। पुलिस ने हिंसा के सिलसिले में 354 प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया है।

नसीब सैनी

Continue Reading

Top News

कोलकाता में भी हिंसक प्रदर्शन की आशंका, अधिकारियों की छुट्टियां रद्द

—प्रत्येक प्रशासनिक विभाग में हैवी रेडियो फ्लाइंग स्क्वाड को रखा गया है

Published

कोलकाता,(नसीब सैनी)।

नागरिकता संशोधन कानून और प्रस्तावित एनआरसी के खिलाफ अब राजधानी कोलकाता में भी हिंसक विरोध प्रदर्शन की आशंका प्रबल हो गई है। इसे देखते हुए लालबाजार पुलिस मुख्यालय से एक खास निर्देश जारी किया है। इसमें सभी अधिकारियों और कर्मचारियों की गैरजरूरी छुट्टियों को रद्द कर दिया गया है। इसके साथ ही महानगर के सभी 10 प्रशासनिक विभागों के उपायुक्तों और अन्य अधिकारियों को विशेष तौर पर सतर्कता बरतने को कहा गया है। कोलकाता पुलिस आयुक्त अनुज शर्मा ने सभी विभागों के डीसी को निर्देश दिया गया है कि वे अपने अपने क्षेत्रों में सूचना तंत्र को विशेष तौर पर मजबूत बनाएं ताकि किसी भी तरह के विरोध प्रदर्शन की योजना को पहले ही विफल किया जा सके। शहर के सभी प्रशासनिक विभागों में रिजर्व पुलिस बल को अलर्ट पर रखा गया है।

प्रत्येक प्रशासनिक विभाग में हैवी रेडियो फ्लाइंग स्क्वाड को रखा गया है। सभी थानों के प्रभारियों को निर्देश दे दिया गया है कि वह अपने अपने क्षेत्रों के सभी समुदायों के प्रतिनिधियों से लगातार संपर्क रखें और बैठक करें। कोलकाता पुलिस की कोशिश है कि महानगर में किसी भी तरह का प्रदर्शन शुरू होने से पहले ही उसके बारे में भनक लगते ही रोक लिया जाए। इसके मद्देनजर दिन-रात पुलिस के गश्ती दल लगातार गश्ती लगाने में जुट गए हैं। कहा गया है किसी भी तरह से कोलकाता में हिंसा बर्दाश्त नहीं की जाएगी। पुलिस को इस निर्देश के साथ तैयार रहने को भी कहा गया है। जो लोग भी छुट्टी के लिए आवेदन कर चुके हैं, उन्हें कहा गया है कि अगर अति आवश्यक ना हो तो हालात को समझते हुए वे अपनी छुट्टियां रद्द कर दें।

नसीब सैनी

Continue Reading

Top News

नागरिकता संशोधन कानून : बंगाल में चौथे दिन भी जारी है विरोध प्रदर्शन

–उल्लेखनीय है कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ गत शुक्रवार से ही विरोध प्रदर्शन और हंगामे की शुरुआत हो गई थी, जो शनिवार और रविवार तक जारी थी

Published

कोलकाता,(नसीब सैनी)।

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ चौथे दिन यानी सोमवार को भी विरोध प्रदर्शन जारी है। सोमवार सुबह के समय सियालदह दक्षिण शाखा में लोगों ने रेलवे पटरी पर बैठकर नारेबाजी और विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। झंडा बैनर पोस्टर लेकर इन लोगों ने ट्रेनों की आवाजाही रोक दी। इसकी वजह से यात्रियों को परेशानी में पड़ना पड़ा है। 

नारेबाजी कर रहे लोगों ने हल्दिया लोकल को रोक दिया था जिसके कारण करीब 2 घंटे तक पूरे रूट में लोकल ट्रेनें बंद थीं। एक्सप्रेस ट्रेनों को भी रोक देना पड़ा था। सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची राजकीय रेल पुलिस (जीआरपी) और रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) की टीम ने विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों को समझा-बुझाकर वहां से हटाया। उसके बाद ट्रेन सेवाएं सामान्य हो सकीं। हालांकि रुक-रुककर विरोध प्रदर्शन शुरू हो जा रहा है। इसके कारण लोग परेशानी में पड़ रहे हैं। 

उल्लेखनीय है कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ गत शुक्रवार से ही विरोध प्रदर्शन और हंगामे की शुरुआत हो गई थी, जो शनिवार और रविवार तक जारी थी। 3 दिनों तक लगातार आगजनी, तोड़फोड़ और हिंसक प्रदर्शन हुआ है। राज्य के 6 जिलों में पश्चिम बंगाल सरकार ने इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चेतावनी दी है कि जो लोग भी सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचा रहे हैं, उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई होगी। हालांकि विरोध प्रदर्शन नहीं थम रहा है। 

नसीब सैनी

Continue Reading

Featured Post

Top News10 महीना पूर्व

रॉबर्ट वाड्रा की गिरफ्तारी पर 5 फरवरी तक जारी रहेगी रोक

---हाईकोर्ट जस्टिस मनोज कुमार गर्ग की कोर्ट ने अधिवक्ता भंवरसिंह मेड़तिया के निधन के बाद कोर्ट में 3.45 बजे रेफरेंस...

Top News10 महीना पूर्व

बिजनौर कोर्ट शूटकांड : हाईकोर्ट ने डीजीपी और अपर मुख्य सचिव (गृह) को किया तलब

---दरअसल, बिजनौर में 28 मई को नजीबाबाद में हुई बसपा नेता हाजी अहसान व उनके भांजे शादाब की हत्या के...

Top News10 महीना पूर्व

निर्भया केस: दोषी अक्षय की पुनर्विचार याचिका खारिज, फांसी की सजा बरकरार

---सुप्रीम कोर्ट ने कहा-पुनर्विचार याचिका में कोई नए तथ्य नहीं, इसलिए ख़ारिज होने योग्य

Top News10 महीना पूर्व

कतर टी-10 लीग पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की आईसीसी ने शुरु की जांच

--उल्लेखनीय है कि कतर टी-10 लीग का आयोजन सात से 16 दिसम्बर तक कतर क्रिकेट संघ ने किया था

Top News10 महीना पूर्व

बिजनौर कोर्ट रूम में हुई हत्या मामले में चौकी प्रभारी समेत 18 पुलिसकर्मी सस्पेंड

---एसपी ने बताया कि कोर्ट में दिनदहाड़े कुख्यात बदमाश शाहनवाज की हत्या के बाद जजी परिसर में सुरक्षा की पोल...

Recent Post

Trending

Copyright © 2018 Chautha Khambha News.

Web Design BangladeshBangladesh online Market